क्या मेरी तरह आप भी एक किताबी कीड़े हैं, जिसके हाथ में हमेशा कोई ना कोई किताब रहती है? क्या आप भी उनमें से हैं जिनके हाथ से किताब छीन लेनी पड़ती हैं? यदि हां, तो आपको तो पता ही होगा कि आपके पढ़ने की ये आदत आपके लिए कितनी फ़ायदेमंद साबित हो रही है और आपको मानसिक रूप से भी कितना सक्रिय और क्रिएटिव बना रही है। लेकिन अगर आप उनमें से हैं, जिसे अब तक यह पता नहीं चला कि आपके आस-पास के लोग आपको हमेशा पढ़ने के लिए क्यों कहते रहते हैं, तो आपको यह लेख ज़रूर पढ़ना चाहिए।

आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि किताबें पढ़ने से किस प्रकार आपका मानसिक स्वास्थ्य बेहतर होता है।

1. तनाव कम होता है

जिस विषय में आपको रूचि है, उस विषय की किताब पढ़ें और अपना तनाव दूर करें

Image Credit: metiza.com

क्या आप जानते हैं कि पढ़ने से आपका तनाव लगभग 68 प्रतिशत कम हो सकता है !!!!? हैं ना यह एक चौंका देनेवाली बात! इसलिए यदि आप भी अपना तनाव जल्द से जल्द कम करना चाहते हैं, तो किताबें आपका सबसे अच्छा सहारा बन सकती है। आपको बस एक ऐसा विषय चुनना है जिसमे आपकी रूचि हो और आप उस विषय से जुड़ी कोई भी किताब पढ़ सकते हैं। अगर आप पढ़ने शुरू ही कर रहे हैं या आपके पास समय की कमी है, तो आप चुटकुलों की एक किताब भी पढ़ सकते हैं। इसके बाद आप ना सिर्फ अगले कुछ मिनटों तक या घंटो तक व्यस्त रहेंगे, बल्कि आप खुद को चिंताओं और तनाव से मुक्त भी महसूस करेंगे।

2. याद शक्ति और विचार शक्ति बढ़ती है

पढ़ने से आपकी यादशक्ति बढ़ती है।

Image Credit: manipal.edu

नियमित रूप से पढ़ने से आपकी याद शक्ति और एकाग्र रहकर काम करने की शक्ति बढ़ती है। पढ़ने से अल्ज़ाइमर्स होने की संभावना भी कम होती है। पहले ऐसा कहा जाता था कि अल्ज़ाइमर्स 50 की उम्र के बाद होता है, लेकिन कुछ समय पहले ही ऐसा सामने आया है कि आज के दौर में 30-40 की उम्र के लोग भी अल्ज़ाइमर्स का शिकार हो जाते हैं। यदि आप अपनी याद शक्ति, विचार शक्ति, एकाग्रता और सेहत का ध्यान रखना चाहते हैं, तो रोज़ाना कुछ समय निकालकर अपनी पसंदीदा किताबें या लेख पढ़ना शुरू करें। पढ़ना एक सरल और बहुत अच्छी एक्सरसाइज़ है।

3. इमोशनल इंटेलेजन्स बढ़ता है

पढ़ने से इमोशनल इंटेलेजन्स बढ़ता है

Image Credit: indiatimes.in

पढ़ने से शरीर में सकारात्मक एनर्जी बढ़ती है और पढ़ने से आप दूसरों के प्रति ज़्यादा सेंसेटिव भी बनते हैं। जब आप दूसरों की मदद करते हैं या दूसरों के साथ प्रेम से बातचीत और एक अच्छा समय बिताते हैं, तो इसका एक सकारात्मक प्रभाव आपके मानसिक स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। यदि आप एक अच्छी और सकारात्मक किताब पढ़ते हैं, तो किताब में मौजूद सभी सकारात्मक और अच्छी बातों का प्रभाव आपके मूड पर पड़ता है, और अगर आपका मूड अच्छा होता है, तो आप दूसरों के साथ भी अच्छे से पेश आते हैं और खुश रहते हैं। इसलिए अच्छी किताबें और अच्छी चीज़ें पढ़ते रहें।

4. नींद अच्छी मिलती है

पढ़ने से नींद जल्दी आती है।

Image Credit: indiatimes.inmasterfile.com

सोते समय अपने तकनीकी गैजेट्स का उपयोग करने से आपकी नींद खराब हो सकती है। इसके बजाय, आप एक किताब पढ़ सकते हैं। पढ़ने से दिमाग थकता है और उसे आराम की ज़रूरत महसूस होती है, जिसके कारण आपको नींद आती है। साथ ही किताब पढ़ने के कारण आप आराम से, बिना किसी तनाव के हंसी-ख़ुशी सो सकते हैं। इसलिए यदि आप एक अच्छी नींद चाहते हैं, तो सोने से पहले पढ़ना शुरू कर दें।

5. बिना ज़्यादा मेहनत किए जानकार दिख सकते हैं

पढ़ने से बनते हैं आप जानकार

Image Credit: lovelace-media.imgix.net

पढ़ने से आप हमेशा हर जगह जानकार दिख सकते हैं। कौन कहता है कि जानकार बनने के लिए आपको 24 घंटे रिसर्च करनी पड़ती है।
जब तक आप कोई ना कोई दिलचस्प किताब पढ़ते रहेंगे, आपका ज्ञान बढ़ता रहेगा। यदि आपको विश्वास नहीं होता, तो आप खुद आज़माकर देख सकते हैं।