पंचतत्व का अर्थ है, प्रकृति के पाँच तत्व। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, प्रत्येक मानव शरीर अनिवार्य रूप से पांच तत्वों से बना है जो पृथ्वी (भूमि), पानी (जल), आग (अग्नि), वायु (पवन) और स्पेस (आकाश) हैं। हिंदुओं का मानना ​​है कि मृत्यु पर मानव शरीर के इन सभी 5 तत्वों को प्रकृति के संबंधित तत्व में भंग कर दिया जाता है, ताकि यह प्रकृति के चक्र को संतुलित कर सके।