प्रेमचंद को आधुनिक हिन्दी कहानी का पितामह कहा जाता है। उनकी लेखनी तत्कालीन समाज की समस्याओं को उजागर करती थी। उनकी कहानियों में अधिकतर निम्न और मध्यम वर्ग का चित्रण रहा है। उनके जीवनकाल में नौ कहानी संग्रह प्रकाशित हुए। उनकी कुछ प्रसिद्ध कहानियां हम आपके लिए इस शो में लेकर आए है।