अनंत चतुर्दशी के दिन भगवान गणेश का विसर्जन किया जाता है। पूरे देश में भगवान को विदाई देने के लिए लोग जोरों-शोरों से तैयारी करते हैं। जिस उत्साह से भगवान गणेश को बुलाया जाता है, उतने ही दुखी मन से उन्हें विदाई दी जाती है। कहा जाता है कि हिंदू समुदाय भगवान श्री गणेश को खास ओहदा देते हैं, लेकिन यदि आपको लगता है कि सिर्फ भारत में ही हिंदू समुदाय द्वारा श्री गणेश की पूजा की जाती है, तो आप गलत हो सकते हैं। दरअसल पूरी दुनिया में भगवान गणेश की पूजा होती हैं और गणेश उत्सव का आयोजन भी किया जाता है।

इन देशों में कैनेडा, मॉरीशस, थाईलैंड, सिंगापुर, अमेरिका, कंबोडिया, इंग्लैंड जैसे देशों में गणेश उत्सव धूमधाम से मनाया जाता है। यहां तक कि इनमें से कुछ देशों में गणेशोत्सव से पहले सार्वजनिक अवकाश की भी घोषणा की जाती है। उसी तरह इन देशों में भी गणेश विसर्जन का आयोजन पूरे रीति-रिवाज के साथ किया जाता है। इस अनंत चतुर्थी को भारत में ही नहीं, बल्कि इन देशों में भी गणेश विसर्जन का आयोजन किया जाएगा। आइए जानते हैं इन देशों के बारे में।

कनाडा

इस पूरे उत्सव के दौरान यहां मौजूद हिंदू भारतीय परिधानों में दिखाई देते हैं
इस पूरे उत्सव के दौरान यहां मौजूद हिंदू भारतीय परिधानों में दिखाई देते हैं

जैसे कि सभी जानते हैं कनाडा में भारतीयों की संख्या सबसे ज्यादा है। कनाडा के जाने-माने शहर टोरंटो में गणेश उत्सव पूरे रीति-रिवाज और उत्साह के साथ मनाया जाता है। पहले वहां रहने वाले भारतीयों ने इस उत्सव की शुरुआत की थी, लेकिन अब स्थानीय लोग भी इसमें बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। यहां पूरे 10 दिन सुबह-शाम लोग गणपति की आरती करते हैं और हमारे देश की ही तरह इन 10 दिनों में तरह-तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। इस पूरे उत्सव के दौरान यहां मौजूद हिंदू भारतीय परिधानों में दिखाई देते हैं। उसी तरह अनंत चतुर्दशी के दिन पूरी धूमधाम से गाजे-बाजे के साथ गणपति जी का विसर्जन किया जाता है।

अमेरिका

यूएस भी एक ऐसा देश है, जहां बड़ी संख्या में भारतीय परिवार रहते हैं।अमेरिका में होने वाले गणेश उत्सव की ख़ासियत यह है कि गणपति की मूर्तियों को मुंबई से ले जाया जाता है। अमेरिका में 11 दिन का गणेश उत्सव मनाया जाता है, जहां एक ओर फिलाडेल्फिया में गणेश उत्सव का समारोह आयोजित किया जाता है। वहीं दूसरी ओर अमेरिका के छोटे-बड़े शहरों से लोग इस आयोजन में हिस्सा लेने पहुंचते हैं। भारत की ही तरह यहां लोग आपस में चंदा इकट्ठा करते हैं और हिंदुओं के साथ साथ अमेरिकी लोग भी इस आयोजन में पूरी खुशी से शामिल होते हैं। गणेश उत्सव से 1 दिन पहले स्कूलों को छुट्टियां दी जाती है। साथ ही इस गणेश उत्सव के दौरान मंदिरों में भी विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है। इस तरह अमेरिकी और हिंदू दोनों मिलकर यह आयोजन मनाते हैं।

थाईलैंड

बैंकॉक से 106 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मंदिर में भगवान गणेश की 38 फीट ऊंची मूर्ति स्थित है
बैंकॉक से 106 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मंदिर में भगवान गणेश की 38 फीट ऊंची मूर्ति स्थित है

आप में से बहुत कम लोग जानते होंगे कि थाईलैंड में गणेश जी की एक विशाल मूर्ति स्थित है। यहां तक कि थाईलैंड में हिंदुओं के अलावा स्थानीय लोग भगवान गणेश को ज्यादा मानते हैं। यहां सिर्फ गणेश उत्सव के दौरान ही नहीं, बल्कि साल भर गणेश जी की पूजा की जाती है। स्थानीय लोगों का मानना है कि गणेश जी बुरी शक्तियों को से उन्हें बचाते हैं। बैंकॉक से 106 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मंदिर में भगवान गणेश की 38 फीट ऊंची मूर्ति स्थित है। जहां गणेश उत्सव के दौरान खास तौर पर आयोजन किए जाते हैं। उसी तरह यहां गणपति का विसर्जन भी बड़ी धूमधाम से किया जाता है।

दक्षिण अफ्रीका

गणेश जी के रूप की वजह से हाथियों को उनका एक अवतार माना जाता है। दक्षिण अफ्रीका में जंगली हाथियों से बचाव के लिए गणेश जी की मूर्ति बनाई जाती है और उसकी पूजा की जाती है। यहां के कबीलाई लोग गणेश चतुर्थी के दौरान जंगल में बड़ा आयोजन करते हैं। इसमें हाथी की बड़ी सी मूर्ति बनाकर उसे केले, फल और कच्चे नारियल अर्पित करते हैं, ताकि जंगली हाथियों से उनकी रक्षा हो सके। अनंत चतुर्दशी के आसपास इस मूर्ति को विसर्जित किया जाता है।

मॉरीशस

गणेश उत्सव पर यहां सरकार की ओर से सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाता है
गणेश उत्सव पर यहां सरकार की ओर से सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाता है

मॉरीशस में साल 1982 से गणेश जी की पूजा का आयोजन बड़े पैमाने पर होने लगा। मॉरीशस में बड़ी मात्रा में हिंदू परिवार रहते हैं। इसीलिए गणेश उत्सव पर यहां सरकार की ओर से सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाता है। अपने देश की ही तरह मॉरीशस में भी गणेश मंदिर और घरों में चतुर्थी के बाद गणपति की मूर्ति रखकर उनकी पूजा की जाती है। इस अवसर पर मॉरीशस के स्थानीय कलाकार मंदिरों में नृत्य प्रस्तुत करते हैं।साथ ही पूरे भारत की ही तरह यहां भी धूमधाम से गणपति विसर्जन किया जाता है।

इस तरह सिर्फ हमारे देश में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में गणेश विसर्जन का समारोह मनाया जाता है।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..