आपने एनिमल रिज़र्व या अभ्यारण्य के बारे में तो सुना होगा, लेकिन क्या आपने बायोस्फियर रिज़र्व के बारे में सुना है? बायोस्फियर रिज़र्व एक ऐसा रिज़र्व होता है, जहां सिर्फ जंगली जानवरों को ही नहीं, बल्कि पेड़- पौधों से लेकर अन्य जीव जंतुओं को भी संरक्षण प्राप्त है। खास तौर पर यहां इन सभी पर रिसर्च भी की जाती है। ऐसे रिज़र्व की सैर का अनुभव आपको ज़रूर लेना चाहिए। भारत में ऐसे कई रिज़र्व हैं, जहां आप जंगली जानवरों के अलावा जीव-जंतुओं की अन्य किस्मों को भी देख सकेंगे। आइये जानते हैं इन बायोस्फियर रिज़र्व्स के बारे में।

नीलगिरी रिज़र्व

यह तमिलनाडु के मदुमलाई इलाके में बसा हुआ है

नीलगिरि रिज़र्व दक्षिण भारत का एक ऐसा खूबसूरत बायोस्फीयर रिज़र्व है, जो एक नेशनल पार्क भी है। यह तमिलनाडु के मदुमलाई इलाके में बसा हुआ है। दक्षिण भारत की खूबसूरती के बीच बसा के रिज़र्व आपको कई जंगली जानवरों और अनदेखी वनस्पतियों से रूबरू करवाएगा। पहाड़ों की तलहटी में पूर्वी घाटों के बीच यह नेशनल पार्क बसा हुआ है। यहां आपको खूबसूरत वादियों के साथ-साथ रहने की अच्छी व्यवस्था भी मिलेगी। यह फैमिली होलीडे के लिए एक अच्छी जगह है।

पचमढ़ी रिज़र्व

भूवैज्ञानिक जहां रिसर्च के लिए दूर-दूर से आते हैं

मध्य प्रदेश की इस खूबसूरत जगह को किसी हिल स्टेशन से कम मत समझना। पचमढ़ी बायोस्फीयर रिज़र्व पहाड़ों की सतपुड़ा रेंज के अंतर्गत आता है। यहां की मिट्टी में कुछ ऐसी ख़ासियत है कि भूवैज्ञानिक जहां रिसर्च के लिए दूर-दूर से आते हैं। यहां की खूबसूरती देखते ही बनती है। बारिश के दिनों में यहां का वातावरण किसी हिल स्टेशन की तरह होता है, साथ ही यहां मौजूद जंगली जानवरों को बेहद पास से देखने का मौका आपको यहीं मिल सकता है।

सुंदरवन रिज़र्व

बंगाल टाइगर की बड़ी संख्या इसी रिज़र्व में मौजूद है

भारत की वर्ल्ड हेरिटेज साइट सुंदरवन अपने आप में एक अद्भुत जगह है। यदि आपको प्रकृति से प्यार है, तो आपको सुंदरवन बायोस्फीयर रिज़र्व ज़रूर जाना चाहिए। बंगाल टाइगर की बड़ी संख्या इसी रिज़र्व में मौजूद है। यह अनेक तरह के पक्षियों, मगरमच्छों और अन्य सरीसृपों का घर है। यह गंगा के डेल्टा प्रदेशों में से एक है, जो बांग्लादेश की बॉर्डर पर स्थित है।

नंदादेवी रिज़र्व

यहां जाने के लिए सबसे बेहतरीन समय मई से अक्टूबर तक का है

उत्तराखंड के चामोली में बसा नंदादेवी रिज़र्व एक ऐसा बायोस्फीयर रिज़र्व है, जो समुद्र तल से 35 सौ मीटर की ऊंचाई पर बसा हुआ है। यहां ना सिर्फ जंगली जानवरों की, बल्कि वनस्पतियों की भी कई सौ किस्में मिलती है। यह प्रवासी और अप्रवासी पक्षियों के लिए घर की तरह है। साथ ही यहां तितलियों की भी अनदेखी प्रजातियां आप देख सकते हैं। यहां जाने के लिए सबसे बेहतरीन समय मई से अक्टूबर तक का है। यह रिज़र्व फैमिली हॉलिडे के लिए खूबसूरत माना जाता है।

यदि आप भी इस बार किसी बायोस्फियर रिज़र्व की सैर का प्लान बना रहे हैं, तो इन जगहों को ना भूलें।