भारत अपनी सभ्यता और संस्कृति के लिए जाना जाता है। ये बहुत ही खूबसूरत देश है। यहां के खान-पान, पहनावे की अपनी ही अलग पहचान हैं। वैसे तो भारत में बहुत सी घूमने लायक जगह हैं, लेकिन अगर आप इन पांच शहरों में नहीं घूमे, तो आपका भारत दर्शन अधूरा रह जाएगा। आइए जानते हैं ऐसे 5 शहरों के बारे में, जिनकी खूबसूरती आपको अपनी तरफ आकर्षित कर लेगी।

गुलाबी शहर जयपुर में देखने लायक जगहें

चांदनी रात में झील के पानी में जल महल का नज़ारा बेहद आकर्षक होता है । इसे रोमांटिक महल भी कहा जाता है, यहां पर्यटकों को जाने की इजाज़त नहीं है।
चांदनी रात में झील के पानी में जल महल का नज़ारा बेहद आकर्षक होता है । इसे रोमांटिक महल भी कहा जाता है, यहां पर्यटकों को जाने की इजाज़त नहीं है।

सवाई राजा जयसिंह द्वितीय ने साल 1727 में जयपुर शहर बसाया था। वर्ष 1876 में प्रिन्स ऑफ़ वेल्स के जयपुर आगमन के मौके पर तत्कालीन महाराजा राम सिंह ने उनके स्वागत के लिए पूरे शहर को गुलाबी रंग से सजाया था। इसलिए इसे गुलाबी शहर के नाम से जाना जाने लगा। यहां देखने लायक बहुत सी जगहें हैं, जिसमें आमेर का किला, हवा महल और जल महल मुख्य हैं। जयपुर शहर से 11 कि. मी. की दूरी पर अरावली की पहाड़ियों पर स्थित आमेर का किला बेहद खूबसूरत है। 2013 में यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट की सूची में शामिल किया गया हवा महल का निर्माण सवाई प्रताप सिंह ने 1799 में करवाया था। इस इमारत में मौजूद हवादार खिड़कियों और झरोखों की वजह से इसका नाम हवा महल पड़ा। यहां के जल महल की खूबसूरती देखते ही बनती है।

बेंगलुरू में देखने लायक जगहें

यह नंदी मूर्ति लगभग 4 मीटर ऊंची और 6 मीटर लंबी है।
यह नंदी मूर्ति लगभग 4 मीटर ऊंची और 6 मीटर लंबी है।

भारत के सबसे मशहूर शहरों में से एक है यह खूबसूरत शहर, जो बहुत सारे भव्य स्थलों के लिए प्रसिद्द है । यहां बहुत सारी खूबसूरत इमारतें, महल और बगीचे हैं, जो इसकी सुंदरता में चार चांद लगाते है। बुल मंदिर बेंगलुरु का सबसे प्राचीन मंदिर है। इसके निर्माण के लिए द्रविड वास्तुकला का उपयोग किया गया है। एक ही पत्थर को तराश कर इस मंदिर को बनाया गया है। नंदी की मूर्ति यहां का मुख्य आकर्षण है। यहां का बेनरघट्टा नेशनल पार्क भी बहुत मशहूर है। इस उद्यान में मगरमच्छ फार्म, स्नेक फार्म, चिड़ियाघर आदि देखने योग्य है। यहां पर आप हाथी या जीप सफारी का भी लुत्फ़ उठा सकते है। यहां का टीपू सुल्तान का किला और बैंगलोर पैलेस भी काफी मशहूर है। यहां के कब्बन पार्क में गए बिना आपका बेंगलुरु का दौरा अधूरा है। कब्बन पार्क को बेंगलुरु का दिल भी कहा जाता है। यह पार्क लगभग 300 एकड़ के क्षेत्रफल में फैला हुआ है। जॉगिंग करने वालो के लिए भी यह पसंदीदा जगह है।

वाराणसी में देखने लायक जगहें

दशाश्वमेध में त्रितीर्थी को यहाँ स्नान करना अनिवार्य है।
दशाश्वमेध में त्रितीर्थी को यहाँ स्नान करना अनिवार्य है।

