क्या आपका पाला कभी भी एक ऐसे बॉस या मैनेजर से पड़ा है, जो आपको कभी छुट्टी नहीं देता? उनके पास हमेशा आपकी लीव एप्लीकेशन को ठुकरा देने का कोई ना कोई कारण होता है, जैसे ऑफ़िस में काम बहुत ज़्यादा है या कोई अन्य कर्मचारी पहले से ही छुट्टी पर है। ऐसी स्थिति में लगता है जैसे जान-बूझकर आपकी छुट्टी आपसे छीन ली गयी है।

छुट्टी की अत्यंत ज़रूरत होने पर जब आप एक नकली सिक लीव के लिए बॉस से बात करने जाते हैं, तो कर्कश आवाज़ में बात करने का नाटक करना शुरू कर देते हैं। पर क्या ऐसा करना सही है। जिस छुट्टी के आप हकदार है, उसी के लिए यदि आपका बॉस इनकार कर दे तो क्या आप इस तरह का नाटक करने का जोखिम उठा पाएंगे ?

सबसे पहले तो काम की ज़िम्मेदारियां सर पर होने के बावजूद छुट्टी पाने के लिए इस तरह का नाटक करना बच्चों जैसा लगता है और दूसरी बात, सिक लीव मिलना बिल्कुल आसान नहीं होता है क्योंकि हर ऑफ़िस अपने कर्मचारी की बीमारी को ध्यान में रखते हुए छुट्टी प्रदान करता है, चाहे फिर वो सिक लीव हो या कोई अन्य छुट्टी। इसलिए नकली सिक लीव की मांग करते समय इस बात को ध्यान में रखियेगा कि आप ना केवल अपनी एक छुट्टी ले रहे हैं, बल्कि भविष्य में मेडिकल इमरजेंसी के लिए उपलब्ध छुट्टियों का उपयोग कर रहे हैं।

छोटी कम्पनी में कर्मचारियों पर भरोसा कर उन्हें सिक लीव्स दी जाती है। लेकिन कुछ कम्पनीज़ डॉक्टर की तरफ से मेडिकल नोट मांगती है ताकि वह सुनिश्चित कर सकें की उनके कर्मचारी से उनसे झूठ तो नहीं बोला है। अगर कोई कर्मचारी झूठ बोलकर सिक लीव लेता है तो उसका परिणाम अच्छा नहीं होता है।

सबसे महत्वपूर्ण चीज़ है कि आप किस कारणवश छुट्टी की मांग कर रहे हैं ? यदि आप सिर्फ इसीलिए छुट्टी लेना चाहते हैं क्योंकि आप कुछ समय के लिए काम से छुटकारा चाहते हैं, तो यह छुट्टी मांगने का कोई सही कारण नहीं है। लेकिन यदि आपको किसी प्रकार की चोट लगी है और फिर भी आपका बॉस आपके दर्द को नहीं समझता तो आपको एक सिक लीव की मांग ज़रूर करनी चाहिए।

स्पाईस्ट्री डिज़ाइन एजेंसी की चीफ विसुअलाइज़र, श्रुति राजपारा कहती हैं, “कभी ना कभी हर कर्मचारी का मन करता है कि वे किसी बीमारी का बहाना बनाकर छुट्टी लें और घर पर आराम करें। कुछ हद तक यह आपके और आपके बॉस या सीनियर्स के बीच के रिश्ते पर भी आधारित होता है। मेरी राय में, आपको सिक लीव का बहाना दिए बिना, सच बोलकर, अपनी छुट्टी का असली कारण ही बता देना चाहिए। इसे एक जोखिम भरा काम ना बनाए क्यों एक झूठ दूसरे 100 झूठ को जन्म देता है। इसीलिए यदि आप भविष्य में किसी के भी शक के निशाने पर आने से बचना चाहते हैं तो झूठ बोलकर कभी भी छुट्टी की मांग ना करें। ”

आखिर में यह आपके अपने निर्णय पर निर्भर करता है। अगर आप बीमार ना होने के बावजूद सिक लीव की मांग कर रहे हैं तो आपके झूठ को वास्तविक दिखाना बहुत ज़रूरी है ताकि आगे चलकर आप पकड़े ना जाए।