आज की भागदौड़ भरी ज़िन्दगी से यदि हम कुछ वक्त खुद के लिए निकाल सकते हैं, तो ये हमारे लिए बड़ी बात साबित होगी। ऐसे हॉलिडे कामकाजी लोगों के लिए बेहद ज़रूरी होते हैं, जहां वे अपने लिए कुछ समय निकाल कर सुकून से समय बिता सकें। ऐसे में यदि आपको ऐसी जगहें मिल जाएं, जहां लोगों की भीड़ नहीं, बल्कि प्रकृति की खूबसूरती और शांति हो, तो यह आपके लिए बेहद बेहतरीन अनुभव साबित हो सकता है। आज हम आपको कुछ ऐसी ही जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां आप लोगों से दूर शान्ति के कुछ दी बिता पाएंगे।

सातारा

यहां का वातावरण आपके मन को बहुत भाएगा

Image Credit: blogspot

अगर आप मुंबई और पुणे के बीच स्थित लोनावाला और खंडाला जाने के शौकीन हैं, तो आपको थॉसेघर फॉल्स ज़रूर देखना चाहिए। यह खूबसूरत झरना है, जो एक छोटे से गांव में स्थित है।सातारा से मात्र 20 किलोमीटर की दूरी पर यह झरना प्रकृति की खूबसूरती का एक ऐसा उदाहरण है, जिसे देखना आपके लिए एक नया अनुभव साबित हो सकता है। यहां जाकर आप अपनी पूरी शाम बिता सकते हैं और सूर्यदय का लुत्फ़ उठा सकते हैं।यहां का वातावरण आपके मन को बहुत भाएगा। इस झरने की वजह से यहां की हवाएं एकदम ठंडी होती है और चारों तरफ हरियाली से पटा ये इलाका आपको खुश करने के लिए काफी है। यहां की शांति और सुकून में आप लोगों से दूर कुछ समय खुद के साथ बिता सकते हैं।

चुरू

सर्दियों में यहां का तापमान 0 डिग्री सेल्सियस से नीचे चला जाता है

Image Credit: thrillophilia

चुरू राजस्थान का एक ऐसा इलाका है, जो पर्यटकों के लिए बेहद खास माना जाता है। राजस्थान के पश्चिमी हिस्से में बसा चुरू एक ऐसा शहर है, जहां की खूबसूरती से बयां करना किसी के लिए भी मुमकिन नहीं है। यहां गर्मी और सर्दी दोनों अपने-अपने मौसम में चरम पर होती है। जहां एक ओर गर्मियों में यहां का तापमान 50 डिग्री से भी ऊपर जाता है, वहीं सर्दियों में यहां का तापमान 0 डिग्री सेल्सियस से नीचे चला जाता है। उदयपुर जयपुर और जैसलमेर जैसे शहरों में बनी हवेलियों की तरह यहां पर भी बेहद खूबसूरत हवेलियां है। यहां मौजूद रत्नागढ़, कन्हैया लाल की हवेली और सुराना हवेली इतिहास की खूबसूरत इमारतों में से एक है।

द्रास

10,760 फ़ीट की ऊंचाई पर बसे द्रास की ठिठुरती ठंड में बचे रहना लगभग नामुमकिन है

Image Credit: traveltriangle

लद्दाख के पास बसा द्रास दुनिया की दूसरी सबसे ठंडी जगहों में से एक है। सर्दियों में यहां का तापमान माइनस 45 डिग्री से भी कम होता है।10,760 फ़ीट की ऊंचाई पर बसे द्रास की ठिठुरती ठंड में बचे रहना लगभग नामुमकिन है, लेकिन इसके बाद भी लोग यहां जाना बेहद पसंद करते हैं। इस जगह को लद्दाख का द्वार भी कहा जाता है। यहां भी आपको अजीब सी शान्ति और सुकून मिलता है, जो आपको शहरों में कभी नहीं मिल सकता।

संदकफू

इंडो-नेपाल बॉर्डर पर बसा संदकफू बेहद खूबसूरत है

Image Credit: indiahikes.com

हिमालय की पर्वत श्रृंखला में संदकफू एक ऐसा खूबसूरत स्थान है, जहां से आप नेपाल और भूटान के पहाड़ों को निहार सकते हैं। इंडो-नेपाल बॉर्डर पर बसा संदकफू बेहद खूबसूरत है। यदि आप हिमालयन ट्रैक का मजा लेना चाहते हैं, तो आपको यहां ज़रूर जाना चाहिए। चारों तरफ बर्फ से ढंके और घुमावदार रास्तों के लिए चर्चित यह स्थान अपने आप में बेहद फेमस है। साथ ही यहां की शान्ति आपका मन मोहने के लिए काफी है। अगर अपनी बिज़ी लाइफ से कुछ समय निकालकर कहीं जाना हो, तो यह हॉलिडे डेस्टिनेशन आपके लिए बेहतर साबित होगा।

काम के प्रेशर से परेशान हो गए हों, तो इन खूबसूरत और एकांत जगहों का रुख आपको ज़रूर करना चाहिए।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..