अक्सर हम अपने परिवार या दोस्तों के साथ और कभी-कभी सोलो ट्रेवलिंग का मज़ा लेने टूर प्लान करते हैं। इस टूर के लिए वैसे तो हम बेहद एक्ससाइटेड होते हैं, लेकिन कुछ लोगों को ट्रेवल सिकनेस की वजह से परेशानी का सामना करना पड़ता है। यात्रा के दौरान उलटी, चक्कर और होनेवाली घबराहट की वजह से जो तबीयत बिगड़ती है उसे ट्रैवल सिकनेस कहा जाता है। इस तकलीफ की वजह से आप कई घंटों तक परेशान रहते हैं और आपका सारा समय खुद को सामान्य रखने में चला जाता है। यदि आप भी ट्रेवल सिकनेस से परेशान हैं, तो आप हम आपके लिए कुछ टिप्स लेकर आए हैं। जो आपको मिनटों में इस समस्या से बाहर निकाल सकते हैं।

बैठने की जगह करें निर्धारित

खुद को ऐसी स्थिति में रखे, जहां कम से कम गतिविधि का एहसास हो

credit: medicalnewstoday.com

अक्सर हम बीएस की सबसे आगेवाली एयर पीछेवाली सीट पर बैठ जाते हैं। इसकी वजह से हमें बस से होनेवाली गतिविधि का ज़्यादा अहसास होता है, जिससे हमें ट्रेवल सिकनेस की समस्या बाद सकती है। इसलिए खुद को ऐसी स्थिति में रखे, जहां कम से कम गतिविधि का एहसास हो। यदि आप फ्लाइट से ट्रेवल कर रहें हैं, तो जहाज में विंग्स के ऊपरवाली सीट पर बैठे। इस तरह आप ट्रेवल सिकनेस फील नहीं करेंगी।

हवादार हो सफर

हम अक्सर रोड और ट्रेन की यात्रा के दौरान ऐ सी (AC) का चुनाव करते हैं। लेकिन यह हमारे लिए और भी तकलीफदेह हो सकता है। यात्रा के दौरान हमेशा ऐसी जगह का चुनाव करें, जिससे आपको प्राकृतिक हवा मिले, क्योंकि इससे आपको ऑक्सीजन ज्यादा मिलेगी और आप बेहतर महसूस करेंगे।

नींद टालें

यदि आपको ऐसा लगता है कि यात्रा के दौरान आप सो कर समय काट लेंगे, तो आप गलत हैं। यात्रा के दौरान कभी भी आंखें बंद ना करें, क्योंकि इससे आपको ट्रेवल के दौरान गतिविधियों का एहसास अधिक होता है। यही आपके ट्रेवल सिकनेस का कारण बनता है। इसीलिए यात्रा के दौरान आंखें बंद करके बैठना नहीं चाहिए।

ये टिप है बेहद कारगर

आपको जानकार हैरानी होगी कि यदि आप ट्रेवल सिकनेस से बचना चाहती हैं तो यात्रा के दौरान चुइंगम चबाते रहना आपके लिए फायदेमंद होगा। जी हां, ये बेहद कारगर उपाय है, जिससे आपका ध्यान भटकता है और आपको ट्रेवल सिकनेस कम होगा।

खाना है ज़रूरी

अक्सर लोग बिना कुछ खाए सफर पर निकल पड़ते हैं, जिससे उन्हें तकलीफ का सामना करना पड़ता है। सफर पर निकलने से पहले आपको खाली पेट नहीं रहना है, ना ही बहुत ज्यादा खाना है। ध्यान रहे कि आप फैटसे भरपूर और मिर्च मसाले वाला खाना ना खाएं, क्योंकि ऐसा करने से खाना पचने में समय लगता है, जिसकी वजह से सफर में आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। सफर पर कुछ्ह हेल्दी खा कर निकलने से आपको नौशिया की समस्या नहीं होगी।

ये काम ना करें

अक्सर लोग यात्रा के दौरान मोबाइल और किताब पढ़ने जैसा काम करते हैं। लेकिन यदि आपको ट्रेवल सिकनेस की समस्या है, तो ऐसा बिलकुल ना करें। ज़्यादा देर तक किताब पढ़ने या मोबाइल पर काम करने से आपको चक्कर आने की समस्या हो जाती है और आप मोशन सिकनेस का शिकार हो सकते हैं।

यदि अगली बार सफर पर जाना हो, तो मोशन सिकनेस से डरने के बजाए इन तरीकों को अपनाकर सफर का मजा लेने की कोशिश ज़रूर करें।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..