आज आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप का पहला सेमीफाइनल मुकाबला होने जा रहा है। ये मैच हर भारतीय के लिए बेहद ख़ास है क्योंकि आज भारतीय टीम न्यूज़ीलैंड के खिलाफ गढ़ जीतने के लिए मैदान पर उतारेगी। ये मैच आज इंग्लैंड के ग्रेटर मैनचेस्टर में होने जा रहा है। जिस मैदान पर आज ये दोनों टीमें एक-दुसरे को धराशाई करने उतारेगी, उस मैदान का इतिहास में एक ख़ास स्थान है। ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान, जिसे मैनचेस्टर की शान माना जाता है, आज फिर कई वर्ल्ड रिकॉर्ड्स का साक्षी बन सकता है। आइये जानते हैं मैनचेस्टर के इस 135 साल पुराने मैदान के बारे में कुछ खास बातें।

ओल्ड ट्रैफर्ड- द थियेटर ऑफ़ ड्रीम्स

यह इंग्लैंड के कुछ सबसे पुराने मैदानों में से एक है, जहां करीब 74,994 लोग एकसाथ आ सकते हैं। साथ ही ये यूरोप का ग्यारहवां सबसे बड़ा मैदान है। इस मैदान को इंग्लैंड के भूतपूर्व फुटबॉलर ने ‘द थियेटर ऑफ़ ड्रीम्स’ का निकनेम दिया था। इसका कारण है कि ओल्ड ट्रैफर्ड ने कई ऐतिहासिक मैचों का आयोजन किया है और कई खास लम्हों को खुद में कैद किया है। बता दें कि 1902 से पहले ओल्ड ट्रैफर्ड का नाम न्यूटन हीथ था, जब पहले पहल इस मैदान में फुटबॉल मैच खेले जाते थे। इतिहास की बात करें तो 1936 में दूसरे विश्व युद्ध के दौरान इसे मिलिटरी बेस भी बनाया गया है। इस दौरान भी यहां फुटबॉल मैच खेले जाते रहे, लेकिन साल 1940 में 22 दिसंबर के दिन इस जगह को बर्बाद करने के उद्देश्य से जर्मनी ने यहां बम्बार्डिंग की, जिसके बाद इसे ठीक करने में एक साल का वक्त लग गया। साल 1940 के दिन ओल्ड ट्रैफर्ड में फिर एक बार फुटबॉल मैच का आयोजन किया गया। साल 2010 की 19 फरवरी को ओल्ड ट्रैफर्ड ने अपने 100 साल पूरे किये।

ये भी पढ़ें: वर्ल्ड कप स्पेशल: जानिये कहां और कैसे होंगे इंडियन टीम के मैच?

ओल्ड ट्रैफर्ड का क्रिकेट से जुड़ाव

फुटबॉल मैच के लिए पहचाना जानेवाला ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान क्रिकेट से भी वही राब्ता रखता है। इस मैदान पर पहली बार क्रिकेट साल 1884 में खेला गया था, जो एक टेस्ट मैच था। इस मैच में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिए आमने-सामने आए थे। वहीं इस मैदान पर एक दिवसीय मैच 1972 में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के ही बीच खेला गया। आपको जान कर हैरानी होगी कि ओल्ड ट्रैफर्ड में अब तक 52 वनडे मैच हो चुके हैं, जिसमें अब तक का सबसे बेहतरीन स्कोर 397 रन का है, जो इंग्लैंड की टीम ने अफगानिस्तान के खिलाफ 6 विकेट देकर बनाए थे। यह स्कोर भी इसी विश्वकप यानी कि साल 2019 के मुकाबलों के दौरान हुए मैच में बनाए गए हैं।

1936 में दूसरे विश्व युद्ध के दौरान इसे मिलिटरी बेस भी बनाया गया है

 

आज भी नए रिकॉर्ड का गवाह बन सकता है ओल्ड ट्रैफर्ड

आज इंडिया वर्सेस न्यूज़ीलैंड का ये मैच बेहद ख़ास हो सकता है। क्योंकि आज इस स्पेशल मैदान पर तीन नए रिकॉर्ड कायम हो सकते हैं। यह रिकॉर्ड ‘हिटमैन’ रोहित शर्मा बना सकते हैं। दरअसल वर्ल्डकप में सबसे ज़्यादा शतक बनाने का रिकॉर्ड, जो 6 शतकों का था, अब तक मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने बनाया था। इसकी बराबरी पिछले ही मैच में रोहित कर चुके हैं। अगर आज के मैच में रोहित एक और सेंचुरी दर्ज करते हैं, तो वे सचिन का रिकॉर्ड तोड़ कर विश्वकप में सबसे ज़्यादा सेंचुरी, यानी कि 7 शतक बनानेवाले पहले बल्लेबाज़ बन जाएंगे।

दूसरा रिकॉर्ड भी हिटमैन के ही नाम जा सकता है। रोहित शर्मा विश्वकप में 600 का आंकड़ा पार करनेवाले दूसरे इंडियन खिलाड़ी तो बन ही चुके हैं। लेकिन अब तक पहले खिलाड़ी का ताज सचिन के नाम ही है। उन्होंने साल 2003 विश्व कप में 673 रन जोड़े थे। लेकिन रोहित अब तक 647 रन बना चुके हैं। हो सकता है कि रोहित आज के मैच में सचिन का ये रिकॉर्ड तोड़ दें। साथ ही वे मात्र 53 रन और बना कर 700 रन बनानेवाले पहले बल्लेबाज़ भी बन सकते हैं।

तीसरा रिकॉर्ड भी रोहिटमैन शर्मा के नाम जा सकता है। यह रिकॉर्ड है लगातार चार सेंचुरी बनाने का। इससे पहले लगातार चार सेंचुरी बनाकर श्रीलंकाई बल्लेबाज़ कुमार संगाकारा पहले स्थान पर हैं। जैसा कि आप सभी जानते हैं रोहित शर्मा ने लगातार तीन शतक पूरे कर दिए हैं और यदि वे आज चौथा शतक जड़ देते हैं, तो वे कुमार संगाकारा की बराबरी कर लेंगे। हो सकता है कि वे इसी विश्व कप में ही ये रिकॉर्ड भी तोड़ दें।

अब देखना ये है कि आज का ये मैच क्या रंग लाता है और मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड में कितने रिकॉर्ड्स बनते और बिगड़ते हैं। आज का ये मैच दोपहर 3 बजे शुरू होगा, जिसे देखने का मौका कोई भी क्रिकेट फैन गंवाना नहीं चाहेगा।