अप्रैल का महीना शुरू होते ही समूचा उत्तर भारत गर्मी से तपने लगा है। गर्मियों के मौसम में अधिकांश लोगों को आपने थकान, आलस और सुस्ती की शिकायत करते सुना होगा। जापानी भाषा में एक शब्द ‘नत्सुबाते’ कहा गया है जिसे गर्मियों में होने वाली इन्हीं समस्याओं से जोड़कर देखा जाता है। ‘नत्सुबाते’ (Natsubate) का अर्थ है – ‘नत्सु’ यानी गर्मी और ‘बाते’ मतलब आगे बढ़ने में आने वाली कठिनाई। तो गर्मियों में मौसम में ऐसा क्यों होता है कि हमें ज़्यादातर समय थकान, आलस और सुस्ती बनी रहती है ? और इन लक्षणों से बचने के लिए कौन से उपाय सबसे कारगर हैं आइए जानते हैं।

1-मेलाटोनिन हॉर्मोन एक बड़ी वजह

डॉक्टर उमेश शुक्ला के मुताबिक, गर्मी के मौसम में अक्सर धूप में निकलते ही आपको थकान और आलस का अनुभव होता है तो जान लीजिये इसके पीछे की बड़ी वजह मेलाटोनिन हॉर्मोन है। मेलाटोनिन हॉर्मोन हमारे मूड़ को संतुलित रखने के लिए बेहद ज़रूरी होता है। सूरज की तेज़ रौशनी में जाने से शरीर में गर्मी पैदा होती है, जिसके चलते मेलाटोनिन के उत्पादन की गति धीमी हो जाती है और इसी वजह से थकान और आलस जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

कैसे करें बचाव-

शरीर के तापमान को सामान्य रखने के लिए कोशिश करें कि जब भी आप धूप में निकलें सनग्लासेज ज़रूर पहनें और छाते का प्रयोग करें। जहां तक हो सके कोशिश करें कि तेज़ धूप में आपको कहीं बाहर ना निकलना पड़े।

गर्मी में नहीं होगी थकान, अगर फॉलो करेंगे ये टिप्स

डिहाइड्रेशन से भी बचना ज़रूरी

Image Credit: timesofindia

2-डिहाइड्रेशन एक मुख्य वजह

गर्मियों के मौसम में शरीर से पसीना कुछ ज्यादा ही आता है और यह वजह बनता है डिहाइड्रेशन की। डिहाइड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी होना जिसके कारण लगातार चक्कर आना और थकान होने की समस्या से दो चार होना पड़ता है।

कैसे करें बचाव-

गर्मियों में डिहाइड्रेशन होना एक सामान्य बात है इससे बचाव के लिए ज़रूरी है कि आप थोड़े-थोड़े अंतराल पर लिक्विड डाइट जैसे नींबू पानी, ताजे फलों का जूस लेते रहें। गर्मियों में हल्का खाना जो आपके पाचन को आसान बनाये, भी डिहाइड्रेशन और कब्ज की समस्या से बचने का एक कारगर उपाय है।

3-तापमान में बदलाव

गर्मियों में हम में से अधिकतर लोग ठंडी जगहों जैसे कूलर या एसी में बैठते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अचानक ठंडी जगह से निकलकर गर्म वातावरण में जाने से शरीर के तापमान में बदलाव आता है। और यह सुस्ती या थकान की एक बड़ी वजह बनता है। अचानक एसी से निकलकर गर्म तापमान में जाने से आपको लू भी लग सकती है।

कैसे करें बचाव-

कोशिश करें कि ठंडी जगह से अचानक निकलकर गर्म वातावरण में ना जाएं। यदि जाना ज़रूरी ही है तो एसी या कूलर की ठंडी हवा से निकलकर 10 मिनट सामान्य तापमान वाली जगह पर रुकें। इससे शरीर का तापमान सामान्य हो जायेगा और आप सुस्ती और थकान की समस्या से खुद को काफी हद तक बचा सकेंगे।

4-नमक की कमी

गर्मी के मौसम में सुस्ती और थकान की एक बड़ी वजह शरीर में नमक की कमी होना भी है। पसीने के साथ शरीर में मौजूद नामक का तत्व उड़ जाता है जिसके चलते सोडियम की कमी होने लगती है। यही वजह है कि गर्मियों में सिरदर्द, सुस्ती, थकान के साथ ही मांसपेशियों से जुड़े दर्द की शिकायत अधिकांश लोग करते हैं।

कैसे करें बचाव-

शरीर में होने वाली नमक की कमी से बचने के लिए एक्सपर्ट्स इलेक्ट्रोलाइट ड्रिंक का सेवन करने की सलाह देते हैं। इसके सेवन से आपके शरीर में नमक सामान्य स्तर पर बना रहता है और थकान, आलस और सुस्ती जैसे लक्षण काफी हद तक कम हो जाते हैं।

This is aawaz guest author account