रामपुर, उत्तर प्रदेश के छोटे से गांव से निकला एक नौजवान सपनों की नगरी मुंबई में अभिनेता बनने आया था, लेकिन आज वो एक मेकअप आर्टिस्ट। महेंद्र सिंह धोनी और सचिन तेंदुलकर का मेकअप करने से लेकर लैक्मे फैशन के लिए मेकअप करने तक, करन इंडस्ट्रीज़ के उन्ही स्ट्रगलर्स में से हैं, जो धीरे-धीरे केवल अपनी मेहनत के दम पर आगे आते हैं। आज हम ऐसे ही एक मेहनती सेलिब्रिटी मेकअप आर्टिस्ट, करन सिंह के सफर के बारे में आपको इस लेख में बताएंगे।

मुंबई आना नहीं था आसान

मेकअप आर्टिस्ट नहीं बनना चाहते थे करन

आज टीवी की दुनिया में काम करते करन, दरअसल, एक ऐसे हैं गाँव से हैं जहां टीवी भी नहीं हुआ करता था। अपने गांव से कुछ किलोमीटर दूर बसे एक बड़े गाँव में जाकर सबके साथ मिलकर उन्हें टीवी देखना पड़ता था। पढ़ाई में बचपन से अच्छे करन को लेकिन मुंबई की ग्लैमर और सुपरस्टार्स की इंडस्ट्री बेहद आकर्षित करती थी। छोटी उम्र से ही वो अपना करियर इस क्षेत्र में बनाने का मन बना चुके थे। करन की मानें तो, “ पिताजी के साथ खेती के लिए भी नहीं जाता था। सुबह-शाम, दिन-रात पढ़ता ही रहता था। मैं चाँद की रोशनी में पढ़ता था। मैंने पहले अपनी पढ़ाई पूरी की और फिर अपना करियर बनाने के लिये अपने बड़े भाई के पास मुंबई आ गया। जहां मेरे भाई के दोस्त ने मुझे मेकअप आर्टिस्ट की नौकरी करने के लिए कहा। मेकअप आर्टिस्ट, पहले तो यह काम सुनकर मैंने तुरंत ही मना कर दिया, लेकिन फिर 5-6 महीनों के बाद जब मैं अपनी पढ़ाई पूरी कर मुंबई आया तो मैं उस समय के सबसे बड़े मेकअप आर्टिस्ट माने जाते सुभाष शिंडे से मिला। वो धोनी का मेकअप कर रहे थे। मैं इतना प्रेरित हुआ कि मैं तुरंत मान गया।”

सचिन तेंदुलकर के मेकअप के बाद चल पड़ी गाड़ी

3 साल असिस्ट करने के बाद आज वो खुद के प्रोजेक्ट लेते हैं

टीवी और फिल्मों के बड़े-बड़े कलाकारों के लिए करते हैं मेकअप
टीवी और फिल्मों के बड़े-बड़े कलाकारों के लिए करते हैं मेकअप

दरअसल, बिना किसी ट्रेनिंग के जहां इस इंडस्ट्री में जगह बनाना मुश्किल है, वहीं शुरुआत में करन ने सुभाष शिंडे को ही तीन साल तक असिस्ट किया और फिर साल 2012 उन्होंने स्वतंत्र रूप से मेकअप करने की शुरुआत की। खास बात है खुद का काम शुरु करते साथ ही उन्हें सबसे पहला मौका मास्टर ब्लास्टर यानी सचिन तेंदुलकर का मेकअप करने से मिला। उनके लिए उनका यह पहला प्रोजेक्ट काफी लकी साबित हुआ। करन की मानें तो, “एड फिल्म की शूटिंग के लिए मैंने सचिन का मेकअप किया था। उसी दौरान मीडिया ने सचिन की बहुत सी तस्वीरें खींची थी।उन तस्वीरों में सचिन का मेकअप करते हुए मैं भी कैप्चर हो गया था और मेरी भी तस्वीर सचिन के साथ कई अखबारों के पहले और दूसरे पन्ने पर छप गई थी। जिसके बाद मुझे बहुत सी एड फिल्म्स और प्रोजेक्ट्स मिलने लगे। मुझे 2016 में लैक्मे फैशन वीक के लिए मेकअप करने का भी मौका मिला। उस साल मैंने मनीष मल्होत्रा, अनिता डोंगरे और सब्यसाची जैसे 3-4 बड़े-बड़े फैशन डिज़ाइनर्स के लिए मेकअप किया था।”

लक्मे फैशन वीक के लिए काम
लक्मे फैशन वीक के लिए काम

Image Credit: Instagram

मेकअप इंडस्ट्री में काम कमाना चाहते लोगों को सलाह

उनके परिवार को आज तक नहीं पता कि करन क्या करते हैं

हैरानी की बात यह है कि इतने बड़े मेकअप आर्टिस्ट बनने के बावजूद आज तक करन के भाई के अलावा, उनके पूरे परिवार को नहीं पता कि वे असल में क्या काम कर रहे हैं। करन के अनुसार उनके परिवार को यह बात समझाना मुश्किल है कि आखिर एक मेकअप आर्टिस्ट होता क्या है और वे लोग कितना कमा सकते हैं। सभी उभरते ,मेकअप आर्टिस्ट्स के लिए करन कि सलाह हैं, “एक अच्छे इंस्टिट्यूट से मेकअप के बारे में पढ़ाई करना जितना ज़रुरी है, उतना ही महत्वपूर्ण है प्रेक्टिकली मेकअप करना। मैं भी ‘करन मेकअप अकादमी नामक खुद का इंस्टिट्यूट चलाता हूं, जहां मैं किताबी ज्ञान से ज़्यादा लोगों से मेकअप करवाने में विश्वास रखता हूं।”

ज़ाहिर है कि कई सालों की मेहनत के बाद करन की सारी मेहनत, स्ट्रगल धीरे-धीरे रंग ला रहा है। कुछ सालों पहले मुंबई में कुछ बनने का सपना लेकर आए करन के आखिर कई सपने अब पूरे हो चुके हैं। खास बात है कि आज इस ग्लैमर इंडस्ट्री में कई बड़े नाम ना सिर्फ उन्हें पहचानते हैं, बल्कि उनकी कोशिश होती है कि वो करन से ही अपना मेकअप करवाए।

अपने सपनो को पूरा करने की ताक़त रखती हूँ। अभिलाषी हूं और नई चीज़ों को सीखने की इच्छुक भी। एक फ्रीलान्स एंकर। मेरी आवाज़ ही नहीं, बल्कि लेखनी भी आपके मन को छू लेगी। डांसिंग और एक्टिंग की शौक़ीन। माँ की लाड़ली और खाने की दीवानी।