आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसी जगह के बारे में, जहां घरों में ताले नहीं लगते। हम बात कर रहे हैं महाराष्ट्र में अहमदनगर जिले के नेवासा तालुका के पास बसे एक छोटे से गांव शिंगणापुर की, जहां लोग घरों में ताले तो दूर दरवाज़े भी नहीं लगाते। शिर्डी से 7 किलोमीटर दूर और मुंबई से 350 किलोमीटर की दूरी पर शनि शिंगणापुर बसा हुआ है, जो एक देव स्थान माना जाता है। शनि ग्रह से संबंधित शनि देव यहां के मुख्य देवता माने जाते हैं।

क्यों नहीं लगाए जाते हैं यहां घरों में ताले?

इस शहर में लोग शनिदेव की शक्ति पर अटूट विश्वास करते हैं। कहते हैं कि शनिदेव गलत काम करने वालों को सजा देते हैं और इसीलिए लोगों को यहां चोरी का डर नहीं है। दिलचस्प बात यह है कि इस पूरे शहर में कोई पुलिस स्टेशन भी नहीं है। यहां के घरों के दरवाज़े और खिड़कियां भी नहीं लगाई गई है। गोपनीयता के लिए लोगों ने घरों में पर्दे लगा रखे हैं।

लोगों का मानना है कि उन्हें घर में दरवाज़े बंद किए बिना छुट्टियों पर जाने में कोई परेशानी नहीं है। कभी भी यहां कोई भी कीमती सामान या आभूषण ताले में नहीं रखे जाते। कहा जाता है कि डकैती करने वालों को शनिदेव का प्रकोप झेलना होता है। इस विश्वास के साथ लोग अपना कीमती सामान खुला ही छोड़ देते हैं।