वाराणसी को बनारस और काशी के नाम से भी जाना जाता है। भगवान शिव की नगरी काशी को भारत का सबसे प्राचीन और पवित्र शहर माना जाता है। यह शहर अपने पौराणिक और धार्मिक मान्यताओं के चलते ही पूरी दुनिया में मशहूर है। काशी के सौ घाटों में से ये “अस्सी घाट” सबसे प्रमुख है। इसके उत्तर में जगन्नाथ मंदिर है, जहां हर साल मेले का आयोजन होता है। काशी का दूसरा प्रमुख तीर्थ स्थान हैं “काशी विश्वनाथ मंदिर”, जो बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक हैं। मान्यता है कि एक बार इस मंदिर के दर्शन करने और पवित्र गंगा में स्नान कर लेने से मोक्ष की प्राप्ति होती है और तीसरा है, “दशाश्वमेध घाट” जो वाराणसी के गंगा नदी के किनारे स्थित सभी घाटों में सबसे प्राचीन और शानदार घाट है. दशाश्वमेध का अर्थ होता है दस घोड़ों का बलिदान।

चेन्नई में देखने लायक जगहें

चैन्नई की "बड़ी मस्जिद" ट्रिपलिकेन के जान बाज़ार इलाके में वल्लाजाह सड़क पर है।
चैन्नई की “बड़ी मस्जिद” ट्रिपलिकेन के जान बाज़ार इलाके में वल्लाजाह सड़क पर है।

चेन्नई भी एक अच्छा विकल्प है घूमने के लिए। यहां आपको घूमने के लिए चिड़ियाघर, सेंट जॉर्ज फोर्ट और मरीना बीच जैसी कई खूबसूरत जगहें हैं। मंदिरों की यात्रा शुरु करने का सबसे अच्छा स्थान ममल्लापुरम है, फिर वहां से कांचीपुरम, चिदंबरम, भरतनाट्यम की जन्म भूमि के तौर पर प्रसिद्ध तंजावुर, तिरुचिरिपल्ली और रामेश्वरम हैं। चेन्नई में मंदिरों के अलावा भी ऐसी कई जगह है, जहां आप जमकर मस्ती कर सकते हैं और वो जगह है “गिडी नेशनल पार्क”। यहां जानवरों और पक्षियों के अलावा बच्चों के लिए बहुत सुंदर पार्क भी है।

सिक्किम में देखने लायक जगहें

सिक्किम में और भी जगह जैसे डो-द्रुल कॉर्टेन, रूमटेक मोनास्ट्री और पेलिंग भी लोकप्रिय है। मई और अगस्त के बीच यहां जाने का सही समय है
सिक्किम में और भी जगह जैसे डो-द्रुल कॉर्टेन, रूमटेक मोनास्ट्री और पेलिंग भी लोकप्रिय है। मई और अगस्त के बीच यहां जाने का सही समय है

सिक्किम की राजधानी गंगटोक भारत में पूर्व के प्रमुख पहाड़ी पर्यटन स्थलों में से एक है। यहां की साफ झीलें और स्वच्छता आपका मन मोह लेंगी। ” युक्सोम ” माउंट कंचनजंघा की चढ़ाई के लिए बेस कैम्प माना जाता है। यहां दुर्लभ किस्मों के फूल तो देखने को मिलते ही हैं, साथ में झील में पक्षियों की कई प्रजातियां भी देखने को मिलती हैं। यहां की सबसे बड़ी ख़ासियत ये है कि सर्दियों के महीनों में झील का पानी जम जाता है।

अगर आप कहीं घूमने का प्लान बना रहे हों और समझ नहीं पा रहे हों कि कहा जाया जाए, तो आप इसे ज़रूर पढ़ें, क्या पता आपकी इस समस्या का हल चुटकियों में मिल जाए।

पहचान छोटी ही सही लेकिन अपनी खुद की होनी चाहिए। इसी सोच के साथ जीती हूँ।अपने सपनों को साकार करने की हिम्मत रखती हूं और ज़िन्दगी का स्वागत बड़े ही खुले दिल से करती हूँ। बाते और खाने की शौकीन हूँ । मेरी इस एनर्जी को चार्ज करती है, मेरे नन्ने बच्चे की खिलखिलाती मुस्कुराहट।