यदि आप एक कंपनी में बतौर इंटर्न काम कर रहे हो और आपको अपने काम में मज़ा भी आ रहा हो और अपनी सभी फुल-टाइम काम करने वाले सहकर्मियों के साथ आपका रिश्ता अच्छा हो।

ऐसे में यदि आपका बॉस आपकी इंटर्नशिप के पूरे होते ही, आपको उसी कंपनी में फुल-टाइम जॉब ऑफर करें, तो यह कितनी ख़ुशी और गर्व की बात होगी।

लेकिन अब सवाल यह खड़ा होता है कि क्या आपको अपने बॉस को इस जॉब के लिए हां कह देनी चाहिए या फिर पहली दूसरी जगहों को देखकर, परखकर और अपने काम को समझकर फिर किसी नतीजे पर पहुंचना चाहिए।

कंपनी के बारे में जानकारी होना अनिवार्य है

ऐसा हो सकता है कि कंपनी में इंटर्नशिप करने के बावजूद आप उसके फुल-टाइम काम करने के तरीके और अन्य चीज़ों के बारे में विस्तार से ना जानते हो। इसीलिए अपने काम से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातों को आपको पहले ही जान लेना चाहिए। जैसे कि कम्पनी में एक कर्मचारी को क्या लाभ मिलते है, आपको कितने घंटे काम करना होगा, काम ज़्यादा होने पर क्या आपको वीकेंड्स पर घर से ही काम करना होगा आदि। साथ ही अपने बॉस और कंपनी की अहम पॉलिसीज़ के बारे में भी जान लें।

फुल-टाइम कर्मचारियों से सलाह लेना, कंपनी के एच आर से बात करना और कितने फुल-टाइम कर्मचारी कंपनी को छोड़कर जा रहें हैं, ये सभी बातें आपको एक नतीजे पर पहुंचने में मदद करेगी।

“कंपनी नई हो या पुरानी, उसके बारे में जितनी हो सके उतनी जानकारी लेनी चाहिए।”

Image Credit: malaika puri

‘चैटरबॉक्स कम्यूनिकेशन’ की इंटर्न मलाइका पुरी का मानना है कि इंटर्नशिप पूरी होने के बाद अपने लिए नौकरी चुनने से पहले, कंपनी के बारे में जितनी हो सके उतनी जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए। इससे आप यह समझ पाएंगे कि क्या आप किसी और डिपार्टमेंट या किसी और पद पर तो काम नहीं करना चाहते। और तो और ऐसा ज़रूरी नहीं कि जितना मज़ा आपको एक इंटर्न की तरह काम कर के आया, उतना ही मज़ा आपको एक फुल-टाइम कर्मचारी की तरह काम करके भी आए क्योंकि एक फुल-टाइम कर्मचारी बनने के बाद आपके काम में काफी सारे बदलाव आएंगे। इसीलिए अच्छे से विचार विमर्श करने के बाद ही अपने लिए नौकरी चुने।

पता करें कि आपकी रूचि किस में हैं ?

अपने लिए नौकरी खोजने से पहले, यह समझ लें कि आप किस किस्म का काम करना चाहते है। क्या आप अपने काम के ज़रिये कुछ सीखना चाहते हैं, क्या आप समय से बंधे हुए हैं, क्या आपको शहर के किसी विशेष हिस्से में नौकरी करनी है, क्या आप पहले जैसा काम ही करना चाहते हैं या फिर किसी और क्षेत्र में अपनी किस्मत आज़माना चाहते हैं ? जिस दिन इन सारे सवालों का जवाब आप ढूंढ लें और आपको पता चल जाए कि किस किस्म के काम में आपकी रूचि है, उस दिन आपको अपने लिए नौकरी खोजने में आसानी हो जाएगी।

ध्यान रखें कि आप जो भी करें, उसमे ज़्यादा समय ना लगाएं। इसके अलावा, यदि आप उस जगह पर काम से खुश हैं और आपको ऐसा लगता है यहां आपके सीखने के लिए बहुत कुछ होगा, तो बेशक उसी कंपनी में काम करना जारी रखें।