एक दिन ऐसा भी है जब छात्र अपने गुरु यानी शिक्षक को तोहफा देते हैं। इसे शिक्षक दिवस यानी टीचर्स डे के तौर पर मनाया जाता है। डा. सर्वपल्‍ली राधाकृष्णन के जन्मदिन 5 सितंबर को इस दिन को मनाया जाता है। हर स्टूडेंट को जब वो स्कूल में पढता है तो उसे टीचर बनने का शौक रहता ही रहता है। कई स्टूडेंट का सपना होता है कि वो आगे चलकर अपने ही टीचर जैसा एक बेहतरीन टीचर बन कर उभरे। अगर आप भी अपना करियर टीचर फिल्ड में बनाना चाहते हैं तो इस टीचर डे पर जाने कुछ अहम बातें।

टीचर बनने का गुरु मंत्र

एक शिक्षित समाज ही स्वस्थ समाज के रूप में उभर सकता है।
एक शिक्षित समाज ही स्वस्थ समाज के रूप में उभर सकता है।

आप सम्मान और आदर की नौकरी करना चाहते हैं यानी टीचर बनना चाहते हैं तो ऐसी कुछ बाते हैं, जिनके जरिये आपको यह मालूम हो जाएगा कि इस फील्ड में आने के लिए आपको क्या करना होगा। मीनू श्योराण पेशे से एक टीचर है जो सेंट जोसेफ हाई स्कूल में पढ़ाया करती थी, वो कहती हैं कि,”सबसे पहले ज़रूरी है कि ये जाने की टीचर बनने के लिए किसी विषय में सिर्फ कोर्स करना ही काफी नहीं है। इसके लिए आपको कुछ विशेष परीक्षाएं भी पास करनी होंगी। यह आप पर निर्भर करता है कि आप किस कक्षा के छात्र को पढ़ाना चाहते हैं और आपकी परीक्षा भी उसी आधार पर ली जाएगी जैसे टीजीटी और पीजीटी परीक्षा राज्य स्तर में आयोजित की जाती है। टीजीटी परीक्षा में आवेदन करने के लिए उम्मीदवार को ग्रेजुएट और बीएड होना अनिवार्य है और वही पीजीटी परीक्षा के लिए उम्मीदवार को पोस्ट ग्रेजुएट के साथ बीएड पास होना भी अनिवार्य है।”

नौकरी के अवसर

यदि उम्मीदवार टीजीटी परीक्षा उत्तीर्ण कर लेता है,तो वह शिक्षक के रूप में 6th क्लास से 10th क्लास के बच्चों को पढ़ा सकता है। यदि उम्मीदवार पीजीटी परीक्षा पास कर लेता है, तो वह 10th क्लास से 12th क्लास तक के बच्चों को पढ़ा सकता है। सबसे अच्छी बात है कि इस क्षेत्र में प्राइवेट और गवरमेंट दोनों ही सेक्‍टर्स में जॉब ऑप्‍शंस हैं। सरकारी संस्‍थानों के अलावा उम्‍मीदवार प्राइवेट स्कूलों से लेकर कोचिंग संस्थानों में भी जॉब कर सकते हैं। यही आप चाहते चाहे तो खुद का कोचिंग इंस्‍टीट्यूट खोल सकते हैं।

TET करें और बनाए अपना ब्राइट फ्यूचर

आप TGT ट्रेंड ग्रेजुएट टीचर (टीजीटी) के तहत कक्षा 1 से लेकर कक्षा 10 तक अध्यापन का कार्य कर सकते हैं।
आप TGT ट्रेंड ग्रेजुएट टीचर (टीजीटी) के तहत कक्षा 1 से लेकर कक्षा 10 तक अध्यापन का कार्य कर सकते हैं।

उम्मीदवार बीएड परीक्षा के बाद TET यानी कि Teacher Eligibility Test परीक्षा में भी भाग ले सकता है। यदि उम्मीदवार का अभी बीएड परीक्षा का रिजल्ट नहीं आया है तो भी उम्मीदवार परीक्षा में सम्म्लित हो सकते हैं। यदि उम्मीदवार टीईटी परीक्षा में पास हो जाते हैं तो उन्हें राज्य सरकार द्वारा कुछ निश्चित समय तक एक सर्टिफिकेट प्राप्त होता है। इस सर्टिफिकेट की अवधि लगभग 5 से 7 वर्ष तक होती है। इन वर्षों के दौरान ही उम्मीदवार टीचर भर्ती के लिए आवेदन कर सकते हैं। अगर उम्मीदवार को इस वर्षों के दौरान जॉब नहीं मिल पाती है तो उसे दोबारा TET परीक्षा देनी होगी, क्योंकि 7 साल बाद TET सर्टिफिकेट लैप्स हो माना जाएगा।

यूजीसी नेट

यदि उम्मीदवार कॉलेज में लेक्चरर की नौकरी चाहता है तो उस उम्मीदवार को यह परीक्षा पास करनी पड़ती है. UGC नेट की यह परीक्षा साल में दो बार दिसंबर और जून माह में आयोजित की जाती है. इस परीक्षा में तीन एग्जाम होते हैं. उम्मीदवार इंग्लिश या हिंदी में से किसी भी भाषा का प्रयोग करके UGC नेट की परीक्षा दे सकता है. पहले एग्जाम में सामान्य ज्ञान, टीचिंग एप्टीट्यूट, व् रीजनिंग से सम्बंधित प्रस्न पूछे जाते है और दूसरे व तीसरे एग्जाम में उम्मीदवार द्वारा चुने गए विषयों से सम्बंधित सवाल पूछे जाते हैं.

शुरुआती सैलरी

एजुकेशन कंसलटेंट, शिक्षा शोध, कंटेंट राइटर, अकादमिक काउंसलर जैसे पद पर भी काम कर सकते हैं
एजुकेशन कंसलटेंट, शिक्षा शोध, कंटेंट राइटर, अकादमिक काउंसलर जैसे पद पर भी काम कर सकते हैं

शिक्षकों को प्रारंभ में राज्यस्तरीय स्कूलों में आकर्षक सैलरी नहीं मिलती है. उनकी सैलरी 10-20 हजार के बीच में होती है. लेकिन अनुभव बढ़ने के साथ ही सैलरी काफी आकर्षक हो जाती है. वहीं, केंद्रीय स्कूलों और निजी स्कूलों में सैलरी काफी अच्छी है

हमें उम्मीद है कि हमारी ये बात आपके लिए ज़रूर सहायक होगी। आज टीचर्स डे पर सभी टीचर्स को हॉट फ्राइडे टॉक्स की तरफ से हैप्पी टीचर्स डे।

पहचान छोटी ही सही लेकिन अपनी खुद की होनी चाहिए। इसी सोच के साथ जीती हूँ।अपने सपनों को साकार करने की हिम्मत रखती हूं और ज़िन्दगी का स्वागत बड़े ही खुले दिल से करती हूँ। बाते और खाने की शौकीन हूँ । मेरी इस एनर्जी को चार्ज करती है, मेरे नन्ने बच्चे की खिलखिलाती मुस्कुराहट।