बालों की देखभाल के लिए हम क्या क्या नहीं करते। कभी महंगे शैम्पू से बाल धोना, तो कभी महंगे हेयर ट्रीटमेन्ट लेना। कभी गरमा-गरम तेल से मालिश तो कभी घर पर बने हर्बल पैक का इस्तेमाल। इन सब के बावजूद बालों में वो चमक और मज़बूती हम नहीं देख पाते, जिसकी हमें इच्छा होती है। यही वजह है कि बालों को डैमेज होते देर नहीं लगती। यदि आप भी डैमेज बालों से परेशान हैं, तो इन उपायों से अपने डैमेज बालों का ख़ास ख़याल रख सकती हैं। आइये जानते हैं कौन सी हैं ये टिप्स।

ना छोड़ें बालों को खुला

घर से निकलते वक्त स्कार्फ का इस्तेमाल हमेशा करें

हर वक्त बाल खुले छोड़ने के कारण आपके बाल डैमेज हो सकते हैं, इसलिए आपको हेयरस्टाइल की मदद से बालों को बांधकर रखना चाहिए। ऐसा करने से आपके बाल हवा और प्रदुषण की मार से बच जाएंगे और डैमेज नहीं होंगे।

स्कार्फ का करें इस्तेमाल

जब भी आप बाहर निकलती हैं, तो प्रदुषण, धूल-मिट्टी और धूप की वजह से आपके बालों की नमी ख़त्म होने लगती है। इसके अलावा सिर की त्वचा यानी कि स्कैल्प में गन्दगी जमने लगती है। ऐसा होने की वजह से बालों की जड़ को नुकसानन पहुंचता है और बालों को पोषण ना मिलने की वजह से वे खराब होने लगते हैं। इसलिए घर से निकलते वक्त स्कार्फ का इस्तेमाल हमेशा करें।

कंडीशनर चुनते हुए रखें ध्यान

बालों को सहीं नमी देने और बालों में नेचुरल ऑइल बनाए रखने के लिए हमेशा माइल्ड शैम्पू का इस्तेमाल करें

मुंबई के फेमस डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ मूर्ति की माने तो हर व्यक्ति के बाल अलग-अलग तरह के होते हैं। इसलिए आपके बालों के लिए शैम्पू और कंडीशनर का चुनाव सहीं तरह से किया जाना चाहिए। बालों को सहीं नमी देने और बालों में नेचुरल ऑइल बनाए रखने के लिए हमेशा माइल्ड शैम्पू का इस्तेमाल करें। इसके अलावा कंडीशनर का चयन ध्यान से करें। ऑइली और ड्राय बालों के अनुसार आपको अलग-अलग तरह के कंडीशनर का इस्तेमाल करना चाहिए।

ट्रिमिंग है अच्छा उपाय

आपके बालों की सहीं ग्रोथ के लिए ज़रूरी है कि आप हमेशा बालों को ट्रिम करवाएं। ऐसा करने से पतले और डैमेज बाल ख़त्म हो जाते हैं और दो मुहे बालों से छुटकारा मिलता है। इसलिए हर 2 महीनों में बालों की ट्रिमिंग करवाने की सलाह एक्सपर्ट देते हैं।

यदि आप इन टिप्स को अपनाते हैं, तो कुछ ही समय में डैमेज बालों से छुटकारा पा सकते हैं।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..