आपने हाथी और बाघ की सफारी के बारे में तो अक्सर सुना होगा! लेकिन क्या आपने कभी बड़े-बड़े रेप्टाइल्स की सफारी के बारे में सुना है? पुणे से लगभग 5.5 घंटे दूर एक छोटा सा गांव है, जहां आप क्रोकोडाइल सफारी पर जा सकते हैं।

मालदोली – क्रोकोडाइल्स के खेलने का मैदान

एक ऐसा देश जो हमेशा लायंस और टाइगर्स की सुरक्षा के लिए चिंतित होता है, उसमें मालदोली नामक एक छोटे से गांव ने क्रोकोडाइल सफारी शुरू करने का बीड़ा उठाया था। जिस प्रकार महाराष्ट्र की डॉल्फिन सफारी और कई अन्य सफारी आपको पशुओं को देखने का अवसर देती हैं, उसी तरह मालदोली में भी आपको क्रोकोडाइल को करीब से देखने का मौक़ा मिलता है। इस गांव की वशिष्टि नदी में मार्श क्रोकोडाइल रहते हैं जिन्हे मगर के नाम से भी जाना जाता है।

मालदोली के क्रोकोडाइल्स से जुड़ी कुछ अनोखी बातें

उनके नुकीले दांतों से दूर रहें

Image Credit: tripoto.com

आमतौर पर, फ्रेशवॉटर क्रोकोडाइल्स को मगर कहा जाता है।हालांकि, मालदोली के क्रोकोडाइल अलग होते हैं क्योंकि वे अरेबियन सी के हाई टाइड के कारण नदी में बहने वाले सॉल्टीवॉटर में पलते हैं। नर मगर की लंबाई 12-15 फीट के बीच होती है। ये विशाल रेप्टाइल्स खतरनाक शिकारी होते हैं और किसी भी व्यक्ति को अपने दांतों का शिकार बनाकर उसे अपनी दावत बना सकते हैं।

जानिये क्या है मालदोली तक पहुंचने का रास्ता ?

मालदोली से लगभग 23 किलोमीटर दूर चिपलून नामक एक बस स्टैंड है। महाराष्ट्र के सभी प्रमुख शहरों की बसे चिपलून आती है। चिपलून रेलवे स्टेशन मालदोली से 28 किलोमीटर दूर है। आप इसके बजाय पुणे-बेंगलुरु हाईवे से भी ट्रेवल कर सकते हैं। उम्बराज के बाद, पश्चिम की ओर मुड़ें और कोयना नदी के रास्ते पर आगे बढ़ते जाएं। साथ ही, ऑफ़लाइन मैप डाउनलोड कर लें क्योंकि मालदोली के अंदरूनी इलाकों में नेटवर्क नहीं होता है।

मालदोली क्रोकोडाइल सफारी से जुड़ी कुछ और दिलचस्प बातें

सफारी के लिए जाने का सबसे अच्छा समय लो टाइड के दौरान होता है। चूंकि पानी का स्तर इस समय कम हो जाता है और आप आसानी से क्रोकोडाइल को देख सकते हैं। सफारी की कीमत 250 रूपए प्रति व्यक्ति से शुरू होती है। यह एक 90 मिनट की नाव की सवारी होती है। प्रत्येक नाव में लगभग 15 लोग सवार हो सकते हैं। इस 90 मिनट की सवारी के दौरान आप 20-25 क्रोकोडाइल्स देख सकते हैं, कुछ बिलकुल आपकी नाव के बगल में तैर रहे होंगे, तो कुछ यूं ही नदी के किनारे बैठे होंगे, तो कुछ नदी के किनारे टहल रहे होंगे। इसके अलावा आप नदी के किनारे स्थित पेड़ों पर कुछ अनोखे और विभिन्न प्रकार के पक्षियों को देख सकते हैं, कैंपिंग और बोटिंग कर सकते हैं और तो और यहां का मज़ेदार खाना खा सकते हैं और रह भी सकते हैं। बस आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आप गलती से भी किसी क्रोकोडाइल को छेड़ ना दें।

यदि आप एक वाइल्डलाइफ लवर हैं, तो मालदोली, चिपलून की क्रोकोडाइल सफारी एक ऐसी जगह है जहां आपको ज़रूर जाना चाहिए।

This is aawaz guest author account