बचपन में माँ बाप अपने बच्चों को पढ़ा लिखाकर उनकी ज़िन्दगी सँवारने की चाह में उन्हें हॉस्टल भेजते हैं, लेकिन वही बच्चे जब पढ़ लिख कर बड़े हो जाते हैं, तो वो अपने माँ बाप को उम्र के उस पड़ाव में “ओल्ड एज़ होल्म” यानी वृद्धाश्रम भेज देते हैं, जब उन्हें उन बच्चों की सबसे ज्यादा ज़रूरत होती है। बुढ़ापे में माँ-बाप को अपने बच्चों के प्यार, साथ और सम्मान की बहुत ज़रूरत होती है, लेकिन कुछ बच्चे इस बात को बिल्कुल नहीं समझते हैं। हमारे इस शो से उन सभी बच्चों को एक बहुत बड़ी सीख मिलेगी जो अपने माँ-बाप को बोझ समझते हैं। तो सुनिएगा ज़रूर।