टी-ट्री ऑयल एक बहुउपयोगी तेल है जिसका इस्तेमाल त्वचा, बालों और नाखूनों को स्वस्थ रखने सहित कई उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। टी-ट्री ऑयल मूलतः ऑस्‍ट्रेलिया में पाए जाने एक ख़ास किस्म के पेड़ से निकाला जाता है। साइंटिफिक तौर पर जहां टी-ट्री ऑयल को इस्तेमाल करने के ढेरों फायदे हैं, वहीं इसकी कीमत भी सुविधाजनक होने से अधिकांश लोग इसका इस्तेमाल बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं। आज हम आपको टी-ट्री ऑयल के फायदों के बारे में बताएंगे।

सैनेटाइज़र के तौर पर इस्तेमाल

भोपाल के डॉक्टर उमेश शुक्ला के मुताबिक, टी-ट्री ऑयल का इस्तेमाल आप सैनेटाइज़र के तौर पर भी कर सकते हैं। जी हां, टी-ट्री ऑयल के इस्तेमाल से कई कॉमन बैक्टीरिया जिनसे सर्दी, बुखार और जुखाम होने के चांसेज होते हैं, मारे जाते हैं। आपको बता दें कि कई कंपनियां अपने सैनेटाइज़र में टी-ट्री ऑयल का इस्तेमाल करती हैं, जिनसे इसकी गुणवत्ता और असर बढ़ जाता है।

कीट-पतंगों को रखे दूर

टी-ट्री ऑयल के उपयोग से कीट-पतंगों, यहां तक की मक्खी और मच्छरों तक की रोकथाम की जा सकती है। यह हम नहीं कहते, बल्कि हालिया स्टडीज से यह बात साबित होती है। गाय के ऊपर की गई टी-ट्री ऑयल के इस्तेमाल से जुडी एक स्टडी बताती है कि,इस ऑयल के इस्तेमाल के बाद 24 घंटे तक गाय के ऊपर मक्खियों का बैठना 61 % तक घट गया था। कुछ रिपोर्ट्स का यहां तक दावा है कि टी-ट्री ऑयल के इस्तेमाल से मच्छरों से जुड़ी समस्या से भी निजात पाई जा सकती है।

टी-ट्री ऑयल के इन फायदों के बारे में नहीं जानते होंगे आप

पसीने की दुर्गन्ध को रोकता है ऑयल
पसीने की दुर्गन्ध को रोकता है ऑयल

प्राकृतिक डिओडोरेंट

क्या आपको पता है कि टी-ट्री ऑयल में मौजूद एंटी बैक्टेरियल फ़ॉर्मूला शरीर से आने वाली पसीने की दुर्गंध को रोकने की ताकत रखता है। एक्सपर्ट्स की मानें तो टी-ट्री ऑयल एक प्राकृतिक डिओडोरेंट है जिसका इस्तेमाल शरीर की दुर्गन्ध को रोकने के लिए बड़े ही कारगर ढंग से किया जा सकता है।

इन्फेक्शन से बचाए

टी-ट्री ऑयल में मौजूद मेडिसिनल गुण इसे एक बेहतरीन एंटीसेप्टिक भी बनाता है। शरीर में कहीं छिलने पर या कहीं स्किन इन्फेक्शन होने पर टी-ट्री ऑयल का प्रयोग करना बेहद लाभदायक होता है। यह ना सिर्फ आपको इन्फेक्शन से बचाता है, बल्कि बहुत जल्दी घाव भरने का काम भी करता है। आपको करना सिर्फ इतना है कि जिस स्थान पर चोट लगी हो वहां एक बूंद टी ट्री ऑयल को नारियल के तेल के साथ मिलकर लगायें।

मुंह के लिए फ़ायदेमंद

कुछ स्टडीज से यह पता चलता है कि टी-ट्री ऑयल का इस्तेमाल करना हमारी ओरल हेल्थ के लिए भी लाभकारी है। आपको करना सिर्फ इतना है कि हफ्ते में दो दिन टी-ट्री ऑयल से अपने मसूड़ों की हल्की-हल्की मसाज करनी है। ऐसा करने से आपके मुंह से आने वाली दुर्गंध काफी हद तक कम हो जाएगी, साथ ही मसूड़ों के दर्द से भी काफी राहत मिलेगी।

डैंड्रफ को नियंत्रित करे

टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल डैंड्रफ को नियंत्रित करने के लिए भी होता है। एक स्टडी से पता चलता है कि जिन शैम्पू में टी-ट्री ऑयल का इस्तेमाल किया गया था उनके उपयोग से डैंड्रफ 40% तक नियंत्रित हो गई। आप यदि डैंड्रफ को नियंत्रित करना चाहते हैं तो बालों को शैम्पू करते समय उसमें कुछ बूंदें टी ट्री ऑयल की भी मिला लें इससे ना सिर्फ बालों को मजबूती मिलेगी, बल्कि डैंड्रफ को नियंत्रित करने में भी बड़ी मदद मिलेगी।

दाग धब्बे और मुहासों को हटाने में कारगर

महिलाओं के लिए टी-ट्री ऑयल का इस्तेमाल खासा फायदेमंद है। एक्सपर्ट की मानें तो फेस पर आने वाले दाग, धब्बों और मुहासों से मुक्ति दिलवाने के लिए टी-ट्री ऑयल बेहद कारगर है। आपको करना सिर्फ इतना है कि फेस पर जहां भी ऐसी कोई समस्या हो वहां कॉटन की मदद से दो -चार बूंद टी ट्री ऑयल लगाएं। इसके बाद कुछ देर रुकें और ठंडे पानी से फेस को धो लें, ऐसा करने के बाद धीरे-धीरे आपके फेस पर पहले जैसी ही रौनक लौट आएगी।

This is aawaz guest author account