आजकल महिलाओं के लिए घर बैठे-बैठे प्रेग्नेंसी टेस्ट करना आसान हो गया है। बाज़ार में कई ऐसी प्रेग्नेंसी टेस्ट किट उपलब्ध हैं, जिसकी मदद से अब आराम से कुछ ही मिनटों में प्रेग्नेंसी का पता चल जाता है। लेकिन कई बार हम कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं, जिससे हमें सहीं रिज़ल्ट नहीं मिलता। कई बार महिलाओं में गर्भावस्था के लक्षण दिखाई देने के बाद भी प्रेग्नेंसी टेस्ट निगेटिव बताता है। तो ऐसा क्या करें कि प्रेग्नेंसी टेस्ट का रिज़ल्ट सही आए?

इसका जवाब दिया है गायनोकोलॉजिस्ट डॉ शेफाली मेहता ने। शेफाली कहती हैं, ‘घर पर प्रेग्नेंसी किट से गर्भावस्था की जांच करना पहला चरण माना जाता है। इसलिए डॉक्टर के पास जाकर इसे सुनिश्चित करना आपके लिए ज़रूरी है। वहीं प्रेग्नेंसी की जांच करने से पहले कुछ बातों का ख़याल रखने पर आपको प्रेग्नेंसी की सहीं जानकारी मिलती है।

प्रेग्नेंसी किट पर दी गई बातों को ठीक से पढ़ने के बाद इसे फॉलो करें

credit: motherandbaby.co.uk

यूरिन टेस्ट

डॉ शेफाली की माने तो सुबह उठने के बाद पहले यूरिन से ही ये टेस्ट करना चाहिए। ऐसा करने से परिणाम गलत भी नहीं आता और आपका समय भी बचता है। वहीं प्रेग्नेंसी किट पर दी गई बातों को ठीक से पढ़ने के बाद इसे फॉलो करें और इसका इस्तेमाल करें।

एक और चेकअप ज़रूरी

हमेशा पहले चेकअप के 72 घंटों बाद इसे दोबारा चेक करें। यदि गर्भावस्था के लक्षण हैं और रिज़ल्ट निगेटिव आये हैं, तो एक बार और 72 घंटों में चेक करना आपके लिए ज़रूरी है। अक्सर शरीर में एचसीजी हार्मोन के बढ़ने की वजह से ये टेस्ट निगेटिव हो सकता है, इसलिए दोबारा चेक करने पर आपको सही रिज़ल्ट मिलते हैं।

टेस्ट से पहले पानी या जूस जैसे पेय नहीं पीने चाहिए

credit: timeincuk.net

कितने दिन बाद टेस्ट?

अक्सर लोगों को पता नहीं होता कि उन्हें सबंध बनाने के कितने दिनों बाद टेस्ट करना है। कंसीव करने के 10 दिनों के बाद से ही यूरीन के ज़रिये प्रेग्नेंसी का पता लगाया जा सकता है। वहीं टेस्ट से पहले पानी या जूस जैसे पेय नहीं पीने चाहिए, इससे एचसीजी हार्मोन पर असर पड़ता है और टेस्ट निगेटिव दर्शा सकता है।

रखें सावधानी

यदि प्रेग्नेंसी टेस्ट पॉज़िटिव आया है, तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाकर परिक्षण करवाना चाहिए। इसके बाद जो दवाइयां डॉक्टर लिखें, उसे सावधानी से समय-समय पर लेना चाहिए। इसके अलावा डॉक्टर के निर्देशों का सख्ती से पालन करना भी आपके लिए बेहद ज़रूरी है, क्योंकि प्रेग्नेंसी के पहले तीन माह बेहद संवेदनशील माने जाते हैं।

यदि आप इन बातों का ख़याल रखेंगी, तो प्रेग्नेंसी टेस्ट हमेशा सहीं जानकारी देगा।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणीप्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..