किसी भी नौकरी में ग्रोथ मापने के लिए कुछ चुनिंदा पैरामीटर होते हैं। इनमें से सबसे पहला है सैलरी और दूसरा है आपकी डेसिग्नेशन (ओहदा)। यही वह फैक्टर है जो यह निश्चित करता है कि आप करियर में ग्रोथ कर रहे हैं या नहीं। अधिकांश लोग ऐसे हैं जिन्हें करियर में सैलरी की सही ग्रोथ नहीं मिल पाती मसलन कंपनी या तो उनकी सैलरी ही नहीं बढ़ाती या ना के बराबर बढ़ाती है। यदि आपके साथ भी करियर में ऐसा ही कुछ हुआ है तो यह आर्टिकल आपके ही लिए है। इस आर्टिकल के माध्यम से हम यह जानने की कोशिश करेंगे कि क्या करें जब लम्बे समय तक कंपनी सैलरी ना बढ़ाए।

डिस्कस करें

यदि अप्रेजल साइकिल में आपको इस बार भी कोई ग्रोथ नहीं मिली है तो इस संबंध में अपने मैनेजर के साथ स्पष्ट बात करें। चर्चा करें कि कमी कहां रह गई थी ? वह कौन से फैक्टर थे जिनके कारण आपकी सैलरी नहीं बढ़ी है। साथ ही यह भी पता करने की कोशिश करें कि आपके कलीग्स ने ऐसा क्या परफॉर्म किया था, जिसके चलते उन्हें ग्रोथ मिली है। अपने मैनेजमेंट से इस विषय में बात करने में कोई बुराई नहीं है बशर्ते आप पॉजिटिव रहकर अपनी बात रखें।

खुद को इवैल्युएट करें

क्या सैलरी नहीं बढ़ने से आपकी वित्तीय हालत ख़राब हो रही है ? या इसका आपके करियर की ग्रोथ पर कुछ नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है ? यह वह प्रश्न हैं जिनका सही और ईमानदार जवाब सिर्फ आप ही दे सकते हैं। इसलिए प्रयास करें कि इन सवालों का सही जवाब आपके पास हो। यदि सैलरी नहीं बढ़ने से आपके वित्तीय और करियर के मोर्चे पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ रहा है तो आप वर्तमान जॉब को कुछ दिन और खींच सकते हैं। लेकिन समझदारी यही होगी कि आप दूसरे विकल्प खोजना शुरू कर दें।

आपको किसने रोका है ?

सभी लोगों को अपनी कैपेसिटी और अंदर छिपे पोटेंशियल के बारे में पता होता है। आप जिस संस्थान में काम कर रहे हैं वहां यदि एक लंबे समय तक आपकी सैलरी नहीं बढ़ाई जा रही है तो इसका मतलब हुआ कि आप जानबूझ कर अपनी ग्रोथ पर ब्रेक लगा रहे हैं। ऐसे में अपनी बर्बादी के जिम्मेदार आप खुद हैं ना कि कोई और, इसलिए बेहतर होगा कि आप समय रहते अपने लिए बेहतर करियर ऑप्शन की तलाश करना शुरू कर दें।

जब सैलरी न बढ़े तो इन बातों पर करें विचार

कहीं कंपनी की माली हालत पतली तो नहीं?
कहीं कंपनी की माली हालत पतली तो नहीं?

Image Credit: bedfordviewedenvalenews

HR से चर्चा रहेगी अहम

जिस संस्थान में आप काम कर रहे हैं क्या वहां सिर्फ आपकी ही सैलरी होल्ड की गई है ? या और भी कई ऐसे लोग हैं जिनकी सैलरी ग्रोथ को रोका गया है ? इस विषय पर बात करने से आपको यह समझने में आसानी होगी कि कहीं खुद कंपनी की माली हालत तो पतली नहीं है। या सिर्फ चुनकर आपको टार्गेट किया जा रहा है। दोनों ही केसेज में आपके सामने पूरा कच्चा-चिट्ठा होगा जिसकी बिना पर आप आगे का निर्णय ज्यादा सटीकता से ले सकेंगे।

मार्केट वैल्यू पता करिए

भले ही आपकी सैलरी ना बढ़ी हो लेकिन इसका यह मतलब कतई नहीं है कि आपको काम नहीं आता। याद रखें कि सबके पास कुछ ना कुछ ऐसा हुनर होता है, जो उसे दूसरों से अलग बनाता है। आपको इसी हुनर को तराशना है। आप जिस भी सेक्टर में हों कुछ ना कुछ नया सीखना शुरू कर दीजिये, मार्केट पर पैनी नज़र रखिये और आपके सेक्टर में क्या नया हो रहा है इसकी पूरी जानकारी अपने पास रखिये। याद रखिये आपके पास जितनी स्किल्स होंगी आपकी मार्केट वैल्यू उतनी ही ज्यादा होगी और फिर बहुत हद तक संभव है कि आपको अपने करियर की एक बड़ी ग्रोथ मिल जाए।

This is aawaz guest author account