क्या आपको नौकरी से निकाल दिया गया है और अभी आप दूसरी नौकरी ढूंढ रहे हैं? क्या आप इस बात से परेशान हैं कि इस बात को अपने इंटरव्यू में बताए या ना बताए?

नौकरी से निकाला जाना किसी को भी पसंद नहीं है, लेकिन आप अकेले नहीं हैं, ऐसा कई लोगों के साथ होता है। इस बात से घबराहट होना भी जायज़ हैं, क्योंकि वाकई ये एक मुश्किल सवाल हो सकता है कि आप इस बात का खुलासा अपनी नई नौकरी के इंटरव्यू में करे या नहीं।

अगर आपको इंटरव्यू में ये पूछ ही लिया गया तो आप क्या करेंगे? क्या आप साफ़ साफ़ झूठ बोल देंगे, क्या आप पूरा सच बता देंगे, या क्या फिर आप ये बताएंगे कि आपके साथ गलत हुआ है?

कम बातों में बता दें

अपनी नौकरी से निकाले जाने वाली बात को कम शब्दों में कह दीजिये – इससे आप को झूठ भी नहीं बोलना पड़ेगा और ज़रूरत से ज़्यादा जानकारी भी नहीं देनी पड़ेगी। ज़्यादा सफाई पेश करने की ज़रुरत नहीं है, या ये सब कहने की ज़रुरत नहीं है कि आप सही थे और आपके बॉस गलत। सिर्फ इस बात का ही ज़िक्र कर दे कि आखिर आपको किस बात पर निकाला गया है और आगे बढ़ जाइए।

किसी के बारे में बुरा मत बोलिए

आपके साथ गलत हुआ है पर इसका मतलब ये नहीं कि आप लोगों के बारे में बुरा बोले। हो सकता है आप आराम से झूठ बोलकर भी अपना काम निकाल सकते हैं, लेकिन ये ध्यान रखिये कि हो सकता है, कि इंटरव्यू लेना वाला, आपके पुराने बॉस से खुद ही इस बारे में पूछ लें। ऐसे में हो सकता है कि आपका झूठ पकड़ा जाए।

anav-bhayana
सिर्फ पूछे जाने पर ही इसकी जानकारी दे लेकिन झूठ ना बोले

अनव भयाना चैटरबॉक्स कम्यूनिकेशन के संस्थापक हैं और उनके हिसाब से, जब तक आपसे खुद से पूछा ना जाये, तब तक आपको खुद से इस बारे में बताने की ज़रुरत नहीं है। अपने निकाले जाने की बात आपको खुद से शुरू नहीं करनी चाहिए। पर अगर आपसे इस बारे में पूछा गया, तो सहजता के साथ यह बता दीजिए कि किस बात पर निकाला गया, क्या क्या हुआ, क्यों हुआ, ये सभी जानकारी देने की कोई ज़रुरत नहीं। कुछ गलत बोलना या किसी को नीचा दिखाना सही नहीं होगा।”

आप अपने इंटरव्यू में अपने पिछले ऑफिस या बॉस के बारे में क्या बात करते हैं और कैसे बात करते हैं, इसका आपके इंटरव्यू के नतीजे पर काफी असर हो सकता है। अपने शब्दों को ध्यान से चुनिए और सच ही बोलें।