नारियल तेल की खूबियों के बारे में आज सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि बाकी दुनिया भी बात कर रही है। ये एक ऐसा तेल है जिसके लगभग आपके शरीर और स्वास्थ्य से जुड़े हर मुद्दे पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। भारतीयों घरों और रसोइयों में तो नारियल के तेल का इस्तेमाल कई पुश्तों से किया जाता है।

और अब आ रही है ऐसे खबर जिसने दुनिया भर के स्वास्थ्य विशेषज्ञों को हैरान कर दिया है।

हाल ही में जर्मनी के यूनिवर्सिटी ऑफ़ फ़्रॉबर्ग में एक समारोह हुआ जहां प्रोफेसर कैरिन मिशेल्स ने अपनी बात पेश की जो खान पान से जुड़ी गलतियों के बारे में थी। इसमें उन्होंने ये कहा कि नारियल का तेल दरअसल हमारे शरीर के लिए ज़हर की तरह काम करता है। इस के बाद ही पूरी दुनिया में इसको लेकर एक विवाद सा छिड़ गया है जहां हर कोई इस बात को समझने में लगा है कि क्या वाकई ये तेल ज़हर के बराबर है, या फिर क्या सदियों से चली आ रही प्रथा को अब भी हम बिना किसी परेशानी के इस्तेमाल कर सकते हैं।

क्या नारियल का तेल हमारे लिए अच्छा नहीं है?

कई सालों से दुनिया भर के न्यूट्रिशनिस्ट ये कह रहे हैं कि खाने में थोड़ा नारियल का तेल मिलाने से आपका वज़न घट सकता है। ये ना केवल आपको अंदर से तन्दरुस्त और सेहतमंद बनाता है, बल्कि बाहर से भी आपकी त्वचा और आपके बालों के लिए काफी लाभदायक साबित होता है।

ये कहा जाता है कि नारियल के तेल में काफी मात्रा में अच्छा फैट है और साथ ही medium chain triglycerides भी हैं जो आपकी सेहत के लिए अच्छा साबित होते हैं और आपके वज़न को ज़्यादा बढ़ने से भी रोकते हैं।

जैसे ही नारियल तेल को ज़हरीला कहा गया, सेलेब्रिटी फ़िटनेस एक्सपर्ट Rujuta Diwekar ने अपने Instagram पेज पर ये लिखा। इसमें उन्होंने ये बताया है कि फ़ूड और वेट लॉस इंडस्ट्री का ये हमेशा का ही तरीका रहा है कि पहले आप एक खाने को अच्छा बोल दीजिये और फिर कुछ समय बाद ये कह दीजिये कि इसे खाना आपके लिए हानिकारक है। लोगों के सवालों और चिंता को कम करने के लिए वो कह रही हैं कि अगर कोई ऐसा खाना है, जैसे कि नारियल का तेल, जो आपके घर या परिवार में सदियों से इस्तेमाल किया गया है और जिसके सेहत से जुड़े फायदों के बारे में आप सुनते आये हैं, तो आप निश्चिन्त होकर उसे एक सुपरफूड मान सकते हैं और खा सकते हैं।

सेहत का क्या है नाता

नारियल के तेल में पाए जाने वाला medium chain fatty acids या MCFAs आपके शरीर में आसानी से पच जाते हैं और इसी वजह से ये फैट में तब्दील नहीं होते हैं। वहीं दूसरी ओर ऐसे कई अन्य वेजीटेबल ऑइल हैं जिनमें long chain fatty acids पाए जाते हैं, जो पचने में काफी वक़्त लेते हैं और शरीर में फैट में भी तब्दील हो जाते हैं।

नारियल तेल में जो भी फैट है उसका लगभग ५० प्रतिशत मोनोलॉरिन में तब्दील हो जाता है। ये आपके शरीर को बैक्टीरिआ, कीटाणु और अलग अलग रोगों से बचाने में भी मदद करता है।

अगर आपके मन में अब भी कोई शंका है तो आप डॉक्टर से बात कर सकते हैं और ये पूछ सकते हैं कि आप कितना नारियल का तेल इस्तेमाल कर सकते हैं जिससे आपके सेहत को कोई नुक्सान ना पहुंचे।