यदि आप कॉरपोरेट सेक्टर का हिस्सा हैं, तो जीवन में कभी न कभी तो आपको तरक्की ज़रूर मिलेगी और मैनेजमेंट के पद पर काम करने का अवसर भी प्राप्त होगा। ऐसा भी हो सकता है कि आप अपने करियर में इतना आगे बढ़ जाएं कि आपको कंपनी का बॉस बनने का मौका मिले। लेकिन अब सवाल यह उठता है कि आप किस तरह के बॉस बनना चाहते हैं। बतौर बॉस आपके व्यवहार के आधार पर ही आपके कर्मचारियों का भविष्य निर्भर करता है। वैसे तो समय के साथ आप यह समझ ही लेंगे कि आप किस प्रकार के बॉस है और आप के बर्ताव से कंपनी या कर्मचारियों पर किस तरह का प्रभाव पड़ रहा है, लेकिन इतना ध्यान रखें कि आप इनमें से किसी भी प्रकार के बॉस ना बने।

माइक्रोमैनजर

एक बॉस के रूप में अपने कर्मचारियों को सीखने का और ज़िम्मेदारी उठाने का मौका दे

Image Credit: Pexels.com

क्या आपको कभी जीवन में एक माइक्रोमैनेजर बॉस के साथ काम करने का दुर्भाग्य प्राप्त हुआ है? माइक्रोमैनेजर बॉस हमेशा अपने कर्मचारियों के पीछे पड़ा रहता है। वह कभी भी अपने कर्मचारियों पर भरोसा नहीं कर सकता और उसके कर्मचारी भी उसे पसंद नहीं करते हैं। भला किसे अच्छा लगता है कि कोई बॉस उसे हर छोटी छोटी बात पर टोके। घर पर भी जब हमारे माता-पिता हमें छोटी-छोटी बात पर ठोकते हैं, तो हमें अच्छा नहीं लगता है। ऐसा बॉस अपने रवैया के कारण कंपनी का माहौल खराब कर सकता है और साथ ही अपने कर्मचारियों के आत्मविश्वास को भी ठेस पहुंचा सकता है। एक अच्छे बॉस की यह ज़िम्मेदारी होती है कि वह अपने कर्मचारियों को पूरी स्वतंत्रता से काम करने का मौका दें। किसी भी कंपनी या कर्मचारी का सफलता पाना तब तक मुश्किल है जब तक उसे अपने तरीके से या स्वतंत्रता से काम करने का मौका ना दिया जाए। इसीलिए कभी भी एक माइक्रोमैनेजर बॉस ना बने।

ऐसा बॉस जिसको संपर्क करना हमेशा हो मुश्किल

आप चाहे जितने भी व्यस्त हो, लेकिन एक बॉस होने के नाते आपको अपने कर्मचारियों को हमेशा समय देना चाहिए। आपके कर्मचारियों को आपकी ज़रूरत कभी भी पड़ सकती है, फिर चाहे वह किसी सवाल का जवाब पूछने के लिए हो या फिर आप की अनुमति लेने के लिए। आपको उनके लिए हमेशा उपस्थित रहना चाहिए क्योंकि आपकी अनुपस्थिति से उनके काम में रुकावट आ सकती है। एक ऐसा बॉस बने जो अपने कर्मचारियों के समय की कदर करता हो और मुश्किल समय में उनकी मदद करता हो। यदि आप कभी सच में बहुत व्यस्त हो और अपने कर्मचारियों के लिए समय ना निकाल पा रहे हो, तो उनके लिए एक नया बॉस ढूंढ ले और उस बॉस के बॉस बन जाएं। लेकिन कभी भी एक ऐसे बॉस न बने जो अपने कर्मचारियों को समय नहीं देता है।

बॉस जो आपके काम से कभी भी खुश ना हो
क्या आपको याद है स्कूल में अक्सर हमे सिखाया जाता कि कुछ लोगों को पानी से भरा आधा गिलास खाली दिखता है और कुछ लोगों को वही गिलास आधा भरा हुआ दीखता है। यह बॉस भी कुछ इसी प्रकार का होता है जिसे पानी से भरा आधा गिलास आधा खाली लगता है।

हर कोई गलतियां करता है और यह बॉस का काम है कि वे उसको सुधारे और कर्मचारियों को उन ग़लतियों को सुधारने का मौका दे। कर्मचारियों के अच्छे काम की सराहना करना बॉस का काम भी है। कुछ बॉस लेकिन ऐसे होते हैं, जो हमेशा किसी नकारात्मक चीज़ पर ही नज़र रखते और कभी भी अच्छे प्रदर्शन की सराहना नहीं करेंगे, लेकिन छोटी-छोटी गलतियों पर प्रतिक्रिया देंगे। यह एक बॉस है जो किसी भी कर्मचारी को तुरंत नौकरी छोड़ने के लिए प्रेरित कर सकता है। हम उम्मीद करते हैं कि आप ऐसे बॉस नहीं बनेंगे।

This is aawaz guest author account