अक्सर हमारे साथ ऐसा होता है, जब सैलेरी के आने के बाद कुछ ही दिनों में हमारे हाथ खाली हो जाते हैं। इसलिए हम अपन भविष्य के लिए तो भले ही सेविंग कर लें, लेकिन खुद के लिए पैसे जोड़ नहीं पाते। खास तौर पर यदि आपको घूमने-फिरने का शौक हो, तो यह आपके लिए और भी चैलेंजिंग हो जाता है। यदि आप भी अपनी सैलेरी से ट्रेवलिंग के लिए पैसे नहीं बचा पा रहे, तो ये टिप्स आपकी मदद कर सकती है।

प्लान बनाएं पहले

अगर आपने भी ट्रेवलिंग प्लान को हकीकत में तब्दील करने की ठान ली है, तो आपको सबसे पहले डेस्टिनेशन प्लान करने की ज़रुरत होती है। जब आप ट्रेवलिंग के लिए डेस्टिनेशन प्लान कर लेते हैं, तो उसी के हिसाब से खर्चे का अंदाज़ा आप लगा सकते हैं। आपके लिए इस तरह प्लान तैयार करना और भी आसान हो जाता है। इसलिए ट्रिप पर जाने से पहले डेस्टिनेशन प्लान करें। पैसे बचाने का एक बेहतर तरीका ये भी है कि ऑफ सीज़न घूमने जाएं। जैसे पहाड़ों पर घूमना है तो तेज गर्मी का इंतजार ना करें। उससे पहले ही जब मौसम खुशगवार हो तो टूर पर निकल सकते हैं। इससे आपकी पसंद की जगह में आप को भीड़ भी कम मिलेगी और साथ ही ऑफ सीजन के चलते आपको कोई डिस्काउंट भी मिल जाएंगे।

ट्रिप पर जाने से पहले डेस्टिनेशन प्लान करें

मंथली प्लान में दें जगह

जब आप महीने में खर्चे का हिसाब करते हैं, तो इसमें अपनी ट्रिप का हिसाब ज़रूर जोड़ें। इस तरह अपने एक्सपेंस से तालमेल बिठाएं कि आप हर महीने ट्रेवलिंग के लिए पैसे बचा सकें। महीने के खर्चे को दो हज़ार बढ़ाकर जोड़ें, जिससे ज़रुरत पड़ने पर आपको ट्रेवलिंग के पैसों को खर्च करने की ज़रुरत ना पड़े। इसके अलावा इसका रफ ड्राफ्ट तैयार ज़रूर करें, जिससे आप अंदाज़ा लगा सकें कि कितने महीने में आप ट्रिप के लिए पैसे जोड़ पाएंगे।

खुद पर कंट्रोल करना भी आपके लिए बेहद ज़रूरी है

सेव करें ऐसे

हर महीने कुछ पैसे आपके अकाउंट में डालें, जिसे आपकी ट्रिप के लिए आप सेविंग कर सकें। साथ ही इस बात का ख्याल रखें कि इस सेविंग को कर के भूल जाएं। यदि आप एक बार इस सेविंग से खर्च करने लगेंगे, तो कभी भी अपनी ट्रिप के लिए पैसे नहीं जोड़ पाएंगे। साथ ही महीने की शॉपिंग के लिए सेल के समय सामान लेने की कोशिश करें। ऐसे में आप जो पैसे बचाएंगे, उसे ट्रिप की सेविंग में जोड़ सकते हैं। इसके अलावा खुद पर कंट्रोल करना भी आपके लिए बेहद ज़रूरी है। क्योंकि कई बार ऐसे अवसर आते हैं, जब आप कहीं न कहीं खर्च करने लगते हैं। ऐसे में आप पैसे नहीं बचा पाएंगे और आपका वैकेशन का प्लान अधूरा रह जाएगा।

यदि आप इन टिप्स को आज़माते हैं, तो अपनी सैलेरी में से ट्रैवेलिंग के लिए पैसे बचा सकते हैं।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..