ऑफ़िस में काम का बढ़ता दबाव हर किसी के लिए परेशानी का सबब बन जाता है। कई बार आपकी मेहनत का श्रेय बॉस को मिल जाता है तो कभी कलीग से आपकी अनबन हो जाती है। वैसे प्रोफेशनल लाइफ में इन सब बातों से आए दिन स्ट्रेस होना तो आम बात है लेकिन अगर जॉब की वजह से आप हर दिन परेशान होने लग जाएं और मेंटली स्ट्रेस में रहें तो समझ लीजिए ये सही नहीं और इसका असर आपकी हेल्थ पर भी पड़ता है। जब लम्बे समय तक स्ट्रेसफुल जॉब सताने लगे और आपको अपने ऑफ़िस जाने का मन ना करे और न ही काम में लगे तो समझ लीजिए आपको जॉब बदल देना चाहिए क्योंकि इस बात का संकेत आपकी हेल्थ भी देती है। आइए आपको बताते हैं क्या हैं वो संकेत।

सिरदर्द: डॉक्टर आर.पी.पटेल के मुताबिक, ये सभी जानते हैं कि टेंशन से सिरदर्द की परेशानी होती है । अगर आप लगातार स्ट्रेस और चिंता से जूझ रहे होते हैं तो आप महसूस करेंगे कि आपकी गर्दन और सिर में लगातार दर्द हो रहा है। इसके अलावा आप ये भी नोटिस करेंगे कि अगर वर्कप्लेस पर नेगेटिव माहौल है तो आपको लगातार थकान लगेगी.भले ही आपने भरपूर नींद क्यों न ली हो, आपके बहुत ही भारीपन लगेगा और ऐसा महसूस होगा जैसे आप कई दिनों से नहीं सोये हैं। आपको शरीर के हर हिस्से में दर्द महसूस होगा क्योंकि स्ट्रेसफुल वातावरण में काम करने से बॉडी भी नेगेटिव संकेत ही देती है।

जब आप अपना काम एन्जॉय नहीं करते और काम आपको बोझ लगने लगता है तो आपका इम्यून सिस्टम भी कमजोर होने लगता है जिसकी वजह से आप जल्दी-जल्दी बीमार भी पड़ने लगते हैं। लगातार स्ट्रेस बने रहने से बॉडी नॉर्मल मौसम के बदलावों जैसे सर्दी-गर्मी भी नहीं झेल पाती और न ही एलर्जी से लड़ पाती है। नतीजतन आप जल्दी-जल्दी बीमार होने लगते हैं।

वर्कस्ट्रेस के संकेतों को पहचानिए

Symptoms-of-work-stress-500x360
नींद भी हो जाती है गायब

Image Credit: cdc.gov

अत्यधिक स्ट्रेस की वजह से नींद उड़ने लगती है,आपकी रातें करवट बदल-बदल कर बीत जाती हैं और इसके बाद जब आप अपने वर्कप्लेस पर पहुंचते हैं तो चिढ़-चिढ़ापन भी होने लगता है। आपका मेंटल स्ट्रेस दिन-ब-दिन बढ़ता ही जाता है और आपको कहीं भी सुकून नहीं मिलता, अंदर से बेचैनी होने लगती है।

सेक्स लाइफ पर भी पड़ता है असर: जी हां, अमेरिकन साईकोलॉजिकल एसोसियेशन के अनुसार, जब महिलाएं अत्याधिक स्ट्रेस से गुजरती हैं तो इससे उनकी सेक्स ड्राइव पर असर पड़ता है। वहीं इससे पीरियड्स के भी अनियमित होने का खतरा हो जाता है। कई बार बहुत लम्बे समय तक पीरियड्स नहीं आते या मिस भी हो जाते हैं क्योंकि ज्यादा स्ट्रेस से हार्मोनल बदलाव होते हैं।

अगर आपकी भी प्रोफेशनल लाइफ में भी यह संकेत नजर आ रहे हैं तो तुरंत अपनी जॉब बदलिए और पहले ब्रेक लेकर लाइफ में थोड़ा वक्त खुद निकालिए।

This is aawaz guest author account