आज के ज़माने में काम करने के तरीके बदल चुके हैं। जहां एक तरफ ऐसे लोग हैं जो एक साथ बहुत से काम करते हैं, वहीं दूसरी तरफ ऐसे भी लोग है, जो घर पर बैठे-बैठे ही बहुत सी कंपनियों के लिए काम करते हैं। कुछ ऐसे लोग होते हैं जो अपनी मर्ज़ी से किसी भी समय ऑफिस आते हैं, तो कुछ लोग आलस की वजह से ऑफिस आते ही नहीं हैं। आज के दौर में आपने अक्सर लोगों को ऑफिस टाइमिंग्स के सिलसिले में चर्चा करते हुए सुना होगा। देखा जाए तो आपको एक दिन में केवल 7-8 घंटे तक काम करना चाहिए। लेकिन ऐसी बहुत सी कंपनियां हैं जो आपसे ज़्यादा समय के लिए काम करवाती है। जहां आज ज़्यादातर एम्प्लॉईज़ अपने काम के घंटों को कम करवाना चाहते हैं, वहीं यह भी ज़रुरी है कि इसका प्रभाव काम की प्रोडक्टिविटी पर नहीं पड़ना चाहिए। चलिए देखते हैं कि यह कैसे संभव है।

प्रोडक्टिविटी ज़्यादा और बेहतर परिणाम

लंबे समय और कड़ी मेहनत से काम करने से ज़रूरी नहीं कि परिणाम अच्छा हो, लेकिन इतना तय की इससे आपको अनचाहा तनाव हो सकता है।

Image Credit: Pexels.com

ऐसा ज़रूरी नहीं कि अगर आप दिन में ज़्यादा घंटो के लिए काम करते हैं, तो आपका काम अच्छा होता है। लेकिन कम घंटो के लिए काम करने से आपके काम का परिणाम अच्छा होने की संभावना बढ़ जाती है क्योंकि आपका फोकस काम से हटता नहीं है। काम में फोकस बहुत ज़रूरी होता है। थोड़ी सी चतुराई और फोकस के साथ आप अपने काम में प्रोडक्टिविटी ला सकते हैं। ज़्यादा घंटो के लिए काम करने से आप ना सिर्फ अपने काम से बोर जाते हैं, बल्कि काम से आपका फोकस भी हटता है, जिस कारण आपके काम में प्रोडक्टिविटी नहीं दिखती है। कम घंटों के लिए काम करने से एम्पलॉईस खुश रहते हैं, अपने काम से बोर नहीं होते हैं और उनके काम का परिणाम भी बेहतर होता है।

तनाव का कम होना

कम घंटों के लिए काम करने का सबसे बड़ा फायदा है कि आपको काम से जुड़ा कम से कम तनाव झेलना पड़ता है। कम घंटों के लिए काम करने का मतलब है कि आपको शारीरिक और मानसिक रूप से तनाव कम होता है। साथ ही, आपके पास अपने परिवार और दोस्तों को देने के लिए बहुत समय होता है। अक्सर काम और पर्सनल लाइफ के बीच संतुलन ना रख पाना, तनाव का सबसे बड़ा कारण होता है। इसका इलाज है – हमारे नियमित काम के घंटों को घटा देना।

अपना और कंपनी का फायदा करें

कैसा होगा जब आपका और कंपनी, दोनों का फायदा एक साथ हो। इतना ही नहीं, पूरे ऑफिस का फायदा हो।

Image Credit: Pexels.com

केवल आप ही नहीं, बल्कि आपकी कंपनी भी एम्प्लॉईज़ के काम में बढ़ती क्वॉलिटी और प्रोडक्टिविटी देख खुश होगी। ऐसा तभी मुमकिन हैं जब काम के घंटे कम हो। इसके अलावा, कम घंटों के लिए ऑफिस में काम करने से बिजली और अन्य रिसोर्सेज़ का भी कम उपयोग होगा, जो पर्यावरण के लिए भी अच्छा है। कम घंटो के लिए काम करने से आपको तनाव भी कम होगा, जिसके कारण आप खुद तो मानसिक और शारीरिक रूप से खुश रहेंगे ही और अपने परिवार को भी खुश रख सकेंगे। इसलिए कम घंटों के लिए काम करने से हर तरह से फायदा ही फायदा है।

तो आज ही अपने ऑफिस में ऑफिस टाइमिंग्स को कम करने की मांग करें।