हेपेटाइटिस दुनिया का सबसे आम लीवर इंफेक्शन है। इस इन्फेक्शन में बैक्टीरिया और वायरस हमारे लीवर पर धावा बोलते हैं, जिसकी वजह से हेपेटाइटिस हो सकता है। इस वायरस के पांच प्रकार होते हैं, जिसमें से ए और ई के मामले अधिकतर देखने को मिलते हैं। वहीं बी और सी सबसे ज़्यादा खतरनाक हेपेटाइटिस माना जाता है। ए और ई इन दोनों वायरस का संक्रमण दूषित पानी और भोजन से होता है, वहीं बी, सी और डी वायरस संक्रमित व्यक्ति के रक्त और बॉडी फ्लूइड से फैलते हैं।

क्या है हेपेटाइटिस?

वायरल इन्फेक्शन के चलते लीवर में होने वाली सूजन को हेपेटाइटिस कहते हैं। यह आमतौर पर वायरल इन्फेक्शन से फैलता है। लेकिन इसके अलावा हेपेटाइटिस, ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस और मेडिकेशन, अल्कोहल के चलते भी हो सकता है।

हेपेटाइटिस के प्रकार

वायरल हेपेटाइटिस 5 तरह के होते हैं। लीवर के वायरल इन्फेक्शन को ए,बी,सी,डी और ई से जोड़ा गया है। इस तरह के इंफेक्शन के लिए वायरस ज़िम्मेदार होते हैं।

हेपेटाइटिस ए

हेपेटाइटिस ए वायरस से होने वाला यह सबसे आम हेपेटाइटिस है। इसका संक्रमण दूषित पानी और भोजन से होता है। आमतौर पर इस संक्रमण का शिकार होने वाले लोग जल्द ही ठीक हो जाते हैं।

हेपेटाइटिस बी, सी , डी  

यह ख़तरनाक होता है। इसका वायरस हेपेटाइटिस बी से संक्रमित व्यक्ति के बॉडी फ़्लूइड से फैलता है। इसकी सबसे भयावह बात यह है कि आमतौर पर मरीज़ को पता ही नहीं होता कि वो इस वायरस से संक्रमित है, ऐसा इसलिए क्योंकि इसका कोई लक्षण नहीं दिखाई देता।

हेपेटाइटिस ई

यह संक्रमित पानी के ज़रिए फैलनेवाला हेपेटाइटिस का प्रकार है। आमतौर पर साफ़-सफ़ाई के अभाव में यह वायरस फैलता है।मानव मल में भी हेपेटाइटिस ई के वायरस की मौजूदगी होती है।

क्या है हेपेटाइटिस के लक्षण?

हेपेटाइटिस के आम लक्षणों में थकान, फ्लू, पेशाब में पीलापन, पेट दर्द, भूख कम लगना, अचानक वजन कम होना, पीलिया की तरह त्वचा और आंखें पीली होना इत्यादि माने जाते हैं।

कैसे करें रोकथाम?

इसकी रोकथाम के लिए साफ सफाई पर ध्यान देने की ज़रूरत है। पर्सनल हाइजीन को अपनाकर हम इसे रोक सकते हैं। वहीं इसके कई वैक्सीनेशन भी मौजूद है। हेपेटाइटिस ए और बी को रोकने के लिए टीके लगाए जा सकते हैं।

इस तरह सावधानी रखकर हम हेपेटाइटिस से दूरी बनाए रख सकते हैं।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..