जब ऑफिस में आपके काम को महत्व ना दिया जाए या सराहा ना जाए तो काम में मन लगाए रखना मुश्किल बन जाता है। कई बार ऐसा भी होता कि पूरी रात जाग कर मेहनत आप करें और उसका क्रेडिट आपका सहकर्मी ले जाएं। कभी-कभार ऐसा भी होता है कि आपकी मेहनत और नेटवर्क की वजह से कंपनी के क्लाइंट्स बढ़ जाते हैं मगर उसका श्रेय कोई और लेकर चला जाता है। ऐसे में असंतोष महसूस होना स्वाभाविक है। लेकिन ऐसा अगर लगातार होता रहे तो काम पर से भी मन उठने लगता है। ऐसे में आप क्या कर सकते है जिससे काम पर आपको महत्व दिया जाए ?

हम आपके साथ कुछ ऐसे उपाय शेयर कर रहे हैं जिससे आपको काम पर अपनी पहचान बनाने में मदद मिलेगी।

जो आप सोच रहे हैं क्या सही है?

सबसे पहले आपको यह विचार करना चाहिए कि आप जो महसूस कर रहे है वो सही है भी या नहीं। ऐसा ना हो कि अपनी निजी अनुपलब्धियों के कारण आप ऐसा महसूस कर रहे हों। सोचिए कि क्या आपकी कंपनी उन में से हैं जो हर किसी को उनके काम का श्रेय देती है ? कुछ ऑफिस अकेले कर्मचारी की सफलता को भी एक टीम की सफलता के रूप में ही देखते हैं। यदि आपका ऑफ़िस भी इनमें से एक है तो आपको अपने अकेले के लिए प्रशंसा की अपेक्षा रखना बंद करना होगा। आपको यह सोचना होगा की कि क्या आपको सच में अपने किये काम के लिए महत्व नहीं दिया जाता या यह सिर्फ आपकी धारणा है।

एस.आर.वी मीडिया की अकाउंट मैनेजर रूचि दोशी कहती हैं, “सही ढंग से कंपनी के लिए मूल्यवान साबित होना ज़रूरी है और हमेशा जो महत्वपूर्ण काम है उसे करें। अपनी टीम के साथ संवाद कर काम पर हो रहीं कमियों को खोजें और फिर उन्हें सुधारने की कोशिश करें। अपने बॉस को हमेशा अपनी सफलताओं के बारे में सूचित करें।

बॉस से बात करें

ऊपर दिए गए उपायों को आज़माने के बाद भी यदि आपको लगता है कि ऑफ़िस में आपके काम को महत्व नहीं दिया जाता है तो अपने बॉस से इस बारे में बातचीत करें। बातचीत करते वक़्त इस बात का ध्यान रखें कि आपके बॉस को यह ना लगे कि आप सिर्फ तारीफ़ के भूखे हैं। बेहतर होगा कि आप उसे यह बताए कि आप किस चीज़ को सबसे बेहतर कर सकते हैं और किस फील्ड में आप अपने काम में सुधार करने की कोशिश कर रहे हैं। यदि आप दिल खोलकर पूरी सच्चाई के साथ अपने बॉस से बात करें तो यक़ीनन आपको उनसे कुछ महत्वपूर्ण बातें सीखने को ज़रुर मिलेंगी।

ऑफिस में ऐसा माहौल होना ज़रुरी है कि अच्छा करने पर आप अपने सहकर्मी की दिल खोल कर तारीफ करें

प्रशंसा करने पर प्रशंसा मिलेगी भी

सबसे पहले अपने सहकर्मियों द्वारा दिए गए योगदान की कदर कीजिये। जब आप खुद एक ऐसा माहौल बनाएंगे जहां लोग एक दूसरे के काम की प्रशंसा करें, तभी लोग आपकी मेहनत की भी कदर करेंगे। ऐसा करने के लिए बड़े-बड़े थैंक यू नोट्स लिखने की ज़रूरत नहीं होती। बस आप लोगों द्वारा की गयी मेहनत का श्रेय उन्हें दे दें, तो आप काम पर एक नए प्रकार का कल्चर बनाने में सफल हो जाएंगे।

इतने प्रयासों के बाद भी अगर आपको आपके काम के लिए श्रेय नहीं दिया जाता और आपके काम की कोई कीमत नहीं समझी जाती तो आपका दूसरी नौकरी ढूंढना ही बेहतर होगा। लेकिन अपनी नौकरी में मूल्यवान महसूस करना जितना आपके सहकर्मियों पर निर्भर करता है उतना ही आप पर खुद पर भी निर्भर करता है।