मॉनसून की शुरुआत हो चुकी है। बारिश का मौसम लोगों को बहुत अच्छा लगता है, लेकिन यह अपने साथ ढेरों बीमारियां लेकर भी आता है। ये बीमारियां सिर्फ अंदरूनी नहीं होती, बल्कि बारिश में जमा होनेवाले गंदले पानी की वजह से हमारी त्वचा को भी संक्रमण जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है। इसमें सबसे ज़्यादा संक्रमण का डर रहता है हमारे पैरों को। जब हमारे पेअर बारिश के पानी पड़ते हैं, तो कई तरह के हानिकारक जर्म्स इसमें जमा होते हैं। ऐसे में आपको ज़रुरत पड़ती है पैरों की साफ़-सफाई की। जिसे पैडीक्योर का नाम दिया गया है। आज हम आपको बताएंगे कि पैडीक्योर सिर्फ पैरों की खूबसूरती के लिए नहीं, बल्कि उसकी सेहत के लिए भी बेहद ज़रूरी है। आइये जानते हैं कैसे।

क्यों करें पैडीक्योर?

पेडीक्योर करने से आपकी महीने भर की थकान ही नहीं जाती, बल्कि पैरों की डेड स्किन निकलने से आप तरोताजा महसूस करते हैं

पैडीक्योर पैरों के लिए बेहद ज़रूरी माना जाता है। यह ना सिर्फ पैरों को खूबसूरत बनाता है, बल्कि यह आपकी सेहत के लिए भी बेहद ज़रूरी माना जाता है। पेडीक्योर करने से आपकी महीने भर की थकान ही नहीं जाती, बल्कि पैरों की डेड स्किन निकलने से आप तरोताजा महसूस करते हैं। यह पैरों की स्किन को निखार देता है, साथ ही इससे पांव की डीप क्लीनिंग होती है। इसके अलावा यह पैरों की त्वचा की नमी बरकरार रखते हुए नाखूनों से जुड़ी समस्याओं को भी दूर करता है। इसीलिए महीने में एक बार पेडीक्योर करने की सलाह ज़रूर दी जाती है।

ब्लड सर्क्युलेशन के लिए बेहतर

जैसा कि आप सभी जानते हैं पैडीक्योर का एक ख़ास हिस्सा होता है फुट मसाज, जो ब्लड सर्क्युलेशन के लिए बेहद अच्छा साबित होता है। पैडीक्योर के दौरान जब आपको फुट मसाज दिया जाता है, तब आपके पैरों की मांसपेशियों को आराम मिलता है और उसका खिंचाव दूर होता है।इससे आपकी थकान और पैरों का दर्द ठीक होता है।

स्किन इंफेक्शन से रखे दूर

जब बात करें बारिश के सीज़न की, तो इस सीज़न में त्वचा के संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है। इससे आपको कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। खास तौर पर बारिश में नाखून के आसपास गंदगी बैठ जाती है, जिससे इंफेक्शन का खतरा बढ़ता है। इसीलिए बारिश के दिनों में पैडीक्योर करवाते रहने से पैरों से धूल और हानिकारक बैक्टेरिया निकल जाते हैं और पैरों में फंगस नहीं होता। इसी के साथ पैरों से आने वाली बदबू दूर होती है।

फंगल इंफेक्शन से बचाव

यह पैरों की त्वचा की नमी बरकरार रखते हुए नाखूनों से जुड़ी समस्याओं को भी दूर करता है

यह तो हुई फंगल इन्फेक्शन की बात, लेकिन कई लोगों को फटी एड़ियों की समस्या होती है। हर मौसम में उनकी एड़ियां फटी रहती है। यदि आप हर महीने अच्छी तरह से पेडीक्योर करवाएं, तो पैरों की त्वचा की नमि लौट आएगी और इससे एड़ियों में दरारें नहीं पड़ेंगी। इससे बगैर दवा के इस्तेमाल के आप फटी एड़ियों से निजात पा सकते हैं।

डेड स्किन से छुटकारा

पैडीक्योर के दौरान स्क्रब का प्रयोग किया जाता है। इससे होनेवाले एक्सफोलिएशन की मदद से डेड स्किन से निजात मिलता है।डेड स्किन निकल जाने से आपके पैरों की त्वचा खूबसूरत दिखाई देती है और डेड स्किन से होनेवाली कॉर्न की समस्या नहीं होती। यह कॉर्न बेहद तकलीफदेह होता है, जिसे ठीक करने के लिए कई बार हमें पैरों को ऑपरेट भी करना पड़ता है। पैडीक्योर से आप ऐसी दर्दनाक स्थिति से बच सकते हैं।

यदि आप समय-समय पर पैडीक्योर करवाते रहेंगे, तो आपको पैरों से जुड़ी कई समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..