बारिश के दिन आ चुके हैं और मॉनसून में जहां आपको ठंडी हवा और रोमानी मौसम मिलता है, वहीं इस मौसम के साथ आते हैं कीड़े मकोड़े। यह बरसाती कीड़े हमें अक्सर परेशानी में डाल देते हैं। रात को सोते वक्त या काम करते वक्त ये आपको काटने पर उतारू हो जाते हैं। इनके काटने पर कई बार तेज दर्द, जलन और सूजन का सामना करना पड़ता है। लेकिन आज हम आपको कुछ घरेलू नुस्खों से अवगत कराएंगे, जो आपको इन तकलीफों से बचा सकते हैं।

बर्फ की सिंकाई: अगर आपको बरसाती चींटी, मधुमक्खी, बर्रे या किसी अन्य कीड़े ने काटा है और इसकी वजह से आपकी स्किन लाल हो गई है, तो उस जगह पर तुरंत बर्फ लगाएं। बर्फ को एक टॉवल में लेकर उसे 20 मिनट तक कीड़े के काटे हुए भाग पर रखें। इससे आप को ठंडक भी मिलेगी और  रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाने से दर्द और खुजली का एहसास नहीं होगा।

टूथपेस्ट: यदि आपको किसी चींटी, मधुमक्खी या ततैया ने काट लिया है, तो प्रभावित जगह पर तुरंत टूथपेस्ट लगाएं। टूथपेस्ट में एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो दर्द और सूजन को कम कर देते हैं। इसमें मौजूद मिंट आपको जलन से राहत दिलाता है।

Try brushing with a fresh minty toothpaste

तुलसी की पत्तियां: चींटी, मच्छर, मधुमक्खी और अन्य बरसाती कीड़े जब काटते हैं, तो इससे खुजली जलन और सूजन की समस्या होती है। इसीलिए प्रभावित जगह पर तुलसी की पत्तियों को रगड़ें। इससे जलन की समस्या तो ठीक होगी ही, साथ ही आपको इंफेक्शन का खतरा नहीं होगा। प्रभावित जगह पर 10 मिनट तक तुलसी के पत्ते रगड़ने पर आपको समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।

यह दर्द और खुजली से भी तत्काल राहत देता है

शहद: कीड़े के काटने पर तत्काल राहत चाहते हैं तो शहद एक बढ़िया उपाय है। शहद में मौजूद एंजाइम कीड़े के जहर को बेअसर कर देते हैं। यह दर्द और खुजली से भी तत्काल राहत देता है। इसके अलावा इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जिससे जलन कम होती हैं। इस तरह आप शहद में एक चम्मच हल्दी मिलाकर प्रभावित हिस्से पर लगा सकते हैं। इससे आपको लंबे समय तक राहत मिल जाएगी।

यदि आप पर भी बारिश के कीड़ों का कहर होता है, तो यह उपाय आपके लिए है!

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..