हर एम्प्लॉई का अपने बॉस के साथ एक अलग रिश्ता होता है। कुछ बॉस अपने एम्प्लॉईज़ के साथ एकदम सख्त पेश आते हैं, तो कुछ उनके साथ एक दोस्त के समान रिश्ता बनाए रखते हैं। इसके अलावा आप में से कुछ एम्प्लॉईज़ ने ऐसे बॉस के साथ भी काम किया होगा जो अपने एम्प्लॉईज़ से अनावश्यक उम्मीदें लगाए बैठते हैं।

सैंड्रा बुलॉक ने अपने एम्प्लॉई रयान रेनॉल्ड्स को उनसे शादी करने के लिए कहा था ताकि वह अपने देश से निकाले जाने से बच सके
सैंड्रा बुलॉक ने अपने एम्प्लॉई रयान रेनॉल्ड्स को उनसे शादी करने के लिए कहा था ताकि वह अपने देश से निकाले जाने से बच सके

Image Credit: TheProposal

अक्सर बॉस आप पर बहुत सारा काम एक साथ थोप देते हैं और आपसे उम्मीद करते हैं कि आप वो सारा काम कम से कम समय में पूरा करें। साथ ही वो यह भी चाहते हैं कि आप अपने काम से अलग, किसी अन्य डिपार्टमेंट के काम में भी अपना योगदान दें। क्या आप जानते हैं कि जब बॉस आपसे इस तरह की अपेक्षाएं रखें, तो आपको क्या करना चाहिए?

जब आपका बॉस काम खत्म करने लिए बहुत कम समय दे

यदि आपका बॉस आपको एक साथ बहुत सारा काम सौंपकर यह कहें कि आपको उसे कल तक पूरा करना है, तो बिना किसी झिझक के आप सबसे पहले यह सोचे कि क्या वाकई में वो काम कल तक पूरा हो सकता है या नहीं? यदि आपको लगता है कि बॉस का दिया गया यह काम रात भर जागकर भी पूरा नहीं हो पाएगा, तो अपने बॉस से साफ़-साफ़ कह दें कि आप इस काम को कल तक पूरा नहीं कर पाएंगे। आप उन्हें यह कहकर मदद मांगे कि या तो आपके साथ एक और एम्प्लॉई को शामिल करें या फिर काम पूरा करने के लिए आपको थोड़ा और समय दें।

जब आपके बॉस आपको आपके काम से अलग कोई अन्य काम दें

जब आपके बॉस आपको आपके डिपार्टमेंट से अलग किसी अन्य डिपार्टमेंट के काम के लिए योगदान देने के लिए कहें, तो बिना डरे उन्हें बता दे कि आप अपने काम में ही बहुत व्यस्त हैं और कोई अन्य काम करने के लिए समय नहीं निकाल पाएंगे। आप उन्हें यह भी समझा सकते हैं कि यदि आप कोई और काम हाथ में लेते हैं, तो उससे आपके काम और आपकी टीम पर प्रभाव पड़ेगा।

जब आपका बॉस आप से बेवजह ओवरटाइम करने के लिए कहें

यदि आपके बॉस आपको ऑफ़िस के बाद भी, यानी छुट्टियों में या ऑफ़िस खत्म होने के घंटों के बाद भी आपको फ़ोन कर काम से जड़ी बातों के लिए परेशान करता हैं, तो आपको बहुत स्पष्ट रूप से उन्हें यह बात समझानी होगी कि वो काम के लिए आपको अपनी मर्ज़ी के मुताबिक़ परेशान नहीं कर सकते हैं। बड़ी विनम्रता से उन्हें यह बता दें कि ऑफ़िस के बाद का समय आपके परिवार और दोस्तों का होता है।

ब्रांड कम्युनिकेशन एक्जीक्यूटिव, शिवांगी पाठक, कहती हैं, “अपने बॉस को पहले से ही अपनी परिस्थिति समझाना बेहतर होता है। आपका अपने बॉस को यह समझना ज़रूरी है कि कुछ कामों को पूरा करने में निश्चित रूप से समय लगता है, इसलिए उन्हें उसी हिसाब से आपको समय देना चाहिए, वरना या तो काम अधूरा रह जाता है या फिर अच्छे से पूरा नहीं हो पाता है।”

हालांकि, अपने काम और पर्सनल लाइफ के बीच लिमिटेशंस बनाना जितना आसान होता है, उसे निभाना उतना ही मुश्किल बन जाता है। लेकिन यदि आप चाहते हैं कि आप बिना किसी तनाव के अपना काम कर पाएं, तो आपको इन लिमिटेशंस को निभाना चाहिए। लेकिन हां, एक ऐसे बॉस से हमेशा संभलकर रहें, जो अपने एम्प्लॉईज़ से बेवजह उम्मीदें लगाता है।