जब हमारा लल्लन अमेरिका पहुंच जाता है, तो वो अपने साथ देश को भी विदेश ले जाते है। खास बात है कि अमेरिका पहुंच चुका ललन जब भी अमेरिका से फोन कर अपनी मां को अपनी विदेश से जुड़ी कहानियां सुनाना चाहता है, तो मां की जगह हर बार फोन पर आ जाते है शुक्लाजी। लल्लन और शुक्लाजी के बीच हुई बातचीत को सुनकर आप भी लोट पोट हो जाएंगें।