कई बार लोगों को स्टेज पर जाकर पब्लिक से बात करने में असुविधा होती है और यही वजह है कि वे अपने विचारों को पेश कर पाने में असफल हो जाते हैं। जो लोग अपनी बात ऑफिस, दोस्तों और रिश्तेदारों के सामने नहीं रख पाते, ऐसे लोगों को पब्लिक स्पीकिंग का फोबिया होता है। लेकिन यही फोबिया उनकी उनके करियर में सफलता के बीच आ जाता है, इसीलिए अगर आपको सफलता हासिल करनी है, तो आपको लोगों से बात करनी होगी और अपने विचार उनके सामने रखने होंगे।

ऐसे कुछ तरीके हैं जिससे आप पब्लिक स्पीकिंग फोबिया को दूर कर सकते हैं। आइए जानते हैं इससे जुड़ी टिप्स के बारे में।
विषय के बारे में पढ़ें: मुंबई की फेमस मोटिवेशनल स्पीकर सुधा वाजपेयी इस विषय पर कहती हैं कि ‘बोलने का मतलब यह नहीं कि आप स्टेज पर जाकर कुछ भी बोल दें। आप जिस विषय पर बोलना चाहते हैं उसके बारे में अच्छी तरह से पढ़ ले। याद रखें कि जिस विषय पर आपको बोलना है, उस विषय पर आप जितना अध्ययन करेंगे, आप उतने ही बेहतर तरीके से उसके बारे में लोगों को बता सकेंगे। साथ ही जितना आप उस विषय के बारे में पढ़ेंगे, आपका आत्मविश्वास उतना ही बढ़ेगा।’ इसीलिए बोलने से पहले किसी भी विषय के बारे में अच्छी तरह से जानकारी ले लें।
प्लान बनाएं: बोलने से पहले आपको एक अच्छी प्लानिंग की ज़रूरत होती है, जिससे आप अपने विचार सही रूप में और अच्छे ढंग से पेश कर सकें। आप यदि किसी की के सामने ऑडियो या विजुअल का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो इसके लिए आपको खुद को तैयार करना होगा। इसीलिए अपने प्रेजेंटेशन को अच्छी तरह से तैयार करें और उसे अच्छी तरह से पढ़ लें।
अपने प्रेजेंटेशन को अच्छी तरह से तैयार करें और उसे अच्छी तरह से पढ़ लें
ठहर कर बोलें: प्रेजेंटेशन के टाइम अगर आप तनाव महसूस कर रहे हैं और यदि आप उस विषय को लेकर कंफ्यूज हैं, तो कुछ समय का पॉज़ ले लें, या कहें कि कुछ देर के लिए ठहर जाएं। अक्सर लगातार बोलने पर आप विषय से हटकर किसी और विषय पर बोलने लगते हैं। इसीलिए इस स्थिति से बचने के लिए आपको बोलते वक्त कुछ समय का ठहराव ज़रूरी है।
सवालों के लिए रहें तैयार: किसी भी विषय में बात करते वक्त आपको लोगों के सवालों के लिए तैयार रहना चाहिए। इसीलिए विषय के बारे में सही जानकारी होना ज़रूरी है, जिससे आप लोगों के सभी सवालों के जवाब सही तरह से दे सकें। यदि आप किसी भी विषय के बारे में आधा अधूरा ज्ञान लेकर जाएंगे, तो इन सवालों से आपको नर्वसनेस हो सकती हैं।
बोलते वक्त अपनी सांसो को कंट्रोल करें
परेशान ना दिखें: कोई भी इंसान परेशान होकर लोगों के सामने अजीब हरकत कर सकता है। यही वजह है कि लोग नर्वसनेस में अजीबो-गरीब बातें बोल जाते हैं और इसी वजह से डर उनके चेहरे पर साफ दिखाई देता है। इसीलिए बोलते वक्त अपनी सांसो को कंट्रोल करें, जिससे आप ना तो नर्वस दिखेंगे और ना ही आपका डर चेहरे पर दिखाई देगा। नर्वस होने से बचने के लिए आपको ब्रीथिंग एक्सरसाइज़ की ज़रूरत होगी, जो आप बोलते वक्त कर सकते हैं।

इन टिप्स को आज़मा कर आप भी पब्लिक स्पीकिंग के डर को दूर भगा सकते हैं।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..