बहुत बार ऐसा होता है जब आपको अस्वस्थ महसूस होता है, जी मचलता है और ऐसा लगता है जैसे शरीर में कुछ अजीब सा हो रहा है। ऐसे समय में लोग ऐसा सोचते हैं कि उनके हॉर्मोन्स में कुछ गड़बड़ है या उनके शरीर में हार्मोनल इम्बैलेंस है। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि आप जो भी खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं, उसका सीधा असर आपके हॉर्मोन्स पर पड़ता है। अपने हॉर्मोन्स को नियंत्रण में रखने के लिए आपको अपने भोजन पर ध्यान देना होगा।

चीनी है सबसे ज़्यादा हानिकारक

इसका स्वाद भले ही अच्छा हो, लेकिन इसके सेवन से शरीर पर जो प्रभाव पड़ता है, वह बिल्कुल अच्छा नहीं है।
इसका स्वाद भले ही अच्छा हो, लेकिन इसके सेवन से शरीर पर जो प्रभाव पड़ता है, वह बिल्कुल अच्छा नहीं है।

कॉफी,चाय, जूस या फिर आपका प्रोटीन बार, आप अनजाने में ही सही, लेकिन सबके माध्यम से बहुत सारी चीनी ले लेते हैं। चीनी के कारण शरीर में इंसुलिन की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे शरीर के सबसे अहम हॉर्मोन्स – प्रोजेस्टेरोन, एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन के बीच असंतुलन पैदा होता है। इसलिए आपको अपने भोजन में मिठास लाने के लिए सफेद चीनी के बदले पाम शुगर या गुड़ का इस्तेमाल करना चाहिए।

सोया भी होता है हानिकारक

सोया का सेवन करना करें कम
सोया का सेवन करना करें कम

सोया का प्रभाव आपके हॉर्मोन्स पर बहुत तेज़ी से होता है। ज़्यादातर लोग इस बात से वाक़िफ़ है कि सोया खाने से हॉर्मोन्स में बहुत से बदलाव आते हैं। इसलिए बेहतर यही है कि आप सोया खाना कम करें। सोया के अत्यधिक सेवन से आपके एंडोक्राइन ग्लैंड में प्रभाव पड़ सकता है।

फार्म्ड एनिमल्स का मीट

यह मीट स्वादिष्ट तो है, लेकिन सेहतमंद नहीं
यह मीट स्वादिष्ट तो है, लेकिन सेहतमंद नहीं

फार्म्ड एनिमल्स के लाल मीट को खाना दुनिया भर में लोग बहुत पसंद करते हैं। लेकिन क्या आप जानते है कि इस लाल मीट से आपके हॉर्मोन्स पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। इस प्रकार के मीट के सेवन से शरीर के सात हॉर्मोन्स पर बुरा प्रभाव पड़ता है। साथ ही, एक व्यक्ति की इम्यूनिटी, न्यूरोलॉजिकल, डेवलपमेंटल और जेनेटिक गतिविधियों पर भी असर पड़ता है।

सफेद ब्रेड खाना छोड़े

ब्रेड को सेहतमंद समझना बंद करें!
ब्रेड को सेहतमंद समझना बंद करें!

बहुत से लोगों ने हाल ही में, ग्लूटेन-फ्री ब्रेड खाना शुरू किया है। लेकिन लोग यह नहीं जानते हैं कि ये ब्रेड भी सफ़ेद ब्रेड का एक प्रोसेस्ड वर्जन ही है, इसलिए इसके सेवन से भी आपके हॉर्मोन्स में समान प्रभाव पड़ता है। ग्लूटेन और चीनी, दोनों एक साथ खाने से आपके एड्रेनल ग्लैंड्स में बुरा प्रभाव पड़ सकता है। इस कारण शरीर में सूजन तेज़ी से बढ़ती है।

हॉर्मोन्स हमेशा आपके स्वास्थ्य की स्थिति को प्रभावित करते हैं। इसलिए कहा जाता है कि फिट रहने का मतलब है कि शरीर में हर आवश्यक हॉर्मोन का सही मात्रा में होना।