काम से जुड़ा प्रेज़ेंटेशन देते वक़्त अक्सर आपको नर्वस या डर महसूस हो सकता है, ख़ासतौर पर अगर आप इनसे पहली बार मिल रहे हैं।

हो सकता है आपने बहुत अच्छा प्रेज़ेंटेशन तैयार किया है, पर फिर भी आपकी दर्शक उसमें उतनी दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं, या फिर ऊब रहे हैं।

ऐसे में कुछ ऐसे तरीक़े हैं जो आपके काम आ सकते हैं।

1. ऐसा कुछ कीजिये जो चौंका दे

कई बार प्रेज़ेंटेशन के बीच में आने तक दर्शक बोर हो जाते हैं। ऐसे में आपको ऐसा कुछ करना चाहिए जो उन्हें चौका दे, जिससे उनका ध्यान वापस आ जाएगा। ये कुछ भी हो सकता है – स्लाइड पर एक अजीब सी तस्वीर, कोई आवाज़ या म्यूज़िक, या कुछ भी ऐसा जो उनका ध्यान वापस प्रेज़ेंटेशन पर ले आये।

 

2. उन्हें कहानी सुनाइये

Nupur-Aggarwal's-500x360
कहानियों का सहारा लीजिये

कौन कहता है कि कहानियां सिर्फ सोते वक़्त या बचपन में ही सुनी जाती हैं? ये एक ऐसा तरीक़ा है जिससे आप आसानी से अपनी बात लोगों तक पहुंचा सकते हैं, और उनकी दिलचस्पी भी बरकरार रहेगी। अपनी बात को कहानी की तरह सुनाइये लेकिन याद रहे कि उसमें तथ्य सही हो।

नूपुर स्टोरीवालाज़ की संस्थापक हैं जो बैंगलोर में स्थित है। ये कहानियों के माध्यम से लोगों को प्रेरित करता है और उन्हें अलग अलग चीज़ें सीखने का मौका देता है, जो उनके निजी और काम से जुड़े ज़िन्दगी में काम आ सकता है। अपने काम के सिलसिले में वो अक्सर अलग अलग तरह के क्लाइंटज़ से मिलती हैं। हालांकि वो काफी वक़्त से ये कर रही हैं, वो कहती हैं कि ऐसा अभी भी होता है कि वो कोई प्रेज़ेंटेशन दे रही हैं और दर्शक अपनी दिलचस्पी खोने लगते हैं। ऐसे में आप को भी ठीक से अपना काम करने में दिक्कत आती है, ख़ास तौर से अगर आपको ऐसा लगे कि आपकी दर्शक आपकी बातों में कोई दिलचस्पी नहीं ले रही। जब ऐसा होता है, तब मैं प्रेज़ेंटेशन छोड़कर उनसे बात करने लगती हूं, उनकी बात और प्रश्नों को समझने की कोशिश करती हूं और नए से अपना प्रेज़ेंटेशन पेश करती हूं।

 

3. दर्शक को भाग लेने के लिए उत्साहित करें

अगर आप अकेले ही बात करते रहेंगे, ये ध्यान दिए बिना कि दर्शक का रवैया कैसा है, तो ऐसे में आप लोगों को बोर कर देंगे। ज़रूरी है कि अपने प्रेज़ेंटेशन में ऐसी कुछ चीज़ें रखें जिससे दर्शक भी भाग ले सकते हैं, जैसे कि मज़ेदार सवाल जवाब, ग्रुप बनाकर मज़ेदार काम करना आदि।

 

4. सोचने दीजिये कि चल क्या रहा है

सारी जानकारी शुरू में देने के बजाये कुछ चीज़ों को बाद के लिए बचाकर रखिये। लोगों को अनुमान लगाने दीजिये कि आप जो कहना चाह रहे हैं वो आखिर क्या होगा। छोटी छोटी बातों पर ध्यान दें और उन्हें मिलाकर कुछ बड़ा और दिलचस्प बनाइये।

हर तरह का प्रेज़ेंटेशन हर तरह के क्लाइंट के लिए काम नहीं करेगा, इसलिए ज़रूरी है कि आप पहले ये समझिये कि आपको किससे बात करनी है और क्या समझाना है, और उसी तरह अपना प्रेज़ेंटेशन बनाइये।