किसी भी नौकरी को पाने के लिए आप कड़ी मेहनत करते हैं और इसके लिए आप इंटरव्यू की तैयारी में खुद को तैयार करते हैं। लेकिन इससे पहले आपको किसी भी कंपनी में रिज़्यूमे भेजने की ज़रूरत पड़ती है, यही रिज़्यूमे पक्का करता है कि आप कंपनी द्वारा बुलाए जाएंगे या नहीं। इसका मतलब यह है कि आपके द्वारा भेजे गए रिज़्यूमे का सही होना बेहद ज़रूरी है। आज हम आपको रिज़्युमे बनाने के आसान टिप्स से रूबरू करवाएंगे, जिनकी मदद से आप आसानी से नौकरी के लिए अप्लाई कर पाएंगे।

मुंबई में एचआर पद पर कार्यरत दीपिका सोनी कहती हैं कि रिज्यूमे बनाने से पहले हमेशा ध्यान रखें कि आप किन बातों को इसमें जोड़ रहे हैं, क्योंकि इसमें क्रम के अनुसार जिन बातों को आप जगह देंगे, उसी के मुताबिक रिक्रूटर आपकी काबिलियत को पहचानेगा। इसलिए रिज़्यूमे बनाने से पहले ये ध्यान रखें कि आपको किन बातों को इसमें जोड़ना है। इन सभी विषयों को सबसे पहले एक साथ नोट कर लें। इस जानकारी में पर्सनल डीटेल्स के अलावा करियर के टारगेट, आपका इंटरेस्ट और आपकी पर्सनल जानकारी आदि होगी। इन नोट्स को बनाने के बाद आप रिज़्यूमे बनाना शुरू कर सकते हैं।

निजी जानकारी

इंट्रोडक्शन के बाद आपको सबसे पहले एकेडमिक क्वालिफिकेशन को लिखना चाहिए

रिज़्यूमे बनाने की शुरुआत करने के बाद सबसे पहले आपको आपके पर्सनल डिटेल्स देने होंगे, जिसमें आपका मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, नाम व पता इत्यादि होंगे। इसके बाद अपने करियर और उसे लेकर आपके क्या विचार हैं, इसके बारे में डिस्क्रिप्शन लिखें। इस डिस्क्रिप्शन में आप अब तक किन जगहों पर और कौन सी पोस्ट पर काम कर चुके हैं, इसके बारे में जानकारी दें। इसके बाद आपको क्रमशः करियर को लेकर अन्य जानकारी देनी है।

एकेडमिक क्वालीफिकेशन

इंट्रोडक्शन के बाद आपको सबसे पहले एकेडमिक क्वालिफिकेशन को लिखना चाहिए। जिसमें परीक्षाओं और उनमें मिले मार्क्स या परसेंटेज या ग्रेड्स के बारे में जानकारी हो। इसमें बेसिक पढ़ाई के बाद डिग्री और पोस्ट ग्रेजुएशन तक की जानकारी देनी चाहिए ।

अन्य क्वालिफिकेशन

बेसिक क्वालिफिकेशन की जानकारी देने के बाद आपको खास क्वालिफिकेशन के बारे में जानकारी देनी चाहिए। जिसमें किसी प्रकार का डिप्लोमा, सर्टिफिकेट कोर्स या क्रैश कोर्स के बारे में जानकारी दे सकते हैं। इसके अलावा आप अपनी विशेष योग्यताओं से संबंधित जानकारी भी इस भाग में लिख सकते हैं। लेकिन ध्यान रखें अगर क्वालिफिकेशन के दौरान उन बातों को ही दर्ज करें, जो आपकी नौकरी से संबंधित हो।

वर्क एक्सपीरियंस

संस्थानों में किए गए आपके कार्य को लेकर ऐसी जानकारियों को जोड़ें

ये भाग आपके रिज़्यूमे के लिए बेहद ज़रूरी है। इसमें आपको अपने वर्क एक्सपीरियंस को लेकर ब्यौरा देना चाहिए। ध्यान रहे कि आपको उन अनुभवों के बारे में लिखना है, जो आपके करियर से संबंधित हो। इसमें मात्र अहम जानकारी दें। इसके अलावा संस्थानों में किए गए आपके कार्य को लेकर ऐसी जानकारियों को जोड़ें, जो आपकी आने वाली नौकरी में सहायक हो सकती हैं।

एक्स्ट्रा एक्टिविटी

अंत में आपके काम के अलावा आप एक्स्ट्रा एक्टिविटी को भी जोड़ सकते हैं, जिसमें खेल, पेंटिंग, सिंगिंग जैसे जानकारी होगी। इस तरह क्रमशः अपना रिज़्यूमे बनाने पर रिक्रूटर को आपके बारे में जानकारी हासिल करने में आसानी होगी। ध्यान रखें कि आपके रिज़्यूमे में कोई भी जानकारी गलत ना हो, क्योंकि इसके बारे में रिक्रूटर आपसे कोई भी सवाल कर सकता है।

इस तरह रिज़्यूमे बनाना आपके लिए फायदेमंद होगा।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणीप्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..