वैसे तो दूध अपने आप में एक संपूर्ण आहार माना जाता है, इसे रोज़ाना पीने की सलाह डॉक्टर देते हैं। इसमें मौजूद विटामिन्स और मिनरल्स की वजह से इसे किसी भी समय पीया जा सकता है। लेकिन आयुर्वेदिक नियमों के अनुसार दूध के साथ कुछ आहारों का सेवन ठीक नहीं माना जाता। दूध के साथ इन चीजों को खाने से आपके शरीर को नुकसान पहुंच सकता है।आइए जानते हैं, ऐसी कौन सी चीज़ है, जिसे दूध के साथ नहीं खाना चाहिए।

नींबू, कटहल और दूध

दूध के साथ नींबू, कटहल, करेला या फिर नमक का सेवन नहीं करना चाहिए। ये आपको फायदा नहीं, बल्कि नुकसान पहुंचाएंगे। इससे आपकी तबियत खराब हो सकती है और आपको डॉक्टर के पास जाना पड़ सकता है। लंबे समय तक इन चीजों को दूध के साथ खाने से दाद, खाज, खुजली, एक्जिमा सोरायसिस जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

उड़द दाल और दूध

आयुर्वेदिक डॉक्टरों की माने तो दूध के साथ मूंग, उड़द, चना आदि दालें, गाजर, शकरकंद, आलू, तेल, गुड़, शहद, दही, नारियल, लहसुन जैसी नमक युक्त व अम्लीय व्यंजन नहीं लेना चाहिए। दूध पीने के कम से कम 2 घंटे के बाद इन चीजों का सेवन करना चाहिए। यदि आप उड़द दाल के साथ दूध पीते हैं, तो आपको हार्ट अटैक का खतरा बढ़ सकता है।

दूध और मूली

दूध को कभी भी खट्टी और नमकीन चीजों के साथ नहीं लेना चाहिए। यदि आपने किसी खाद्य पदार्थ में मूली का प्रयोग किया है, तो इसके बाद दूध नहीं पीना चाहिए। ऐसा होने से शरीर में जाकर दूध विषैला बन सकता है और इससे त्वचा संबंधी रोग होने की आशंका रहती है। मूली से बनी चीजों को खाने के कम से कम 2 घंटे बाद ही दूध पीना चाहिए।

मछली और दूध

मछली की तासीर काफी गर्म होती है इसीलिए इसे दूध से बने किसी खाद्य पदार्थ के साथ नहीं खाना चाहिए। दूध के साथ मछली खाने से गैस, एलर्जी, त्वचा संबंधी समस्याएं और पेट दर्द की शिकायत हो सकती है। इसीलिए मछली खाने के बाद दूध पीना टालना चाहिए।

दूध और फल

कहते हैं कि दूध के साथ फल लेने से दूध के अंदर पाया जाने वाला कैल्शियम फलों के एंजाइम को एब्सॉर्ब कर लेता है। खास तौर पर संतरा और अनानास जैसे खट्टे फल दूध के साथ नहीं लेने चाहिए। अक्सर लोग केले के साथ दूध खा लेते हैं, जो सही नहीं माना जाता। केला कफ बढ़ाता है और दूध भी कफ बढ़ाता है, अगर आप दोनों को साथ खाएं, तो पाचन क्रिया पर भी इसका असर पड़ सकता है और आपको खांसी सर्दी जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

तो अगली बार दूध के साथ इन चीजों को खाने में सावधानी बरतें, जो आपको आपके स्वास्थ्य को हानि पहुंचा सकते हैं।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..