पढ़ाई के बाद हर छात्र नौकरी की तलाश करता है, लेकिन अच्छी जगह नौकरी पाने के लिए उसे मेहनत करनी होती है। इसीलिए नौकरी पाना आसान नहीं माना जाता। अगर आपको किसी बढ़िया जगह नौकरी करनी है, तो सबसे पहले वर्क एक्सपीरियंस मांगा जाता है। ऐसे में इंटर्नशिप करने से आपको फायदा मिलता है। अगर आप भी इंटर्नशिप की तलाश कर रहे हैं, तो इससे पहले आपको इन जरूरी टिप्स को जरूर पढ़ना चाहिए।इन टिप्स की मदद से आप बेहतरीन इंटर्नशिप हासिल कर सकते हैं।

प्लानिंग करें

मुंबई में एचआर पद पर कार्यरत पूजा सांघवी कहती है, यदि आप पसंदीदा कंपनी में इंटर्नशिप करना चाहते हैं, तो हमेशा उस कंपनी के बारे में अपडेट रहना होगा। उस कंपनी की वेबसाइट और सोशल मीडिया पर देखते रहना आपके लिए फायदेमंद होता है। कई बार कंपनियां इंटर्नशिप के लिए स्पेशल प्रोग्राम्स बनाती है, जिसके तहत आप आसानी से अपने पसंदीदा कंपनी में इंटर्नशिप प्राप्त कर सकते हैं।

कंपनी के बारे में जाने

अगर आप किसी कंपनी के लिए अप्लाई करने की चाह रखते हैं, तो उस कंपनी से जुड़े सवाल आपसे पूछे जा सकते हैं। ऐसे में उस कंपनी का बैकग्राउंड चेक करना आपके लिए फायदेमंद होगा। यदि आप वहां काम कर रहे किसी सीनियर को जानते हैं, तो उनके साथ प्री मीटिंग कर कंपनी के कामकाज के बारे में जानना बेहतर साबित होगा।

It is important to network and learn from others to have a fruitful internship
आप इंटरनेट पर भी अच्छे कवर लेटर ढूंढ सकते हैं

रिज्यूमे और कवर लेटर

आजकल नौकरियां इंटर्नशिप की सिफारिश की बजाय आपके कवर लेटर और रिज्यूमे के दम पर मिलती है। ऐसे में किसी जानकारी या फिर विशेषज्ञ की मदद लेना आपके लिए फायदेमंद होगा। जरूरत हो तो आप इंटरनेट पर भी अच्छे कवर लेटर ढूंढ सकते हैं और किसी सीनियर की मदद से इसे अपने मुताबिक बदल सकते हैं।

ना करें ग्रामर की गलतियां

अब तक यह बात तो आप समझ ही गए होंगे कि स्पेलिंग और ग्रामर की गलतियों से रिज्यूमे पर क्या फर्क पड़ता है। यदि आप अपना ब्यौरा साफ-सुथरी राइटिंग और सही ग्रामर के साथ लिखेंगे, तो लोगों का ध्यान आपके रिज्यूमे पर जाएगा। नहीं तो छोटी और बेतुकी गलतियों की वजह से आपको इंटर्नशिप से हाथ धोना पड़ सकता है।

Using techniques such as role-play, talk and writing can work
यदि आप पॉजिटिव रहेंगे, तो नौकरी की संभावनाएं अपने आप बढ़ जाती हैं।

पॉजिटिव रहें

भले ही आपको इंटर्नशिप ना मिले, लेकिन आपको हताशा नहीं दिखानी है।कई बार कंपनियां सिर्फ यह देखना चाहती हैं कि आपने कितना धैर्य है। यदि आप हताशा जाहिर करते हैं, तो एक नेगेटिविटी इंटरव्यू के दौरान दिखाई दे सकती हैं। यदि आप पॉजिटिव रहेंगे, तो नौकरी की संभावनाएं अपने आप बढ़ जाती हैं।

अगली बार किसी कंपनी में इंटर्नशिप के लिए अप्लाई करने से पहले इस खबर को पढ़ना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..