गुस्सा, जो इंसान के सोचने-समझने की ताकत ख़त्म कर देता है, यह आपकी सेहत को कितना नुकसान पहुंचाता है? क्या आप जानते हैं इसके बारे में? ये गुस्सा ना सिर्फ आपकी शारीरिक सेहत बल्कि मानसिक स्थिति को भी बेहद नुकसान पहुंचाता है। इसलिए ज़रुरत है कि आप अपने गुस्से पर कंट्रोल करे। लेकिन यदि आपको जल्दी गुस्सा आ जाता है और आसानी से ये शांत नहीं होता तो ये टिप्स आपके लिए बेहद मददगार साबित हो सकती है।

लें गहरी सांस

आप चाहें तो गिनती की मदद से सांस लेने और छोड़ने का अभ्यास कर सकते हैं।

 credit: istockphoto.com

यदि आपको अक्सर तेज़ गुस्सा आता है, तो गहरी सांस लेना आपके लिए बेहद फ़ायदेमंद हो सकता है। जब आप गहरी सांस लेते हैं, तो शरीर की मांसपेशियां ढीली पड़ने लगती है और आप आराम महसूस करते हैं। आप चाहें तो गिनती की मदद से सांस लेने और छोड़ने का अभ्यास कर सकते हैं।

खुद से बात करें

जब आपको तेज़ गुस्सा आ रहा हो, तो खुद से बात करना आपके लिए फ़ायदेमंद होगा। ऐसा करने पर आप सकारात्मक सोचने लगते हैं और खुद को समझाने की कोशिश करते हुए गुस्से से बाहर आ सकते हैं। खुद को समझाइए कि कोई भी वजह आपकी सेहत से ज़्यादा महत्वपूर्ण नहीं है।

संगीत करेगा मदद

जब आप गुस्से में होते हैं, तो आपको नकारात्मकता घेर लेती है। ऐसे में जब आप अपना पसंदीदा गाना सुनते हैं, तो आपको बेहतर महसूस होता है। ये आपको उस वक्त की याद दिलाता है, जिस वक्त में आप खुश थे। इस तरह आप सामान्य होते चले जाते हैं। गुस्से को शांत करने के लिए आप हैपी म्यूज़िक का सहारा ले सकते हैं।

माफ़ करिये

कहते हैं ना, जो जैसा बोएगा, वैसा ही पाएगा। इसलिए आपके लिए ज़रूरी है कि आप लोगों को माफ़ करना सीखें। किसी व्यक्ति पर गुस्सा होने से बेहतर है आप ये समझें कि उसे उसके किये का फल मिल जाएगा। इसके लिए आपको गुस्सा कर अपनी सेहत बिगाड़ने की ज़रुरत नहीं है।

मन को करें मज़बूत

आपको गुस्सा कर अपनी सेहत बिगाड़ने की ज़रुरत नहीं है।

 credit: indianwomenblog.org

जब आप मन को मज़बूत बनाते हैं, तो छोटी-छोटी बातें आपका मानसिक संतुलन नहीं बिगाड़ पातीं। इसलिए खुद को इस तरह से ट्रेन करें कि आप पर किसी की कही हुई बात का असर ना हो। इसके लिए खुद को अच्छी लाइफस्टाइल में ढालें और पूरी नींद लें।

यदि आप इन टिप्स को फॉलो करेंगे, तो कुछ ही मिनटों में अपने गुस्से पर काबू पा सकेंगे।

मेरी आवाज़ ही पहचान है! संगीत मेरी कल्पना को पंख देता है.. किताबी कीड़ा, अडिग, जिद्दी, मां की दुलारी.. प्राणी प्रेम ऐसा कि लोग मुझे लगभग पागल समझते हैं! खाने के लिए जीनेवाली और हद दर्जे की बातूनी.. लेकिन मेरा लेखन आपको बोर नहीं करेगा..