गर्भावस्था महिलाओं के लिए सबसे अच्छे उपहारों में से एक है। लेकिन यह उपहार उनके लिए कई चुनौतियां और उनके जीवन में बदलाव लेकर आता है। शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तनों से लेकर खाने की आदतों तक, एक महिला का शरीर इस समय के दौरान विभिन्न पड़ावों से गुजरता है। उन्हें एक पोषक तत्व युक्त डाइट का पालन करने की सलाह दी जाती है जो माँ और बच्चे दोनों के विकास के लिए महत्वपूर्ण है। महिलाओं को दो लोगों के लिए खाना है और खाना दोनों के लिए पूरी तरह से सुरक्षित होना चाहिए। एक स्वस्थ आहार में निस्संदेह बहुत सारे फल, सब्जियां और अनाज शामिल होते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ ऐसे फल हैं जिन्हें गर्भावस्था के दौरान खाने से बचना चाहिए। हां, आपने सही पढ़ा, ऐसे कई फल हैं जो किसी भी गर्भवती महिला को सेवन न करने की सलाह दी जाती है। आज हम आपको बताते हैं उनके बारे में…

भोपाल की डायटीशियन स्वर्णा व्यास के मुताबिक, सबसे पहले, बिना पके हुए फलों का सेवन कभी नहीं करना चाहिए क्योंकि उनमें कीटनाशक हो सकता है और कभी-कभी मिट्टी में टोक्सोप्लाज्मा परजीवी होता है, जो जानवरों के मल में मौजूद होता है,यह काफी खतरनाक होता है। वहीं, डायबिटीज की शिकार महिलाओं को मां बनने के दौरान हाई शुगर वाले फलों को खाने से बचना चाहिए।

अनानास

गर्भवती महिलाओं को इस फल से दूर रहने की सलाह दी जाती है। अनानास में एक हाई ब्रोमेलैन कंटेंट होता है जो एक प्रकार का एंजाइम होता है और यह गर्भाशय सर्विक्स को मुलायम करता है जिससे यह गर्भाशय के संकुचन को भी ट्रिगर कर सकता है। यह जल्दी लेबर पेन को प्रेरित कर सकता है जो माँ और बच्चे दोनों के लिए अच्छा नहीं है। इसके अलावा, बड़ी मात्रा में अनानास का सेवन करने से डिहाइड्रेशन और दस्त की समस्या हो सकती है।

अंगूर

अंगूर को सबसे पौष्टिक फलों में से एक के रूप में जाना जाता है, लेकिन कई एक्सपर्ट्स ने गर्भवती महिलाओं पर उनके प्रभाव पर सवाल उठाया है। उनमें बहुत सारे रेस्वेराट्रोल कंपाउंड होते हैं जो उनकी स्किन में मौजूद होते हैं। यह कंपाउंड जहरीला और विषैला होता है और मां बनने वाली महिलाओं के लिए हानिकारक हो सकता है। इसके अलावा, गर्भवती महिलाओं का पाचन तंत्र इस समय काफी कमजोर होता है और काले अंगूर पचाने में मुश्किल होते हैं।

पपीते से लेकर तरबूज़ तक, गर्भवती महिलाओं को नहीं खाने चाहिए ये फल

पपीता खाने से हो सकता है गर्भपात

Image Credit: toiimg.com

पपीता

गर्भवती महिलाओं को पपीता से दूर रहने की सलाह इसलिए दी जाती है क्योंकि इसका द्वारा सेवन किए जाने पर गर्भपात का खतरा हो सकता है। पपीते में लेटेक्स होता है जो गर्भाशय के संकुचन को ट्रिगर करता है और जो खतरनाक हो सकता है। साथ ही, कब्ज जैसी समस्याओं से राहत के लिए इनका सेवन किया जाता है। लेकिन अगर बड़ी मात्रा में पपीता खाया जाता है, तो वे डायरिया का कारण बन सकते हैं जिससे गर्भाशय पर दबाव पड़ सकता है।

तरबूज़

गर्मियों में खाए जाने वाले सबसे बेहतरीन फलों में से एक है तरबूज। यह ना सिर्फ खाने में बेहद टेस्टी होते हैं बल्कि हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने में भी काफी मददगार होते हैं। तरबूज में विटामिन- C के साथ ही विटामिन A भी होता है जो इन्फेक्शन रोकने में बेहद कारगर होता है।तरबूज की पानी की मात्रा शरीर को हाइड्रेट रखती है। लेकिन गर्भवती महिलाओं को इसके सेवन से बचने की सलाह दी जाती है। दरअसल, यह शरीर से हानिकारक विषाक्त पदार्थों को भी बाहर निकालता है लेकिन ऐसा करते समय बच्चा इन विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आ जाता है जो शिशु के लिए अच्छा नहीं होता है। साथ ही, इस फल का अधिक मात्रा में सेवन करने से डायबिटिज से जूझने वाली महिलाओं में ब्लड शुगर का लेवल बढ़ सकता है।

This is aawaz guest author account