आज के ज़माने में ऐसा लगता है कि हर कोई अपना खुद का ब्रांड बनाना चाहता है, जिसकी वजह से प्रतियोगिता भी काफी बढ़ गई है।

अगर आपको हर रोज़ की ९ से ५ की नौकरी करने का मन नहीं है या अगर आप में ऐसा कुछ काम करने की इच्छा है, जो आपका हो तो मेहनत और काम के लिए अभी से तैयार हो जाइए, क्योंकि इसी से शुरू होगी आपकी आंत्रप्रेन्योर या व्यवसायी बनने की कहानी।

कबीर भसीन ने पहली बार २०११ में फर्लेन्को को स्थापित करने के लिए काम करना शुरू किया था। ये एक ऐसा माध्यम है जिसपर आप किराए पर फर्नीचर ले सकते हैं। “ड्रीम इट, डू इट” (सपने देखो, पूरा करो) – ये है कबीर का मंत्र और इसी मंत्र से उन्होंने ना सिर्फ अपने काम को पहचान दी, बल्कि दूसरों को भी अपने काम में आगे बढ़ने में मदद की।

kabir-bhasin
“ड्रीम इट, डू इट” (सपने देखो, पूरा करो) – ये है कबीर का मंत्र

फिलहाल कबीर ईस्ट लाइफस्टाइल के सी.ई.ओ. हैं, फर्लेन्को के सी.ई.ओ. और संस्थापक हैं और ऐसी अन्य चीज़ों के साथ भी जुड़े हुए हैं। एम.बी.ए. करने के बाद से ही कबीर को खुद का कुछ शुरू करने का मन था। कबीर कहते हैं कि उन्होंने काफी चीज़ों में शुरुआत तो की पर वह चल नहीं सका।

कबीर का कहना है कि अपना ब्रांड शुरू करना एक बहुत बड़ी बात है और आपको ये पता होना भी बहुत ज़रूरी है कि आपके बाज़ार में कौन कौन प्रतियोगी हैं और वो किस तरह का काम कर रहे हैं। जब कबीर फर्लेन्को शुरू करने जा रहे थे, तो उन्हें सबसे ज़्यादा दिक्कत इस बात से हुई थी कि बाज़ार में ऐसा कोई और नहीं था, जो किराए पर फर्नीचर देता हो। यही वजह है कि उन्हें हर चीज़ के बारे में खुद ही पता करना पड़ा, चाहे वो डिज़ाइन हो, मटेरियल हो, ग्राहक हो या कुछ और ही क्यों ना हो।

आप कितनी भी तैयारी कर लीजिये, वो कम ही होगी

कबीर कहते हैं कि अगर आपको आंत्रप्रेन्योर बनना है तो एक प्लॉन होना बहुत ही ज़रूरी है। नए काम में कहीं से भी मुश्किलें आ सकती हैं, इसलिए हमेशा तैयार रहना बहुत ज़रूरी है। कबीर ये भी मानते हैं कि दूसरों के साथ मेल जोल रखना या नेटवर्किंग करना बहुत ज़रूरी है, क्योंकि इससे आपके काम में फायदा हो सकती है, लेकिन ज़रुरत रहे तो ही ऐसा कीजिए, बिना वजह नहीं।

खुद का बॉस होना यानी अपना रूटीन बनाना

आपकी मेहनत के साथ एक और चीज़ जो उतनी ही ज़रूरी है, वो है एक रूटीन में रहना। अनुशासन में रहने से आप अपने काम को बढ़ता देख सकेंगे, और अगर कोई मुश्किल भी आई, आप उससे जूझने के लिए भी तैयार रहेंगे।

इन टिप्स से सहायता हो सकती है

कबीर मानते हैं कि इन चीज़ों को करने से आज वो सफल हुए हैं:

  • ठीक से रिसर्च कीजिए
  • देखिये ऐसा क्या है जो आप मार्किट में नया कर सकते हैं
  • छोटे छोटे कदम से शुरू कीजिये

कुछ शुरू करना जितना मुश्किल है, उसे करते रहना उससे ज़्यादा मुश्किल है। धीरज और अनुशासन रखने से आप आने वाली मुश्किलों से ज़्यादा अच्छा निपट सकते हैं।