भारत में कई ऐसी जगह है, जहां के किस्से कहानियां लोगों के बीच चर्चित है। चाहे वह गोआ हो या गुजरात या राजस्थान, इन सभी जगहों पर कुछ ऐसी इमारतें हैं, जो बेहद डरावनी है। जिसकी वजह से यहां से जुड़ी हुई कहानियां भी प्रचलित हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं चेन्नई की एक ऐसी जगह के बारे में, जिसके बारे में सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। इस डरावनी जगह का नाम है डी मोंटे कॉलोनी, जो कि सेंट मैरी रोड के पास स्थित है। यह कॉलोनी अन्य कॉलोनी की तरह नहीं है। आइये आपको बताते हैं इस कॉलोनी से जुडी ये कहानी

क्या है इसकी कहानी

लोगों ने कई बार इस कॉलोनी की सड़कों पर डी मोंटे के भूत को चलते हुए देखा है।

इस कॉलोनी का मालिक 19वीं शताब्दी में जॉन डे मोंटे था, जो कि पेशे से व्यापारी था। बताया जाता है कि डी मोंटे अपनी पत्नी के साथ इस कॉलोनी के एक घर में रहते थे। वह अपनी जिंदगी से काफी दुखी थे और उसकी पत्नी मानसिक रूप से बीमार थी। इसी बीच एक दिन उनके बेटे की मौत हो गई, जिसके बाद रहस्यमई तरीके से डी मोंटे और उनकी पत्नी की भी मृत्यु हो गई। इसके बाद लोगों ने कई बार इस कॉलोनी की सड़कों पर डी मोंटे के भूत को चलते हुए देखा है।

क्या कहते हैं स्थानीय लोग

पालतू जानवर या आवारा जानवर, जो भी इस क्षेत्र में घूमते हैं वह गायब हो जाते हैं

यहां के घरों के सामने पेड़ लगे हुए हैं, जो लोगों के मन में शक पैदा करते हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस कॉलोनी के मालिक का साया आधी रात में घरों और सड़कों पर घूमते हुए देखा गया है। बताया जाता है कि लोगों की सुरक्षा के तहत एक बार कॉलोनी में सुरक्षा गार्ड तैनात किया गया था। अगले दिन वह ड्यूटी की जगह मृत पाया गया। यहां तक कि पालतू जानवर या आवारा जानवर, जो भी इस क्षेत्र में घूमते हैं वह गायब हो जाते हैं। कुछ लोग इस कॉलोनी के करीब रहते हैं। वह कहते हैं कि इस स्थान से अजीबो-गरीब आवाजें आती है और शाम के वक्त कोई भी यहां से गुज़रना नहीं चाहता।

कैसी है अब कॉलोनी की हालत

यह कॉलोनी पूरी तरह से जर्जर हो चुकी है। कॉलोनी के अंदर कई पेड़ देखे जा सकते हैं, जो इस स्थान को और भी डरावना बनाते हैं। यहां पर सफाई ना होने के चलते कई चीजें टूट फूट गई है। यही वजह है कि यह और भी खंडहरनुमा और भयावना दिखता है।

वैसे तो इन कहानियों के पीछे की सच्चाई की कोई ज़िम्मेदारी नहीं लेता, लेकिन ऐसे जगहों के बारे में पढ़ना आपके लिए रोमांचकारी हो सकता है। अक्सर लोग भूत और आत्मा में विश्वास करते हैं, लेकिन ये एक बहस का मुद्दा है कि वाकई में भूत प्रेत होते भी है या हीं, लेकिन ऐसी जगहों से जुड़ी हुई यह कहानियां हमें रोमांचित ज़रुर कर जाती हैं।

यदि आप चेन्नई में रहते हैं, तो आप इस जगह को दिन के उजाले में देख सकते हैं।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..