गर्मियां आते ही धूप और उमस से पसीना निकलता है। लू के थपेड़े शरीर पर ऐसा वार करते हैं कि स्किन पर रैशेज और घमौरियों की समस्या हो जाती है। स्किन की यह परेशानी गर्मियों में आम बात है और यह बड़ों के साथ-साथ बच्चों को भी खूब होती है क्योंकि उनकी पसीने की ग्रंथियां निर्माणाधीन होती हैं। घमौरी को मेडिकल भाषा में मिलिएरिया रूब्रा कहा जाता है।

इसके होने से शरीर पर लाल-लाल फुंसियां हो जाती हैं जिनमें बहुत ही ज्यादा खुजली चलती है। यह गर्दन, पीठ, अंडरआर्म्स और शरीर की उन जगहों पर होती हैं जहां गर्मी के संपर्क में स्किन आ जाती है और कपड़ों की वजह से होने वाले घर्षण से फुंसियां होने लगती हैं।

पसीने की ग्रंथियों से पसीना निकलना बंद हो जाता है और नतीजतन इससे लाल फुंसियां हो जाती हैं और उनमें खुजली पैदा हो जाती है। हालांकि यह कुछ दिनों और एक हफ्ते के भीतर भी ठीक हो जाती हैं और यह उतनी गंभीर समस्या उत्पन्न नहीं करती और इसमें किसी चिकित्सीय परामर्श की भी जरुरत नहीं पड़ती। आप छोटी-छोटी सावधानियां बरतकर भी घमौरी से बच सकते हैं। आइये आपको बताते हैं कि घमौरी होने पर उसका उपचार कैसे करें और क्या सावधानियां बरतें।

छोटी-छोटी सावधानियां बरतकर आप भी बच सकते हैं घमौरी से

कैलामाइन लोशन से मिलेगी राहत

Image Credit: medicalnewstoday.com

डॉक्टर आर.पी.पटेल के अनुसार, घमौरी मुख्यतः गर्म वातावरण के संपर्क में आने से पनपती है। इसलिए कोशिश करें कि बहुत देर तक धूप या उमस वाली जगह पर न रहना पड़े। अगर बेहद गर्मी में बाहर निकलना ही पड़े तो कॉटन के या ढीले कपड़े पहनकर निकलें। ज्यादा टाइट कपड़े पहनने से शरीर की पसीने की ग्रंथियों को पसीना निकालने में परेशानी होती है नतीजतन वो घमौरी का रूप ले लेती हैं।

इसके अलावा जब भी ऐसा कोई काम जिसे करने से पसीना आये जैसे खेल-कूद, वर्कआउट, रनिंग आदि करें तो घर आकर या तो नहा लें या फिर पसीने वाले कपड़ों को तुरंत बदलकर हल्के आराम दायक कपड़े पहन लें। इससे आपकी पसीना निकालने वाली ग्रंथियां अवरुद्ध नहीं होंगी और घमौरी की आशंका भी नहीं पैदा होगी। घमौरी को रोकना चाहते हैं तो उनपर हल्के-हल्के से बर्फ रगड़ें, ठन्डे पानी से उस स्थान को बार-बार धोएं जहां घमौरी हुई हैं। इसके अलावा मार्केट में आसानी से कैलामाइन लोशन भी मिल जाता है जिसे लगाने से भी स्किन रैशेज आसानी से खत्म हो जाते हैं। ठंडी जगह जैसे एसी या कूलर के सामने बैठें, खूब पानी पिएं और हल्का भोजन करें।

This is aawaz guest author account