हम क्या खाते हैं इसका सीधा असर हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है। खाने-पीने से जुड़ी ज़रा सी लापरवाही के कारण हमें गंभीर परिणाम तक भुगतने पड़ सकते हैं। हालांकि, आज कल की दौड़भाग भरी ज़िन्दगी में अधिकांश लोग खाने-पीने की ऐसी ही गंभीर लापरवाहियों का आसान शिकार बन रहे हैं। इसमें सबसे आगे है डिब्बाबंद खाने का सेवन। डिब्बाबंद या पैकेज्ड फ़ूड भले ही खाना बनाने का हमारा समय और मेहनत बचाता हो लेकिन एक्सपर्ट्स की मानें तो यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद नुकसानदायक साबित हो सकते हैं। इससे ना सिर्फ बॉडी फैट बढ़ने का ख़तरा रहता है, बल्कि हार्ट से जुड़ी बीमारियों के होने के चांसेज भी बढ़ जाते हैं। नियमित रूप से डिब्बाबंद फ़ूड का सेवन करना क्यों खतरनाक है आइये जानते हैं।

कैमिकल्स का उपयोग

भोपाल की डायटीशियन अमिता सिंह के अनुसार ज्यादातर डिब्बाबंद पैकेज्ड फ़ूड में प्रिजर्वेटिव का इस्तेमाल किया जाता है। यह इसलिए ताकि लंबे समय तक खाने-पीने की चीजों को संभाल कर रखा जाए। बस यहीं से सारी गड़बड़ी होना शुरू हो जाती है। दरअसल, खाने को लंबे समय तक सुरक्षित रखने के चक्कर में इसमें विभिन्न कैमिकल्स को मिलाया जाता है। प्राकृतिक खाने के विपरीत कैमिकल्स मिले इन फूड्स को खाने से शरीर को नुकसान होने के चांसेज बढ़ जाते हैं।

कॉलेस्ट्रोल और फैट

ज्यादातर पैकेज्ड फ़ूड में कॉलेस्ट्रोल और फैट का हाई लेवल होता है और इनके सेवन से दिल और गुर्दे की बीमारी होने के चांसेज बढ़ जाते हैं। आपका ज़रा सा स्वाद आपको बड़ी मुसीबत में डाल सकता है। इसलिए भले ही आप अपना पसंदीदा पैकेज्ड फ़ूड खा रहे हों लेकिन उसमें कितनी मात्रा में कॉलेस्ट्रोल और फैट है यह अवश्य चेक करें।

जानिए पैकेज्ड फ़ूड के नुकसान

गंभीर बीमारी का होता है खतरा

पाचन के लिए ख़राब

पैकेज्ड फ़ूड के सेवन से पाचन से जुड़ी समस्याओं से दो-चार होना पड़ सकता है। अधिकांश पैकेज्ड फ़ूड पाचन के लिहाज से सही नहीं होते हैं। ऐसे में इन्हें खाने से आपको गैस, कब्ज दस्त और अपच आदि की समस्या से दो चार होना पड़ सकता है। एक्सपर्ट्स की मानें तो यदि कोई व्यक्ति लगातार और लंबे समय तक डब्बाबंद फ़ूड का सेवन करता है तो उसे अल्सरेटिव कोलाइटिस जैसी गंभीर बीमारी होने के चांसेज कई गुना तक बढ़ जाते हैं।

मोटापा बढ़ाए

डिब्बाबंद फ़ूड की विशेषता होती है कि यह खाने में बहुत ही एडिक्टिव होते हैं। इसका मतलब डिब्बाबंद फूड्स खाने में बेहद स्वादिष्ट होते हैं। लेकिन इनमें मौजूद हाई शुगर लेवल इसे बेहद खतरनाक बना देते हैं। आपको बता दें कि हालिया स्टडीज में इस बात का खुलासा हुआ है कि पैकेज्ड फूड को खाने से मोटापा बढ़ता है। यही नहीं लंबे समय तक प्रिसर्व रहने वाले इन खाने की चीज़ों में शक्कर की अच्छी खासी मात्रा होती है, जिसके चलते यह शरीर में मौजूद इंसुलिन की मात्रा को अनियंत्रित कर सकते हैं। इसलिए डायबिटीज के पेशेंट्स को डिब्बाबंद खाने से सख्त परहेज करना चाहिए।

दिल की बीमारी को न्योता

डिब्बाबंद खाने में शक्कर के साथ ही बतौर प्रिजर्वेटिव नमक का भी इस्तेमाल किया जाता है। बाज़ार में मिलने वाले चिप्स, बर्गर, सैंडविच में इसका इस्तेमाल होता है। ऐसे में इन्हें खाने से शरीर में नमक की मात्रा नेचुरल सीमा से ऊपर पहुंच जाती है। यह अवस्था आपको हाई ब्लड प्रेशर और दिल की बीमारियों के करीब ले जाती है। इसलिए यदि आपको हाईबीपी की समस्या है तो डिब्बाबंद फ़ूड खाने से पहले अच्छे से एक बार सोच विचार कर लें।

पोषक तत्वों का भाव

एक संतुलित भोजन में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फैट और चीनी का सही कॉम्बिनेशन होना चाहिए। डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों में यह पोषक तत्व सही मात्रा में नहीं होते हैं और कभी-कभी तो डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ किसी भी पोषक तत्व से रहित होते हैं। ऐसे में इन्हें खाने से आपको किसी भी तरह से फायदा नहीं होता है।

This is aawaz guest author account