तुलसी हमारे देश में सिर्फ एक पौधा ही नहीं हैं, बल्कि देवी की तरह इसकी पूजी भी की जाती है। लेकिन जहां एक तरफ तुलसी की पूजा करते हैं वहीं दूसरी ओर तुलसी हमारे स्वास्थ्य को लिए भी बहुत ही फ़ायदेमंद है। आज हम आपको तुलसी के बारे में कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं। तुलसी के पौधे की पत्तियां और बीज दोनों ही औषधीय गुण रखते हैं, इसीलिए तुलसी के बीज का महत्व भी उसकी पत्तियों की तरह ही है। आइए जानते हैं तुलसी का सेवन करने के कुछ और फायदे।

अक्सर बारिश के मौसम में सर्दी, जुकाम, डेंगू जैसी बीमारियां और संक्रमण फैलते हैं। लेकिन यदि हम तुलसी की पत्तियों का काढ़ा बनाकर पिएं, तो इन संक्रमण से बचाव होता है। इस काढ़े को बनाने के लिए तुलसी के 10 पत्ते और 4 लौंग मिलाकर एक गिलास पानी में उबालें। जब पानी आधा रह जाए तब थोड़ा सा सेंधा नमक डालकर गर्म चाय की तरह इसे पिएं।

बुखार में भी तुलसी बेहद फायदेमंद मानी जाती है

बुखार में भी तुलसी बेहद फायदेमंद मानी जाती है। बुखार ज़्यादा होने पर मरीज़ को तुलसी की पत्तियों को दालचीनी के पाउडर के साथ आधा लीटर पानी में उबालकर, उसमें गुड और थोड़ा दूध मिलाकर दिया जाता है। इससे बुखार उतरने लगता है और इम्यूनिटी बढ़ती है। साथ ही सिर दर्द होने पर तुलसी का रस और कपूर मिलाकर प्रभावित जगह पर लगाने की सलाह दी जाती है। इससे सिर दर्द में भी आराम मिलता है।

कई महिलाएं हैं जिन्हे मासिक धर्म के दौरान बहुत तकलीफ होती हैं। पीरियड की अनियमितता की वजह से अक्सर महिलाओं को परेशानी उठानी पड़ती है। ऐसे में तुलसी के बीज का सेवन करना चाहिए। मासिक चक्र की अनियमितता को दूर करने के लिए भी तुलसी के पत्तों का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए।

यदि आप सांस की दुर्गंध से परेशान है, तो तुलसी के पत्ते इसके लिए भी फायदेमंद माने जाते हैं। नैचुरल होने की वजह से इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता और यह आपके मुंह की बदबू को दूर कर देते है।

नैचुरल होने की वजह से इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता

यहां तक कि यदि आपको स्किन संबंधित समस्याएं हैं तो तुलसी के पत्तों को लगाने से आराम मिलता है। खास तौर पर कील मुहांसों पर इसका असर साफ तौर पर देखा जा सकता है।

बारिश के मौसम में अक्सर पेट खराब होने की शिकायत भी लोग करते हैं। ऐसे में यदि आप को दस्त की समस्या हुई है, तो तुलसी के पत्तों का सेवन करना आपके लिए फायदेमंद होगा। इसीलिए तुलसी के पत्तों को जीरे के साथ पीसकर इसे दिन में 3 से 4 बार खाएं। ऐसे में दस्त रुक सकते हैं।

यदि आप भी तुलसी के पत्तों का प्रतिदिन सेवन करेंगे, तो आपको इसके अनगिनत फायदे हो सकते हैं।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..