नेपाल, एक ऐसा देश जो हिमालय और इंडो गेंगेटिक प्लेन के बीचोबीच स्थित है। ऐसे देश में एक हॉलीडे प्लान करते वक़्त सबसे पहले दिमाग में यही ख्याल आता है कि आप वहां जाकर ट्रेकिंग, मोनेस्ट्री, याक्स और येटी (हिम मानव) को देखेंगे आदि। इन सब के अलावा और भी बहुत कुछ है जो आप नेपाल जाकर कर सकते है। अक्टूबर और नवंबर नेपाल घूमने जाने के लिए सबसे अच्छा समय है क्योंकि इस समय यहां का मौसम सुहाना और आसमान साफ़ होता है, इसीलिए ट्रैकिंग करते समय भी मज़ा आता है। लेकिन यदि आप ट्रैकिंग से कुछ अलग करना चाहते हैं, तो आइये हम आपको नेपाल में अनुभव करने लायक चीज़ों की जानकारी देंगे :

लिविंग गॉडेस का आशीर्वाद लें

वह पवित्रता का प्रतीक है

Image Credit: bbc.com

देवी या युवा पूर्व-कुमारी कन्या जिसे कुमारी भी कहा जाता है, यहां की एकमात्र जीवित देवी हैं, जिनकी पूजा हिंदू और बौद्ध दोनों ही करते हैं। वे नारी शक्ति को प्रदर्शित करती हैं और उनका चयन तब किया जाता है जब वह बहुत छोटी होती हैं और उनका कार्यकाल तब तक रहता जब तक की उनके पीरियड्स शुरू ना हो। त्योहारों के दौरान, कुमारियों को उनके विशेष घरों से बाहर लाया जाता है, जिससे वह सभी को आशीर्वाद दे सकें, यहां तक कि राजा को भी देवी का आशीर्वाद लेने के लिए कहा जाता है। इसलिए यदि आप अगस्त के अंत या सितंबर की शुरुआत में नेपाल जा रहें हैं, तो आप इंद्र जात्रा नामक उत्सव का हिस्सा बनना ना भूलें, इस उत्सव के दौरान कुमारी को एक स्वर्ण पालकी में बैठाकर शहर के चारों ओर एक परेड करवाई जाती है।

मैड या द हैलुसिनोजेनिक हनी

शहद निकालने की कला

Image Credit: homegrown.co.in

यदि आप कुछ अनोखा देखना चाहते हैं, तो उस स्थान पर जाने का प्रयास करें जहां नेपाल में वसंत और शरद ऋतु के मौसम के दौरान गुरूंग नामक एक जनजाति, शहद इकट्ठा करती है। यह शहद रोडोडेंड्रोन फूलों पर लगी मधुमक्खियों द्वारा बनाया जाता है। शहद में बहुत अच्छे गुण होते हैं, इसलिए इसका उपयोग दवा के रूप में किया जाता है और इसे ‘वियाग्रा’ के बदले भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें ऐसे ड्रग्स होने की संभावना रहती है जिससे इंसान को हैलुसिनेशन हो सकते है, इसीलिए इसका नाम मैड या द हैलुसिनोजेनिक हनी रखा गया है। यहां से शहद निकालने के लिए लोग सदियों से अपनी जान को खतरे में डालकर इस शहद को निकालते आ रहे हैं। कुछ टूर ग्रुप्स पर्यटकों को भी शहद निकालने का मौक़ा देते हैं। यह अनुभव असाधारण होता है।

पूर्णिमा की रात में शास्त्रीय संगीत का लुत्फ़ उठाइये

संगीत प्रेमियों के लिए एक यादगार अनुभव

Image Credit: glocalkhabar.com

यहां का स्थानीय रहस्य यह है कि यहां का शास्त्रीय संगीत का कार्यक्रम, जो हर पूर्णिमा को होता है, वह देखने, सुनने और अनुभव करने लायक दृश्य है। यह कार्यक्रम मुफ्त में देखने को मिलता है। यह संगीत कार्यक्रम प्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर के भीतर स्थित किरातेश्वर नामक मंदिर में होता है। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध संगीतकारों को यहां प्रदर्शन के लिए आमंत्रित किया जाता है और यहां तक कि उभरते कलाकारों को भी पूर्णिमा के इस संगीत कार्यक्रम में अपनी प्रतिभा दिखाने का मौक़ा दिया जाता है। शास्त्रीय वाद्य यंत्रों का स्वर और सुखदायक संगीत आपको मंत्रमुग्ध कर देंगे। आपको यह जादू अवश्य देखना चाहिए।

थकली – संतुष्टि से भरा भोजन

चावल के बजाय अनाज दलिया खाएं

Image Credit: tripadvisor.com

नेपाल के सभी स्वादिष्ट व्यंजनों में से आपको थकली ज़रूर खाना चाहिए। यह व्यंजन स्थानीय रूप से उगाए गए अनाज, जौ, बाजरा, दाल, चावल और मक्का का उपयोग करके बनाया जाता है। इसमें अनाज को उबाला जाता है और चावल के स्थान पर एक गाढ़ा दलिया बना कर खाया जाता है। सिचुआन काली मिर्च सभी थकली व्यंजनों में उपयोग किया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण मसाला है। इससे भोजन में एक विशेष सुगंध और स्वाद आता है। मुझे यकीन है कि आपको ही इसका स्वाद ज़रूर पसंद आएगा।

तो ये थी नेपाल में देखने और करने लायक कुछ मज़ेदार चीज़ें। नेपाल में और भी बहुत सी चीज़ें हैं जिन्हे आप देख सकते हैं, जिसका अनुभव कर सकते हैं। तो इस बार जब आप नेपाल जाएं तो ऊपर दी गयी सभी चीज़ों को एन्जॉय करना ना भूलें।

This is aawaz guest author account