भारत को अनेक विविधताओं वाला देश कहा जाता है यहां अलग-अलग वातावरण के अनुसार आप देश के कई हिस्सों की यात्रा कर सकते हैं। अगर आप अपने दोस्तों के साथ कहीं बाहर जाने का इरादा बना रहे हैं तो हम आपको बताते है भारत में ही पांच ऐसी जगह जो एक दूसरे से एक दम अलग है और वहां आप अपने अलग -अलग शौक भी पुरे कर सकते हैं।

पैंगांग झील, लद्दाख

पर्यटक जीप सफारी या फिर बाइक के जरिये आसानी से पैंगांग झील पहुंच सकते हैं।

Image Credits: bloximages.chicago2.vip.townnews.com
अगर आप चाहते है भीड़ भाड़ से दूर होना थोड़े दिनों के लिए तो आपको इस प्राकृतिक सौंदर्य में वक्त बिताना जरूर पसंद आएगा यकीन मानिए आप यहां के ऊंचे पहाड़ों और झील की सुंदरता में खो जाएंगे।

फिल्म 3 इडियट्स में पैंगोग झील को देखने के बाद सब इस जगह के दीवाने हो गये थे, आप लद्दाख में मौजूद झीलों को कितनी ही बार क्यों ना देख ले ये आपको हर बार अपने सौन्दर्य से आश्चर्यचकित करती हुई प्रतीत होती हैं। अगर आप लद्दाख की यात्रा का प्लान बना रहे हैं , तो यहां की खूबसूरत झीलों को किसी भी कीमत पर मिस नहीं किया जा सकता है।

वॉटर राफ्टिंग, ऋषिकेश

राफ्टिंग के साथ साथ यहां गंगा की आरती का भी आनंद उठा सकते हैं

Image Credits: adventures365.in
अगर आप रोमांच के शौकीन हैं तो आप एक बार अपने दोस्तों के साथ ऋषिकेश ज़रूर जाए और वहां वॉटर राफ्टिंग करने का मज़ा ले। ऋषिकेश में वॉटर राफ्टिंग नहीं किया तो क्या किया बॉस? यह जगह रोमांच की हदें पार करने वालों के लिए ही बनी हैं।

हिमालय के फुटहिल्स में ऋषिकेश एक ऐसा डेस्टिनेशन है जहां आप ऐडवेंचर प्रेमी होने के नाते जा सकते हैं। यहां की वाटर राफ्टिंग के तो कहने की क्या! गंगा नदी में राफ्टिंग का अनुभव आपको जीवन भर याद रहेगा। वैसे अगर राफ्टिंग का मन नहीं है तो कोई बात नहीं। आप यहां कैंपिंग कर सकते हैं और योगा भी। एक और बात, यहां पर विदेशी पर्यटक खूब आते हैं और इसकी वजह यह है कि यहां पर फेमस स्पा ट्रीटमेंट दिए जाते हैं। आप भी इन्हें ट्राई कर सकते हैं।

कच्छ का रण, गुजरात

कच्छ के रन की पश्चिमी सीमा पाकिस्तान से मिलती है।

Image Credits: res.cloudinary.com
यदि चमकीले चांद के नीचे बिछा हुआ सफेद रेगिस्तान आपको आकर्षित करता है तो बस यह जगह आपके लिए एकदम परफेक्ट है। हो आइए कच्छ की खाड़ी।

यहां आपको दूर-दूर तक सिर्फ की एक चादर दिखेगी जो जमीन को ढके हुए हैं। तभी तो यह विश्व का सबसे बड़ा लवणीय मरुस्थल है 750 5 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला कर कई तरह के जीव और पौधों से भरा हुआ है जिन्हें आप यही देख सकते हैं

वैसे तो गुजरात में ज्यादातर तेज गर्मी पड़ती है लेकिन यदि आप चाहें तो दिसंबर से जनवरी तक का समय तय करके जा सकते हैं। इन दिनों दुनिया भर से पर्यटक यहां आते हैं और म्यूजिक, क्राफ्ट और मेलों का मजा लेते हैं। रण महोत्सव भी इन्हीं दिनों होता है।

कोलकाता ईस्ट, शांति निकेतन

शांति निकेतन पश्चिम बंगाल, भारत, के बीरभूम जिले में बोलपुर के निकट एक छोटा शहर है

Image Credits: telegraphindia.com
कोलकाता से 180 किलोमीटर दूर है शांति निकेतन। इसके बारे में सुना तो जरूर होगा कि यहां नोबेल पुरस्कार विजेता रविन्द्रनाथ टैगोर की यूनिवर्सिटी है। इस शहर को प्रसिद्ध नोबेल पुरस्कार विजेता रवीन्द्रनाथ टैगोर ने बनाया था। टैगोर ने यहाँ विश्वभारती विश्वविद्यालय की स्थापना की थी और यह शहर प्रत्येक वर्ष हजारों पर्यटकों को आकर्षित करता है। शांति निकेतन एक पर्यटन आकर्षण इसलिए भी है क्योंकि टैगोर ने अपनी कई साहित्यिक कृतियां यहां लिखीं थीं और यहां स्थित उनका घर ऐतिहासिक महत्व रखता है। वेस्ट बंगाल के इस कस्बे का रुख करने के लिए हम आपको इसलिए भी कह रहे हैं क्योंकि यहां पर साल में एक बार पोश मेला भी लगता है।
इस मेले के टाइम आप पहुंच गए तो आपका आनंद दिन दूना रात चौगुना हो जाएगा। इस मेले में कई तरह की गतिविधियां होती हैं जिनमें यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स भी भाग लेते हैं।

मनाली, लेह रोड ट्रिप

यह सड़क साल में केवल पांच महीने के लिए खुली रहती है, गर्मियों से लेकर अक्टूबर तक।

Image Credits: thrillophilia.com
मनाली से लेह जाने की खूबसूरती को शब्दों में बयान करना मुश्किल है। सड़क के किनारे बर्फ से ढके ऊंचे पहाड़ और सामने खुला नीला आसमान। ऐसा महसूस होता है मानो जन्नत यहीं है। फिल्म जब वी मेट का वह गाना याद कीजिए, जिसमें करीना कपूर ये इश्क हाय जन्नत दिखाए गाते हुए डोल रही हैं। खुली जीप या बुलेट हो तो क्या कहने! वरना बंद कार भी चलेगी। कार में बैठे खिड़की से बाहर सिर निकाले बर्फीली पहाडि़यों को देखना आपके अंदर इतनी शीतलता और कोमलता भर देगा कि मन के अंदर की सारी चिकचिक निकल जाएगी।

पहचान छोटी ही सही लेकिन अपनी खुद की होनी चाहिए। इसी सोच के साथ जीती हूँ।अपने सपनों को साकार करने की हिम्मत रखती हूं और ज़िन्दगी का स्वागत बड़े ही खुले दिल से करती हूँ। बाते और खाने की शौकीन हूँ । मेरी इस एनर्जी को चार्ज करती है, मेरे नन्ने बच्चे की खिलखिलाती मुस्कुराहट।