पुरानी नौकरी छोड़ कर नई नौकरी शुरू करना किसी के लिए भी आसान काम नहीं है। हमारे करियर में कई बार हमें नौकरियां बदलनी पड़ती है और इसी से हमारे करियर की ग्रोथ का भी पता चलता है। अक्सर ऐसा होता है कि नई नौकरी के ऑफर लेटर के आने के बाद हम तुरंत हां कह देते हैं। लेकिन नयी नौकरी में आपको कई चैलेंज आपकी राह में मिलते हैं, इसीलिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। यदि आप नयी नौकरी जॉइन करने जा रहे हैं, तो ये टिप्स आपके काम आ सकती है।

बॉस से करें रोज़ बात

बॉस के साथ आपके रिश्ते की एक नई शुरुआत होगी

 

मुंबई की जानीमानी कंपनी में एचआर के पद पर कार्यरत निशा कुमार कहती हैं, “जब आप किसी पुरानी नौकरी को छोड़ कर नई नौकरी में अपने पहले दिन की शुरुआत करते हैं, तो आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बॉस ही आपको पूरी टीम से रूबरू करवाएगा। इसीलिए नौकरी के पहले सप्ताह आपको रोज़ाना बॉस से जाकर ज़रूर मिलना चाहिए। यदि वो ज़्यादा बिज़ी हैं तो आपको 1 या 2 मिनट की भी छोटी मुलाकात कर लेनी चाहिए। इसके अलावा यदि वो ऑफिस में ना हो, तो मैसेज के ज़रिए बात करें। ऐसा करने से बॉस के साथ आपके रिश्ते की एक नई शुरुआत होगी। इस दौरान आप अपने काम को लेकर उनसे बातचीत कर सकते हैं और नए काम को लेकर आप की क्या सोच है यह उन्हें बता सकते हैं।”

खुद के लिए बनाएं टारगेट

जॉब की शुरुआत में ही आपको टारगेट्स नहीं दिए जाते, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपने काम को सीरियसली ना लें। पिछले जॉब में मिले अनुभव के आधार पर आप नए काम को देखते हुए अपने लिए खुद टारगेट सेट कर सकते हैं। इस तरह टारगेट सेट करने पर आप को काम को लेकर परेशानी नहीं होगी और खुद की प्रोग्रेस के लिए जल्द से जल्द काम शुरू कर पाएंगे।

नोट्स लें

नई कंपनी में जाने के बाद आपको नयी बातें सीखने का मौका मिलेगा। इसीलिए नयी जानकारी पर हमेशा नोट्स लेते रहे। नयी जानकारी हमेशा आपको याद नहीं रहती, ऐसे में जब भी कोई महत्वपूर्ण बात आपको बताई जाए, तो आप अपने ईमेल या नोटबुक में इसे नोट करते रहे। शुरुआत में आप जब भी कोई सवाल पूछे, तो उसे कंपनी से जुड़ा हुआ होना चाहिए। शुरुआती दिनों में मिलने वाली जानकारियां आपके बेहद काम आएगी, इसीलिए अपने फोन पर ही सही जानकारियों को नोट करते रहे।

लाइमलाइट में ना आएं

यदि अपने हाल ही में नई जॉब शुरू की है, तो लाईमलाईट से बचना आपके लिए बेहद ज़रूरी है। ऑफिस में लोगों के बीच किसी भी विषय पर अपने विचार एग्रेसिवली ना रखें और सोच समझ कर बोलें। शुरुआती समय में हमेशा ज्यादा सुनने और कम बोलने की आदत डालें। ज्यादा बातें करने से लोग आपको बनावटी और बातूनी समझ सकते हैं, जो आपके लिए ठीक नहीं होगा। लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं है कि आप डेस्क से उठे ही ना। नौकरी के शुरू में आपको लोगों से मिलने की ज़रूरत होती है, इससे कलीग्स के साथ आपका पर्सनल बॉन्ड बनता है।

पॉलिटिक्स से बचें

पॉलिटिक्स की वजह से दो अलग-अलग टीमों में लोग बंट जाते हैं

 

कई बार कंपनी में पॉलिटिक्स की वजह से दो अलग-अलग टीमों में लोग बंट जाते हैं, ऐसे में ऑफिस पॉलिटिक्स से दूर रहना और किसी भी एक टीम का हिस्सा ना बनना आपके लिए ज़रूरी होगा। ध्यान रखें कि किसी को भी अपना दुश्मन ना बनाएं, क्योंकि ऐसा करने से आगे चलकर लोग आपकी बातों का गलत फायदा उठा सकते हैं और आपके करियर को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

कंपनी कल्चर सीखें

किसी भी नए ऑफिस को जानने के लिए उसके वर्क कल्चर को समझना बेहद ज़रूरी होता है। कंपनी के वर्क कल्चर को समझ लेने के बाद आप आसानी से लोगों के बीच घुल मिल सकते हैं और बॉस से बातचीत करके कंपनी में अच्छा परफॉर्म कर सकते हैं। इसीलिए अपने सीनियर्स की मदद से और बॉस की सहायता से कंपनी के कल्चर को समझें। यदि फिर भी आप किसी चीज़ को ना समझ पाए, तो कंपनी के एचआर की मदद ज़रूर लें। वह कंपनी को लेकर ज़रूरी बातें आपको ज़रूर बताएगा।

इस तरह नयी कंपनी में जॉब की शुरुआत करने से पहले इन सभी बातों को ध्यान में रखना आपके लिए फ़ायदेमंद होगा।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..