स्मार्ट वर्क से ज़ाहिर होता है कि कोई भी व्यक्ति अपने काम को पूरी मेहनत के साथ करता है। इसलिए स्मार्ट वर्क करने वाला व्यक्ति हमेशा अपने लिए बड़े गोल्स रखता है। यही वजह है कि उसे अपने काम और करियर में हमेशा बेहतर परिणाम मिलते हैं। लेकिन सफलता की राह में स्मार्ट वर्क करने के गुर सभी नहीं जान पाते, जिसकी वजह से उन्हें वर्क प्लेस पर कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। यदि आप कंपनी में ऐसेट बन कर रहना चाहते हैं, तो स्मार्ट वर्क करने के इन तरीकों को ज़रूर अपनाएं।

सही वक्त पर सही काम

ना वक्त से पहले और ना वक़्त के बाद किया गया काम किसी काम का होता है

यदि आप स्मार्ट वर्क करना चाहते हैं, तो आपको सही समय पर सही काम करना होगा। इसके लिए ये बेहद ज़रूरी है कि आप इस बात को समझ सकें कि कंपनी को किस समय पर किस काम की ज़रुरत है। ना वक्त से पहले और ना वक़्त के बाद किया गया काम किसी काम का होता है, इसीलिए इसका निर्णय करने की क्षमता हर स्मार्ट वर्कर में होनी चाहिए कि कार्य को शुरू करने, उसे आगे बढ़ाने और पूर्ण करने का सही समय क्या है। इसलिए बेहतर है कि आप अपने काम के लिए समय सीमा निश्चित करें और अपने सीनियर की ज़रूरतों का समझें।

तैयार रहें रिज़ल्ट के लिए

हैदराबाद की जानीमानी कंपनी में एचआर के रूप में कार्यरत दीपिका सोनी की मानें तो कोई भी काम का रिज़ल्ट आपको मिलता ही है। चाहे वो अच्छा हो या बुरा, ये आपके काम पर निर्भर करता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप रिस्क ना लें। हमेशा अपने कम्फर्ट ज़ोन से बाहर आकर काम करने के लिए तैयार रहें। ये भी याद रखें कि बगैर रिज़ल्ट को ध्यान में रखकर किया गया काम आपको फायदा नहीं देता। इसलिए दिमाग में गोल सेट कर अपने काम को आगे बढ़ाएं।

वक्त का करें पूरा-पूरा इस्तेमाल

ज़रुरत पड़ने पर नियमित रूप से अपने काम का ब्यैरा सीनियर्स को दे पाएंगे

सफलता आपके कदम तब चूमती है, जब आप वक्त के पाबन्द बने रहते हैं। बिना अनुशासन के आप करियर में कुछ भी हासिल नहीं कर सकते। इसलिए हमेशा अपने और अपने काम के लिए डेडलाइन सेट करें और दैनिक रूप से टारगेट बनाकर चलें। ऐसे में आप वक्त पर अपना काम भी पूरा कर पाएंगे और ज़रुरत पड़ने पर नियमित रूप से अपने काम का ब्यैरा सीनियर्स को दे पाएंगे। इसी प्रैक्टिस को स्मार्ट वर्क में देखा जाता है।

बॉस से बनाए रखिये बातचीत

नौकरी के दौरान आपको अपने बॉस के साथ भी एक रिश्ता कायम करना होता है। जिसकी मदद से आप बॉस को समय-समय पर अपने काम के बारे में बता सकें। यदि आप बॉस से बातचीत नहीं रखते, तो आपका काम उनकी नज़र में नहीं आएगा। इसलिए बॉस से रोज़ाना कुछ देर के लिए बात कर लेनी चाहिए। यदि वो ज़्यादा बिज़ी हैं तो आपको 1 या 2 मिनट की भी छोटी मुलाकात कर लेनी चाहिए। इसके अलावा यदि वो ऑफिस में ना हो, तो मैसेज के ज़रिए बात की जा सकती है।

यदि आप भी इन टिप्स को फॉलो करते हैं, तो स्मार्ट वर्क की मदद से अपने करियर को ऊंचाइयों तक पहुंचा सकते हैं।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..